आईआईटी खड़गपुर में 1,600 नौकरियों की पेशकश

पहले चरण के प्लेसमेंट दिखा उत्साह
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), खड़गपुर में दिसंबर के दूसरे सप्ताह में वर्ष 2021 – 22 के प्लेसमेंट सत्र के पहले चरण का समापन हुआ, जिसमें छात्रों को 1,600 से अधिक नौकरियों की पेशकश की गई और इंटर्नशिप के 900 से अधिक प्रस्ताव मिले। संस्थान की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई है।
बयान के मुताबिक प्लेसमेंट सत्र के पहले दिन 500 से अधिक ‘प्री प्लेसमेंट ऑफर’ (पीपीओ) आए। दूसरे दिन पीपीओ की संख्या बढ़कर 1,000 से अधिक हो गई। यह संख्या सभी ‘आईआईटी में नौकरियों की पेशकश के लिहाज से एक मील का पत्थर’ है।’
संस्थान में 50 लाख रुपये से 2.64 करोड़ रुपये के सालाना पैकेज के दायरे में 48 नौकरियों की पेशकश की गई। इसमें कहा गया है कि 45 से अधिक अवसरों की पेशकश अंतरराष्ट्रीय कंपनियों से मिली। इस साल इस सत्र में पांच विदेशी छात्रों को भी नौकरियां मिलीं। सॉफ्टवेयर, एनालिटिक्स, कंसल्टिंग, कोर इंजीनियरिंग, बैंकिंग और हाई-फ्रीक्वेंसी ट्रेडिंग सहित विभिन्न क्षेत्रों की 300 से अधिक कंपनियों ने पहले चरण के प्लेसमेंट सत्र में हिस्सा लिया। जिन कंपनियों ने हाल ही में समाप्त हुए इस सत्र में छात्रों की भर्ती की, उनमें एयरबस, एसेंचर जापान, दा विंची डेरिवेटिव्स, एक्सेल, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, क्वालकॉम, स्क्वायरपॉइंट कैपिटल, एन के सिक्योरिटीज, हिंदुस्तान यूनिलीवर, टाटा स्टील और अन्य शामिल हैं।
संस्थान के करियर डेवलपमेंट सेंटर के अध्यक्ष ए राजकुमार ने कहा कि ‘आईआईटी खड़गपुर का मजबूत पाठक्रम और छात्रों का तकनीकी कौशल इस शानदार सफलता की वजह रहा।’ प्लेसमेंट सत्र का अगला चरण जनवरी 2023 के दूसरे सप्ताह में शुरू होने वाला है। राजकुमार ने कहा कि दूसरे चरण में और अधिक कंपनियों द्वारा छात्रों को प्लेसमेंट और इंटर्नशिप के अवसर प्रदान करने की उम्मीद है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राज्यपाल को लेकर भाजपा ने दी गृह मंत्रालय को रिपोर्ट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : गत नवम्बर महीने में पश्चिम बंगाल के स्थायी राज्यपाल बने डॉ. सी. वी. आनंदा बोस के बारे में भा​जपा नेताओं ने सोचा आगे पढ़ें »

सागरदिघी उपचुनाव के लिए हुआ कांग्रेस और वाम का समझौता

सागरदिघी उपचुनाव के लिए हुआ कांग्रेस और वाम का समझौता सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : 2021 के विधानसभा चुनाव के बाद उपचुनावों में भी वाम-कांग्रेस का समझौता आगे पढ़ें »

ऊपर