कंझावला केस में ‘सबसे बड़ा कबूलनामा’, आरोपियों ने खोला वो राज जिसका सबको था इंतजार

नई दिल्लीः दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, कंझावला कांड में बड़ा खुलासा हुआ है। आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में कबूल किया है कि उन्हें पता था कि अंजलि उनकी कार के नीचे फंस गई है, पर वो डर के चलते गाड़ी सड़क पर दौड़ाते रहे। इस दौरान कंझावला तक के रूट में उन्होंने कई बार गाड़ी यू टर्न ली। आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि उन्हें डर था कि कहीं लड़की को गाड़ी से निकाला तो हत्या का केस लग जाएगा वो और बुरे फंस जाएंगेअंजलि केस में गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में कबूला कि इसी वजह से एक्सीडेंट होने के बाद आरोपियों ने लड़की को कार के नीचे से निकालने की कोशिश नहीं की। आरोपी बेहद डरे हुए थे और इसलिए वह गाड़ी को बार-बार घुमा रहे थे।

तेज म्यूजिक की कहानी थी झूठी

आरोपी ने पुलिस पूछताछ में कबूल किया कि उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वह कहां जाएं जब तक कि लड़की उनकी गाड़ी के नीचे से निकल नहीं जाती। उन्होंने पहले पुलिस को तेज म्यूजिक सिस्टम की जो कहानी बताई थी वह झूठी थी। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि डर की वजह से वो गाड़ी लेकर भाग गए, लेकिन थोड़ी दूर जाकर उनको लगा कि लड़की गाड़ी के नीचे ही फंसी हुई है तो उन्होंने लड़की को गाड़ी से निकालने के लिए 4 बार यू टर्न लिया। बीच-बीच में गाड़ी को काफी तेज भी भगाया।

आरोपी जानते थे कि हरियाणा की तरफ जाने पर हरियाणा पुलिस के बेरिकेड और चेकिंग हो सकती है। इसलिए 13 किलोमीटर के रास्ते मे पुलिस की चेकिंग ना होने की वजह से आरोपी कंझावला रोड पर ही गाड़ी को बार-बार यू टर्न लेकर घुमाते रहे। करीब 2 घंटे तक 40 से 50 किलोमीटर गाड़ी 13 किलोमीटर के दायरे में चलाई। इस दौरान आरोपी आशुतोष से लगातार फोन पर बात कर रहे थे, जिसके घर पर बाद में इन्होंने गाड़ी लगाई थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

तृणमूल सांसद शिशिर ने बेटे शुभेंदु की तारीफ की, कहा – बंगाल को राह दिखा रहा है

पुलिस पर लगाया आरोप, तृणमूल की भौंहें तनीं सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : तृणमूल सांसद शिशिर अधिकारी ने कांथी में राज्य पुलिस की भूमिका की आलोचना की। वहीं आगे पढ़ें »

स्वान के 4 बच्चों को कुचलनेवाला ऐप कैब ड्राइवर गिरफ्तार

पोस्ता के काली कृष्ण टैगौर स्ट्रीट की घटना सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : चारों भाई-बहन एक साथ दिन भर खेलते रहते थे। गुरुवार की शाम चारों का सड़क आगे पढ़ें »

ऊपर