चढ़ने लगा क्रिसमस और नये साल का खुमार, उमड़ने लगी भीड़

एक दिन में चिड़ियाखाना में 80000 लोग पहुंचें
भीड़ संभालने में पुलिस के छूटे पसीने
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : 2022 की विदायी और 2023 के स्वागत में लोग उत्साह से तैयारियों में जुट गये हैं। क्रिसमस और नये साल का खुमार चढ़ने लगा है। पर्यटन स्थलों पर काफी भीड़ उमड़ने लगी है। अलीपुर चिड़ियाखाना, विक्टोरिया, इको पार्क, तारा मंडल सहित आसपास के पर्यटन स्थलों पर पहले से अधिक भीड़ देखी जा रही है। पिछले 2 साल में कोरोना की वजह से काफी नुकसान हुआ है, लेकिन इस बार उम्मीद जतायी जा रही है कि 25 दिसंबर और पहला जनवरी को रिकॉर्ड भीड़ होगी जिसकी एक झलक मिलने लगी है। उसी तरह से इन जगहों पर तैयारियां भी की गयी है। उल्लेखनीय है कि इस बार क्रिसमस तथा नया साल दोनों ही रविवार को है।
अलीपुर चिड़ियाखाना में 80,000 लोग आये
अलीपुर चिड़ियाखाना, विक्टोरिया में दिसंबर की शुरूआत से ही भीड़ अधिक देखी जा रही है। खासकर छुट्टी के दिन में अन्य दिनों से अधिक लोग घुमने के लिए आ रहे हैं। रविवार को चिड़ियाखाना में एक दिन में लगभग 80,000 लोग आये हैं। क्या बुढ़े क्या बच्चे, घुमने का उत्साह लोगों में खूब दिखा। भीड़ को संभालने में चिड़ियाखाना प्रबंधन तथा पुलिस के पसीने छूट गये।
इको पार्क में 1 लाख लोग पहुंचे थे और अधिक की उम्मीद
प्रसिद्ध इको पार्क लोगों की बेहद ही पसंदीदा स्पॉट बन चुकी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गत साल क्रिसमस पर 1 लाख लोग पहुंचे थे। एक दिन इतनी भीड़ उत्साह जनक रही थी। इस बार इससे अधिक की उम्मीद है और इसकी शुरूआत हो गयी है। बीते शनिवार 17 दिसंबर 22 हजार लोग इको पार्क में घुमने आये थे।
विक्टोरिया में भी दूर दराज से पहुंचे लोग
​विक्टोरियां में भी घूमने के लिए दूर दराज से लोग पहुंचे हैं। यहां भी भीड़ रविवार को करीब 50000 पार कर चुकी है। हालांकि पूरी काउंटिन नहीं हो पायी है। 25 दिसंबर और नया साल में रिकॉर्ड भीड़ होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रेडियो के जरिए लोगों को साइबर क्राइम के प्रति जागरूक कर रही है कोलकाता पुलिस

अगले दो महीने तक रेडियो पर चलेगा विज्ञापन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता पुलिस के साइबर सेल की ओर से महानगर में विभिन्न तरह के साइबर क्राइम आगे पढ़ें »

इन 5 मौकों पर घर में कभी नहीं बनानी चाहिए रोटी, टूट पड़ता है दुखों का पहाड़

कोलकाता : आपने एकादशी पर अक्षत यानी चावल न बनाने के शास्त्रीय नियमों के बारे में तो सुना ही होगा। लेकिन क्या आपको पता है आगे पढ़ें »

ऊपर