अमृत भारत स्टेशन योजना : बंगाल के 94 स्टेशनों का होगा कायाकल्प

कोलकाता : हर रोज लाखों लोग भारतीय रेलवे से यात्रा करते हैं। ऐसे में भारतीय रेलवे ट्रेन में दी जाने वाली सुविधाओं से लेकर स्टेशन के कायाकल्प का काम कर रही है। इस बार बजट में पूर्व रेलवे को 173.80 करोड़ एवं दक्षिण पूर्व रेलवे को 176.53 करोड़ रुपये आवंटित​ किये गये हैं। इसी क्रम में भारतीय रेलवे देश भर के कुल 1275 स्टेशनों के तस्वीर बदलने की तयारी में है। हाल ही में रेल मंत्रालय ने स्टेशनों के आधुनिकीकरण के लिए अमृत भारत स्टेशन योजना नाम से एक नई योजना तैयार की है। इसमें बंगाल के 94 स्टेशन शामिल हैं। इनमें हावड़ा, सियालदह, कोलकाता, मालदह, आसनसोल स्टेशन आदि शामिल हैं। अमृत ​​भारत स्टेशन योजना के अंतर्गत दीर्घकालिक दृष्टिकोण से लगातार स्टेशनों के विकास की परिकल्पना की गई है। यह योजना स्टेशन की आवश्यकताओं के अनुसार दीर्घकालिक मास्टर प्लान तैयार करने और मास्टर प्लान के तत्वों के कार्यान्वयन पर आधारित है।
योजना का उद्देश्य : अमृत भारत स्टेशन योजना का उद्देश्य रेलवे स्टेशनों पर न्यूनतम आवश्यक सुविधाओं के इतर सुविधाओं को बढ़ाने के लिए मास्टर प्लान तैयार करना है। इस मास्टर प्लान को स्टेशन पर रूफ प्लाजा और सिटी सेंटर के निर्माण के लक्ष्य के साथ चरणबद्ध तरीके से लागू किया जायगा। इस योजना में हितधारकों की आवश्यकताओं का भी ध्यान रखा गया है। स्टेशन पर नई सुविधाओं की शुरुआत के साथ ही पुरानी सुविधाओं को भी इस योजना के तहत अपग्रेड किया जायगा। यह योजना उन स्टेशनों को भी शामिल करेगी जहां विस्तृत तकनीकी-आर्थिक व्यवहार्यता अध्ययन किए जा चुके हैं या किए जा रहे हैं, लेकिन रूफ प्लाजा के निर्माण का काम अभी तक शुरू नहीं किया गया है।
कुछ इस तरह होगा स्टेशनों का कायाकल्प : अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत भारतीय रेलवे उन सभी महत्वपूर्ण पहलुओं को बेहतर बनाने की कोशिश करेगी जिससे आम आदमी को अब तक परेशानी का सामना करना पड़ता था। इसमें मुख्य रूप से स्टेशनों तक पहुंचने में सुधार, मुफ्त वाई-फाई ,वेटिंग रूम और शौचालयों जैसी जगहों को बेहतर बनाने पर ध्यान दिया जायेगा, साथ ही स्टेशनों पर यात्रियों के लिए बेहतर सूचना प्रणाली, एक्जिक्यूटिव लाउंज जैसी व्यवस्था भी इस मास्टर प्लान में शामिल है। इसके अलावा स्टेशन के पास अवांछित संरचनाओं को हटाकर सड़कों को चौड़ा किया जाएगा। उचित रूप से डिजाइन किए गए साइनेज, पैदल मार्ग और सुनियोजित पार्किंग क्षेत्र की व्यवस्था की जायगी। इस योजना में महिलाओं और दिव्यांगों का भी ध्यान रखा गया है। सभी श्रेणियों के स्टेशनों पर महिलाओं और दिव्यांगजनों के लिए पर्याप्त संख्या में शौचालय बनाएं जाएंगे। शौचालय का स्थान स्टेशन पर उपयोग के लिए उपयुक्त, आसानी से दिखाई देने वाला और सुलभ होगा।
बंगाल के स्टेशनों का होगा कायाकल्प : अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत आद्रा, अंडाल, बागनान, बाली, बनगांव, बांकुड़ा, कैनिंग, डानकुनी, खड़गपुर, न्यू जलपाईगुड़ी, सोनारपुर, तारकेश्वर, न्यू फरक्का, न्यू अलीपुरदुआर, रामपुरहाट, सैंथिया, दीघा, दमदम, तमलुक आदि स्टेशन शामिल हैं।

Visited 213 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

2 महीने की शादी…पति की मौत, 24 घंटे में ही पत्नी ने दे दी जान

गाजियाबाद: यूपी के गाजियाबाद जिले में अपने पति की हार्ट अटैक से हुई मौत से सदमे में आई एक नवविवाहिता ने बिल्डिंग की सातवीं मंजिल आगे पढ़ें »

World NGO Day 2024: विश्व एनजीओ दिवस आज, जानें इस दिन का इतिहास, थीम और महत्व

नई दिल्ली : हर साल 27 फरवरी को विश्व एनजीओ दिवस मनाया जाता है। दुनिया भर में गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) के अमूल्य योगदान को पहचानने आगे पढ़ें »

ऊपर