देवी-देवताओं के लॉकेट गले मे पहनने से पहले सावधान, ये है कुछ नियम !

कोलकाताः आजकल लोग फैशन के लिए गले में लॉकेट, अंगूठी, हाथों में कड़ा समेत कई वस्तुएं धारण करते हैं। वहीं अक्सर आपने देखा होगा कि कुछ लोग गले में या फिर हाथों में देवी-देवताओं के लॉकेट, रुद्राक्ष, स्फटिक माला भी पहनते हैं। यूं तो ज्यादातर लोग इसे फैशन के लिए पहनते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये आपके जीवन पर शुभ और अशुभ दोनों प्रभाव डाल सकते हैं? जी हां, वास्तु कहता है कि आप जो भी करते हैं उसका पॉजिटिव या निगेटिव असर आपकी जिंदगी पर पड़ता है। इसलिए अगर आप भी किसी भी तरह के देवी-देवताओं वाले लॉकेट गले में धारण करते हैं तो उससे पहले इन बातों को जरूर जान लें।

देवी-देवताओं वाली लॉकेट न करें धारण

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो कभी भी देवी-देवताओं वाले या फिर उनकी बनावट वाले लॉकेट नहीं पहननी चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक, रोजमर्रा की जिंदगी में शरीर पर गंदगी लग जाती है और वो लॉकेट में भी जमा होती है। वहीं कई बार ऐसा होता है कि बिना हाथ धोए ही लोग गंदे हाथ से लॉकेट पहन लेते हैं जो भगवान का अपमान है। इससे घर में नकारात्मक शक्तियां हावी हो सकती है। साथ ही आपको जीवन में कई परेशानियों का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए भगवान वाले लॉकेट पहनने से मना किया जाता है।

लॉकेट पहनना है तो करें ये उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शुभ प्रभावों के लिए आप देवी-देवताओं से संबंधित यंत्र धारण कर सकते हैं। अगर यंज्ञ वाले लॉकेट को विधि से धारण किया जाए तो जीवन में पॉजिटिविटी आती है और कुंडली में अगर कोई दोष है तो वो भी समाप्त हो जाता है।

ये लॉकेट होते हैं शुभ

वास्तु शास्त्र के अनुसार, चांदी, पीतल और तांबे से बना लॉकेट शुभ माना जाता है। लेकिन वास्तु कहता है कि किसी भी धातु को बिना जानकारी के धारण नहीं करना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रेडियो के जरिए लोगों को साइबर क्राइम के प्रति जागरूक कर रही है कोलकाता पुलिस

अगले दो महीने तक रेडियो पर चलेगा विज्ञापन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता पुलिस के साइबर सेल की ओर से महानगर में विभिन्न तरह के साइबर क्राइम आगे पढ़ें »

इन 5 मौकों पर घर में कभी नहीं बनानी चाहिए रोटी, टूट पड़ता है दुखों का पहाड़

कोलकाता : आपने एकादशी पर अक्षत यानी चावल न बनाने के शास्त्रीय नियमों के बारे में तो सुना ही होगा। लेकिन क्या आपको पता है आगे पढ़ें »

ऊपर