मैं दियारे में नहीं शहर में रहूंगी, तुम्हारे घर में भूत है!

बलियाः मैं दियारे में नहीं शहर में रहूंगी, तुम्हारे घर में भूत है। लाख समझाने के बाद भी विवाहिता ने किसी की एक न मानी। पति का साथ छोड़कर मायके चली गई। परिजनों ने भी हार मान ली। पति-पत्नी के बीच का ये मामला थाने पहुंचा तो चर्चा का विषय बना रहा। घटना बलिया जिले के मनियर थाना क्षेत्र की है। क्षेत्र निवासी एक युवक की शादी वर्ष 2021 में पकड़ी थाना क्षेत्र के एक गांव में हुई थी। शादी के बाद पत्नी ससुराल आई। उसके ससुराल आने के बाद दियारा क्षेत्र में बाढ़ आ गई। बाढ़ के बाद विवाहिता मायके चली गई। उसके बाद आने का नाम ही नहीं ले रही थी। कुछ दिन बाद पंचायत हुई। इसके बाद विवाहिता किसी तरीके से गांव आई। कुछ दिन बाद फिर ससुराल में न रहने की जिद ठान ली। करीब डेढ़ वर्ष बाद विवाहिता ने ससुराल में यह कहते हुए रहने से मना कर दिया कि मैं दियारे में नहीं रहूंगी। साथ ही ये भी कहा कि तुम्हारे घर में भूत है। पत्नी ने दियारे में रहने से मना कर दिया तो पति ने कहा कि ठीक है। दियारे में मत रहो। गांव में मेरा घर है वहां रहो। वहां भी विवाहिता रहने से मना कर दिया। कहा कि शहर में रहूंगी।

जब पति ने उसे शहर में रखने में असमर्थता जताई तो पत्नी ने आरोप लगाया कि तुम्हारे घर में भूत है। मैं तुम्हारे घर नहीं रह सकती। इस संबंध में पंचायत भी हुई। लाख मान मनौव्वल किया गया। मामला मनियर थाने पर भी पहुंचा, लेकिन विवाहिता जिद पर अड़ी रही।

अंत में विवाहिता का संबंध उसके पति से छूट गया। विवाहिता अपने मायके चली गई। इस संबंध में एसओ प्रवीण सिंह ने बताया कि महिला को बहुत समझाया गया, लेकिन वह ससुराल नहीं रहना चाहती थी। दोनों पक्ष के परिजनों ने आपस में समझौता कर लिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

डायमण्ड हार्बर में सुकांत के सामने भिड़े भाजपाई, पार्टी ने कहा, राजनीतिक विवाद नहीं

डायमण्ड हार्बर में सुकांत के सामने भिड़े भाजपाई, पार्टी ने कहा, राजनीतिक विवाद नहीं सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शनिवार को डायमण्ड हार्बर में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुकांत आगे पढ़ें »

घर के सामने जमा होता है पानी, सौरभ ने मेयर को दी चिट्ठी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर की सड़क पर जलजमाव की समस्या कोई नयी नहीं है। फिलहाल मानसून का समय आने में देरी है, लेकिन सौरभ गांगुली आगे पढ़ें »

ऊपर