सीबीआई की सूची में मौजूद 1694 ग्रुप डी कर्मियों को शिक्षा विभाग ने दी नोटिस

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोलकाता हाई कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई की नियुक्ति घोटालेे की जांच में विभिन्न स्कूलों के ग्रुप डी पद पर नियुक्त 1694 लोगों को शिक्षा ​विभाग की ओर से नोेटिस दी गयी है। इसे लेकर शिक्षा विभाग की ओर से कमिश्नर शुभ्रो चक्रवर्ती की ओर से निर्देशिका जारी की गयी है जिसे विभिन्न जिलों के डिस्ट्रिक्ट इंस्पेक्टरों (डीआई) को भेज दी गयी है। निर्देशिका में कहा गया है कि कोलकाता हाई कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई जांच में चिह्नित 1694 ग्रुप डी पदों पर नियुक्त लोगों को नोेटिस देनी होगी। उस नोटिस के साथ ही अदालत के फैसले को अटैच करने को कहा गया है। राज्य के विभिन्न स्कूलों में नियुक्त 1694 लाेगों की नियुक्ति गैर-कानूनी तरीके से होने का आरोप है। निर्देशिका के साथ 1694 लोगों के नामों की सूची भी प्रकाशित की गयी है। मौजूदा समय में वे कौन से स्कूल में कार्यरत हैं, यह भी बताया गया है। इस सप्ताह के अंदर ही प्रत्येक डीआई को उनका काम पूरा करने के लिए कहा गया है। स्कूल में नियुक्ति दुर्नीति मामले में कोलकाता हाई कोर्ट ने सीबीआई को जांच का निर्देश दिया था। इस जांच के आधार पर सीबीआई ने जो रिपोर्ट अदालत में जमा की है, उसमें पता चला है कि ग्रुप डी पद पर नियुक्त 1694 लोगों की नियुक्ति प्रक्रिया में अस्वच्छता है। इसे लेकर बंगीय शिक्षक व शिक्षा कर्मी समिति के महासचिव स्वपन मण्डल ने कहा, ‘हमें पता चला है कि सीबीआई ने जो रिपोर्ट अदालत में जमा की है, उसमें लिखा गया है कि ऐसे लोगों को भी नौकरी मिली है जो एक भी जवाब दिये बगैर पास कर गये हैं। सरकार का यह कदम काफी दुर्भाग्यजनक है। राज्य सरकार अथवा जो राजनीतिक पार्टी सरकार चला रही है, उनके इस गलत कदमों के लिए कितने लोगों का संसार डूब सकता है। अब यह समझ में आ गया है कि 1694 लोगों की नौकरी जाना केवल समय भर का इंतजार रह गया है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

खेल अकादमी का शुभारंभ

कोलकाता:  फुटबॉल प्रेमियों के लिए अच्छी खबर है। मैनचेस्टर यूनाइटेड के पूर्व कोच पॉल नेरी के सहयोग से एक नई स्पोर्ट्स अकादमी शुरू की गई आगे पढ़ें »

‘हम सुरक्षित नहीं, अभिषेक और मुझे निशाना बना रही BJP’, CM ममता का हमला

बालुरघाट: लोकसभा चुनाव को लेकर बंगाल में सियासी पारा हाई है। आज बालुरघाट में सीएम ममता ने जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ममता आगे पढ़ें »

ऊपर