व्रत में खाएं साबूदाना वड़ा, लंबे वक्त तक भरा महसूस होगा पेट, मिनटों में होगा तैयार

कोलकाताः महाशिवरात्रि पर व्रत के दौरान फलाहार के तौर पर साबूदाना वड़ा बनाकर खाया जा सकता है। उपवास में पारंपरिक तौर पर साबूदाना खिचड़ी के बाद सबसे ज्यादा साबूदाना वड़े को पसंद किया जाता है। इसका स्वाद लाजवाब होता है और साथ ही इन्हें खाने के बाद काफी वक्त तक भूख का एहसास भी नहीं होता है। साबूदाना वड़ा खाने में टेस्टी तो होता ही है, इसे बनाना भी ज्यादा मुश्किल नहीं होता है। बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सभी लोगों को साबूदाना वड़े का स्वाद काफी भाता है। ये रेसिपी मिनटों में बनकर तैयार हो जाती है। साबूदाना वड़ा बनाने के लिए साबूदाना, आलू, मूंगफली दानों के साथ अन्य चीजों का उपयोग किया जाता है। आपने अगर अब तक कभी साबूदाना वड़ा की रेसिपी को ट्राई नहीं किया है तो हमारी बताई विधि की मदद से इन्हें बेहद आसानी से बनाकर खा सकते हैं।

साबूदाना वड़ा बनाने के लिए सामग्री

साबूदाना – 1 कप

मूंगफली दाने – 1 कप

उबले आलू – 3

हरी मिर्च – 4-5

हरा धनिया – 2 टेबलस्पून

काली मिर्च पाउडर – 1/2 टी स्पून

सेंधा नमक – 1 टी स्पून

तेल – तलने के लिए

साबूदाना वड़ा बनाने की विधि

व्रत के लिए बनने वाले साबूदाना वड़े के लिए सबसे पहले साबूदाना को साफ करें और उन्हें पानी से दो-तीन बार धोकर 5 घंटे के लिए भिगोकर रख दें। इतने वक्त में साबूदाना अच्छी तरह से फूलकर नरम हो जाएंगे। अब एक कड़ाही में मूंगफली दानें डालकर उन्हें मीडियम आंच पर ड्राई रोस्ट करें। चाहें तो धीमी आंच पर भी मूंगफली दानें भून सकते हैं। ध्यान रखें कि रोस्ट करने के दौरान दानें जले नहीं। इन्हें भुनने में 7-8 मिनट का वक्त लगेगा। मूंगफली दानें भुनने के बाद उन्हें एक प्लेट में निकालें और अलग रख दें।

अब दोनों हाथों से दानों को मसलकर उनके छिलके अलग कर दें। इसके बाद दानों को दरदरा कूट लें। चाहें तो मिक्सी में भी मोटा पीस सकते हैं। अब साबूदाना एक बड़े बर्तन में डालें और उसमें दरदरी कुटी मूंगफली, काली मिर्च पाउडर और स्वादानुसार सेंधा नमक डालकर अच्छी तरह से मिक्स करें। इसमें हरा धनिया और हरी मिर्च डालकर मिला दें। इसके बाद उबले आलू को मैश कर साबूदाना के बर्तन में डालकर सभी सामग्रियों को अच्छी तरह से मैश करते हुए एकसार कर लें। अब तैयार मिश्रण को थोड़ा सा लेकर उसकी पहले गोल गेंद बनाएं और फिर हथेलियों के बीच में रखकर दबाएं और वड़े का आकार दें। इसके बाद साबूदाना वड़ा एक प्लेट में अलग रख दें। इसी तरह सारे मिश्रण से साबूदाना वड़ा तैयार कर लें। अब एक कड़ाही में तेल डालकर गर्म करें। तेल गर्म होने के बाद साबूदाना वड़ा डालकर डीप फ्राई करें। साबूदाना वड़ा गोल्डन होकर जब कुरकुरा हो जाए तो उसे एक प्लेट में उतार लें। इसी तरह सारे साबूदाना वड़े तल हैं। फलाहार के लिए तैयार साबूदाना वड़े को चटनी के साथ सर्व करें।

Visited 254 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

सिर्फ गर्दन का व्यायाम हमें इतने रोगों से रख सकता है दूर

कोलकाता : रीढ़ की हड्डी को कशेरूक दंड या मेरूदंड कहा जाता है। इससे समस्त कंकाल को सहारा मिलता है। रीढ़ की हड्डी या मेरूदंड आगे पढ़ें »

गुरुवार के दिन विष्णु भगवान की करें पूजा, इन 3 बातों को रखें ध्यान

नई दिल्ली: गुरुवार के दिन का हिंदूओं में विशेष महत्व है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और देवताओं के गुरु बृहस्पति देव की पूजा होती आगे पढ़ें »

ऊपर