क्या आपने फेंक दिये हैं मास्क और सैनिटाइजर ? हो जाइये सावधान

चीन से भारत में कोविड आने में लगे थे 3 से 4 महीने
चीन के नये वैरिएंट बीएफ.7 के 3 मामले भारत में
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : समय के साथ-साथ मास्क और सैनिटाइजर का जमाना जैसे लोग भूलते जा रहे हैं। कोविड काल में जहां लोगों के चेहरे पर हमेशा मास्क और साथ में सैनिटाइजर होता था, वहीं कोविड कम होने के साथ – साथ अब काफी लोगों ने इन दोनों को संभवतः अपने घरों से फेंक भी दिया होगा। क्या आपने भी कुछ ऐसा ही किया है ? तो हो जाइये सावधान। ऐसा इसलिए क्योंकि चीन समेत कई देशों में एक बार फिर कोरोना फैल चुका है। अब भारत में भी चीन के नये वैरिएंट बीएफ.7 के 3 मामले भारत (गुजरात में 2 व ओडिशा में 1) में सामने आ चुके हैं। इधर, चीन में तो जीरो कोविड पॉलिसी खत्म होते ही कोरोना विस्फोट हुआ है और लाखों की संख्या में लोग यहां कोविड से संक्रमित हैं। अस्पतालों की स्थिति भी काफी खराब है और मरीजों को बेड भी मिलने में मुश्किल हो रही है। ना केवल चीन बल्कि जापान, संयुक्त राज्य अमेरिका, कोरिया, ब्राजील में भी कोविड फिर बढ़ गया है। ऐसे में एक बार फिर भारत के लिए यह खतरा ना बढ़ जाये, इसके लिये अभी से सावधान होने की आवश्यकता है।
केंद्र सरकार ने की समीक्षा बैठक
केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने कोविड को लेेकर समीक्षा बैठक की। इससे पहले केंद्र सरकार द्वारा निर्देशिका जारी कर कहा गया ​कि राज्यों को जीनोम सीक्वेंसिंग में जुटना होगा। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है कि कोरोना के वैरिएंट पर निगरानी रखने के लिए पाजिटिव सैंपल की पूरी जीनोम सीक्वेंसिंग पर पूरा ध्यान दिया जाए। कोरोना वायरस के संक्रमण को साप्ताहिक आधार पर 12 हजार मामलों तक सीमित किया जा सका है, लेकिन दुनिया में इसका खतरा पूरी तरह टला नहीं है। यहां उल्लेखनीय है कि विश्वभर में एक हफ्ते में कोरोना के 35 लाख नए मामले सामने आए हैं।
क्या है पश्चिम बंगाल की स्थिति
पश्चिम बंगाल में गत एक सप्ताह की कोविड की स्थिति पर गौर करें तो आंकड़ों के अनुसार, राज्य में कोविड फिलहाल पूरी तरह सामान्य स्थिति में है। गत 13 दिसम्बर को राज्य भर में कोविड के 5, 14 तारीख को 6, 15 तारीख को 2, 16 तारीख को 9, 17 तारीख को 2, 18 तारीख को शून्य और 19 तारीख को एक नया मामला सामने आया। इसी तरह राज्य में रिकवरी रेट का औसत 98.98% है। वर्ष 2020 में कोविड आने के बाद से बंगाल में कुल 21,532 मौतें हुई हैं। आंकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल का पॉजिटिविटी रेट 0.16% है और केवल 43 सक्रिय मामले राज्य में हैं। 36 लोग होम आइसोलेशन में हैं जबकि 7 लोग ही अस्पताल में हैं।
चीन और भारत के बीच रहा 3 से 4 महीने का अंतर
चीन में कोरोना की पहली लहर सितंबर 2019 में आयी थी। तब बाकी दुनिया ने कोविड-19 वायरस को बहुत हल्के में लिया था। भारत में कोरोना की पहली लहर चीन की पहली लहर के करीब 4 महीने बाद जनवरी 2020 में आयी। इसी तरह चीन में कोरोना की दूसरी लहर नवंबर 2020 में चीन में आयी थी और भारत में कोरोना की दूसरी लहर चीन की दूसरी लहर से चार महीने बाद मार्च 2021 में आयी। चीन में कोरोना की तीसरी लहर सितंबर 2021 में आयी भारत में तीसरी लहर करीब 3 महीने बाद दिसंबर 2021 में आयी। अब नवंबर 2022 में चीन कोरोना की चौथी लहर से जूझ रहा है। ऐसे में सवाल ये है कि क्या भारत में कोरोना की चौथी लहर आएगी ?
एक्सपर्ट ने दिया बूस्टर डोज लगवाने पर जोर
कोविड से मुकाबले के लिए एक बार फिर कमर कसने की जरूरत है। ऐसे में एक्सपर्ट बूस्टर डोज लगवाने पर जाेर दे रहे हैं। मशहूर वायरोलॉजिस्ट डॉ. हिरणमय मुखोपाध्याय ने सन्मार्ग से कहा, ‘फिलहाल भारत में कोविड को लेकर कुछ कहना काफी जल्दबाजी होगी। पूरी दुनिया की तुलना में भारत में वैक्सीनेशन ड्राइव सबसे अच्छा हुआ है जिस कारण यहां किसी नये वैरिएंट के व्यापक असर की संभावना कम है। हालांकि हमें हर समय तैयार रहने की आवश्यकता है और इसके लिए जिन लोगों ने बूस्टर डोज अब तक नहीं लिये हैं, उन्हें बूस्टर डोज लगवाने की आवश्यकता है। इसके अलावा ऐसे लोगों को चिह्नित करना होगा ​जिन्होंने अब तक कोविड की कोई वैक्सीन नहीं लगवायी है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

मंत्री जी मेरी बहू को वापस घर ले आइए…

बनगांव : ‘मंत्री जी कोशिश करेंगे तो जरूर संभव होगा, मेरी बहू जरूर घर वापस लौट आयेगी।’ यह निवेदन बनगांव अंचल के गायघाटा धर्मपुर ग्राम आगे पढ़ें »

रेडियो के जरिए लोगों को साइबर क्राइम के प्रति जागरूक कर रही है कोलकाता पुलिस

अगले दो महीने तक रेडियो पर चलेगा विज्ञापन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता पुलिस के साइबर सेल की ओर से महानगर में विभिन्न तरह के साइबर क्राइम आगे पढ़ें »

ऊपर