एक साथ 6 बच्चों को पाकिस्तानी म​हिला ने दिया जन्म

पाकिस्तान: हाल ही में पाकिस्तान के कराची में एक महिला ने एक साथ 6 बच्चों को जन्म दिया है, इस दौरान एक बच्चे की पैदा होते ही मौत हो गई जबकि बाकी बचे हुए 5 बच्चे पूरी तरह से स्वस्थ हैं। आपकों बता दे कि 6 बच्चों में से 4 लड़के, दो लड़कियां थीं जिसमें से एक लड़की ने पैदा होते ही दम तोड़ दिया।

ऐसे में जानते है कि कैसे पैदा होते हैं एक साथ इतने सारे बच्चे और क्या है इसके कारण और लक्षण
कराची के कालापुल में रहने वाली हिना जाहिद ने जिन्ना पोस्टग्रेजुएट मेडिकल सेंटर में इन 6 बच्चों को जन्म दिया। डॉक्टर्स ने बताया कि सभी बच्चे नॉर्मल डिलीवरी से पैदा हुए हैं। डॉक्टर्स ने यह भी बताया कि सभी बच्चे नॉर्मल हैं और पूरी तरह से स्वस्थ हैं।

जिन्ना पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल सेंटर के डायरेक्टर के मुताबिक, पैदा हुए 6 बच्चों में से जिस बच्चे की पैदा होते ही मौत हो गई थी, वह एक लड़की थी। अब 5 बच्चों में से 4 लड़के हैं और 1 लड़की। उन्होंने यह भी बताया कि सांस लेने में दिक्कत होने के कारण सभी बच्चों को नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ में शिफ्ट किया गया है। महिला का पहले से ही एक बच्चा है।

इसी साल अगस्त के महीने में पाकिस्तान के सिंध में एक महिला ने एक साथ 4 बच्चों को जन्म दिया था। पाकिस्तान स्थित एक प्राइवेट अस्पताल के प्रवक्ता ने बताया कि उनके अस्पताल में अमरोत शरीफ नाम की एक महिला ने एक साथ 5 बच्चों को जन्म दिया था जिसमें 4 बेटियां और 1 बेटा था। उन्होंने बताया, मां समेत सभी बिल्कुल स्वस्थ थे। हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन के मुताबिक, महिला के भाई ने बताया कि शादी के 10 साल बाद उसकी बहन को ये खुशखबरी मिली।

क्या होती है मल्टीपल प्रेग्नेंसी?

मल्टीपल प्रेग्नेंसी उसे कहा जाता है जिसमें एक महिला के गर्भ में एक से ज्यादा बच्चे पल रहे होते हैं। अधिकतर मामलों में महिलाएं एक साथ दो या तीन बच्चों को जन्म देती हैं लेकिन ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जिसमें महिलाओं ने एक ही बार में 3 से ज्यादा बच्चों को जन्म दिया है। सिंगल प्रेग्नेंसी की तुलना में मल्टीपल प्रेग्नेंसी में खतरा काफी ज्यादा होता है।

कैसे होती है मल्टीपल प्रेग्नेंसी?
मल्टीपल प्रेग्नेंसी दो तरीकों से हो सकती है। एक फर्टिलाइज्ड एग का गर्भाशय की परत में इंप्लांट (प्रत्यारोपित) होने से पहले विभाजित हो जाना। दो या उससे ज्यादा विभाजित अंडों का एक ही समय पर अलग-अलग स्पर्म के जरिए फर्टिलाइज्ड होना।

इन दोनों  अलग-अलग टाइप की मल्टीपल प्रेग्नेंसी का रिजल्ट आइडेंटिकल और फ्रैटरनल हो सकता है। जो बच्चे आइडेंटिकल होते हैं, वह एक जैसे दिखते हैं और समान लिंग के होते हैं। आइडेंटिकल ट्विंस और ट्रिप्लेट तब होते हैं जब एक सिंगल अंडा फर्टिलाइज्ड होता है और बाद में अलग हो जाता है। ये अलग-अलग भ्रूण आइडेंटिकल होते हैं।

फ्रैटरनल मल्टीपल्स अलग-अलग अंडों और अलग स्पर्म के जरिए फर्टिलाइज्ड होते हैं। क्योंकि यह अलग अंडे और अलग स्पर्म होते हैं इसलिए इसके जरिए पैदा होने वाले बच्चे अलग-अलग जेनेटिक्स वाले हो सकते हैं। इसके जरिए पैदा हुए बच्चे एक जैसे नहीं नजर आते और ना ही इनका लिंग समान होता है।  

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीएम ने मालबाजार हादसे पर जताया दुःख

कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने माल में हुए हादसे को लेकर ट्वीट करते हुए दुःख जाहिर किया।उन्होंने ट्वीट किया कि पश्चिम बंगाल के जलपाईगड़ी में आगे पढ़ें »

पार्थ ने नहीं की जमानत की अपील, सुबिरेश के साथ शांतिप्रसाद फिर भेजे गये जेल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बुधवार को विजया दशमी की दोपहर एसएससी मामले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी की सुनवाई विशेष अदालत में हुई। सुनवाई में आगामी 19 आगे पढ़ें »

ऊपर