मेरा दरवाजा हमेशा बंद रहता था, वे ड्रग्स देकर सेक्स करते थे… दिल्ली में फंसीं 7 विदेशी युवतियों

नई दिल्ली: सलमा (बदला हुआ नाम) काम की तलाश में अप्रैल 2019 में टूरिस्ट वीजा पर भारत आई थी। उजबेकिस्तान से उसे लाने वाले बिचौलियों ने उसका पासपोर्ट और सामान सब छीन लिया। दक्षिण दिल्ली के एक फ्लैट के एक कमरे में उसे बंद कर दिया गया। बिना पासपोर्ट के 26 साल की इस युवती के पास बिचौलियों की मांग पूरी करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा। बिचौलियों ने उससे कहा कि जो भी फ्लैट में आए वह उसकी शारीरिक जरूरतों को पूरा करे। इतना ही नहीं, उसे ड्रग्स लेने के लिए मजबूर किया गया। इस तरह से रहीमा ड्रग्स और सेक्स के जाल में पूरी तरह फंस गई। उसका जीवन नरक बन गया। ऐसी कुल सात विदेशी महिलाएं वहां फंसी थीं।
रोज ड्रग्स… हमें भाषा भी नहीं आती थी
सलमा ने बताया कि एक ग्राहक को मना करने या भागने की कोशिश करने पर उसे पीटा गया। उसे और उसके जैसी कई युवतियों को रोज ड्रग्स लेने के लिए मजबूर किया जाता था। हाल यह हुआ कि कुछ लड़कियों की आदत हो गई। सलमा ने बताया, ‘हमें कोई पैसा नहीं दिया जाता था। हमारे लिए मुश्किल ज्यादा थी क्योंकि हमें स्थानीय भाषा नहीं आती थी।’ वह उन सात लड़कियों में शामिल है जो उस नरक से भागकर चाणक्यपुरी स्थित उजबेकिस्तान दूतावास पहुंचने में सफल रही। हालांकि पहचान का कोई वैध दस्तावेज नहीं होने के कारण वह दूतावास परिसर में प्रवेश नहीं कर पाई।
महिलाओं की किस्मत अच्छी थी, एम्पॉवरिंग ह्यूमैनिटी एनजीओ ने उन्हें बचाया। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने किडनैपिंग, तस्करी, आपराधिक षड्यंत्र, जबरन वसूली समेत कई धाराओं में सोमवार को चाणक्यपुरी थाने में केस दर्ज किया। पुलिस ने अंतरराष्ट्रीय रैकेट का पर्दाफाश करते हुए पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।शादी हुई, बच्चे फिर पति ने छोड़ दियाएक को छोड़कर, बाकी सभी पीड़ित महिलाओं के घर पर बच्चे हैं। ज्यादातर महिलाओं ने बताया कि कम उम्र में उनकी शादी हो गई, बच्चे हुए और बाद में पतियों ने उन्हें छोड़ दिया। एक ने बताया कि 17 साल की उम्र में उसे अक्टूबर 2019 में लाया गया था। एक महिला 30 साल की है और उसे एक बच्चा है जिसके दिल में छेद है। एक अन्य युवती 22 साल की है और वह इसी साल जनवरी में शहर आई थी।

ड्रग्स देकर सेक्स करते थे…सलमा को भी एक बच्चा है। पति के छोड़ने के बाद, वह नौकरी की तलाश में थी और उसे दिल्ली से एक ऑफर आया। वह टूरिस्ट वीजा पर शहर आई थी लेकिन बाद में उसे ऐसी जगह ले जाया गया जिसका नाम वह नहीं जानती। उसने बताया, ‘मेरे कमरे का दरवाजा हमेशा बंद रहता था। हमें बाहर जाने की इजाजत नहीं थी। अगर हम जाते थे तो साथ में दलाल रहते थे। वे हमें ड्रग्स देते थे और मना करने पर जबरन देते थे। कुछ ग्राहकों ने भी उन्हें ड्रग्स दिया था। वो समय ऐसा था, जब 10 आदमी सेक्स करते थे।’एम्पॉवरिंग ह्यूमैनिटी ने इन महिलाओं की तरफ से पुलिस केस दर्ज कराने में मदद की।

 

Visited 355 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

यात्रियो सावधान! चुनाव के दौरान कम चलेंगी बसें

कोलकाता : लोकसभा चुनाव की शुरुआत अब होने ही वाली है और आगामी 19 तारीख को पहले चरण का चुनाव है। ऐसे में कहा जा आगे पढ़ें »

Patanjali Advertisement Case : पतंजलि ने सुप्रीम कोर्ट में फिर माफी मांगी लेकिन …

नई दिल्ली: भ्रामक विज्ञापन मामले पर पतंजलि आयुर्वेद के खिलाफ अवमानना पर सप्रीम कोर्ट में योगगुरु बाबा रामदेव को आज भी माफी नहीं मिली। उनको आगे पढ़ें »

ऊपर