कल से शुरू हो रहा है आस्‍था का महापर्व, एक क्लिक में पढ़ें…

कोलकाताः छठ पूजा का पर्व कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। इस बार छठ के पर्व की शुरुआत 28 अक्टूबर से होगी और 31 अक्टूबर को इसका समापन होगा। छठ पूजा के दिन सूर्यदेव और षष्ठी मैया की पूजा की जाती है। साथ ही इस दिन शिव जी की पूजा भी की जाती है। इस त्योहार को सबसे ज्यादा बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बंगाल में मनाया जाता है। साथ ही इसे नेपाल में भी मनाया जाता है। इस त्योहार को सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है। छठ पूजा का पर्व संतान के लिए रखा जाता है। यह 36 घंटे का निर्जला व्रत रखा जाता है।

 

36 घंटे का निर्जला व्रत

इस दिन छठ पूजा की शुरुआत होती है। इस दिन को नहाय खाय के नाम से जाना जाता है। इस दिन व्रत करने से पहले एक बार ही खाना होता है। उसके बाद नदी में स्नान करना होता है। नहाय खाय 28 अक्टूबर को है।

दूसरा दिनखरना

छठ का दूसरा दिन खरना कहलाता है। इस दिन सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक महिलाओं का व्रत रहता है। शाम को सूर्यास्त के तुरंत बाद, व्रत तोड़ा जाता है। उसके बाद भोजन तैयार किया जाता है। उसके बाद भोग सूर्य को अर्पित किया जाता है। व्रत का तीसरा दिन दूसरे दिन के प्रसाद के ठीक बाद शुरू होता है। खरना 29 अक्टूबर को है।

तीसरा दिनअर्घ्य

छठ पूजा का तीसरे दिन सबसे प्रमुख दिन माना जाता है। इस मौके पर शाम के समय भगवान सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है और बांस की टोकरी में फलों, ठेकुआ, चावल के लड्डू आदि से अर्घ्य के सूप को सजाया जाता है। इसके बाद, व्रती अपने परिवार के साथ मिलकर सूर्यदेव को अर्घ्य देता हैं और इस दिन डूबते सूर्य की आराधना की जाती है। पहला अर्घ्य 30 अक्टूबर को है। इस दिन सूर्यास्त का समय सुबह 05 बजकर 37 मिनट रहेगा।

चौथा दिनउषा अर्घ्य

यह अर्घ्य उगते हुए सूरज को दिया जाता है। इसे उषा अर्घ्य कहते हैं. 36 घंटे के व्रत के बाद ये अर्घ्य दिया जाता है। ये 31 अक्टूबर को छठ का आखिरी दिन होगा। इस दिन सूर्योदय का समय 06 बजकर 31 मिनट रहेगा।

छठ पूजा के दिन इन बातों का रखें ध्यान

इस दिन जरूरतमंदों और गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए। छठ पूजा का प्रसाद बनाते समय नमकीन वस्तुओं को हाथ नहीं लगाना चाहिए। भगवान सूर्य को स्टील, प्लास्टिक, शीशे, चांदी आदि के बर्तन से अर्घ्य नहीं देना चाहिए। इस दिन गरीब लोगों में खाना बांटा जाए तो छठ माता हर मनोकामना पूरी करती हैं।

छठ के दिन क्या उपाय करने चाहिए

 जो लोग संतान प्राप्ति करना चाहते हैं वो लोग छठ के दिन 108 बार इस मंत्र का जाप करें ” ऊं ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय नम: “।

 जिन लोगों की नौकरी नहीं लग रही है या घर में आर्थिक समस्या आ रही है, वो लोग इस दिन सूर्यदेव के मंत्र ” ऊं घृणिः सूर्याय नमः ” का जाप करें।

 संतान की सुख समृद्धि के लिए इस दिन भगवान सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए और पशु पक्षियों को गेहूं के आटे और गुड़ से बना व्यंजन खिलाना चाहिए।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

डायमण्ड हार्बर में शुभेंदु की सभा से पहले हंगामा, घरों व वाहनों में आगजनी

कांथी में अवरोध करने में मुझे 3 सेकेंड लगते : शुभेंदु सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शनिवार को डायमण्ड हार्बर में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी की सभा आगे पढ़ें »

ममता बनर्जी को दिया धोखा, उपचुनाव हो तो शुभेंदु की हार निश्चित

कांथी : नंदीग्राम में शुभेन्दु की जीत पर अभिषेक बनर्जी ने सवालिया निशान लगाया और दावा किया कि फिलहाल यहां का मामला अदालत में है, आगे पढ़ें »

ऊपर