मन की मुराद पूरी करने के लिए सोमवार के दिन जरूर करें ये पांच काम

कोलकाता : धार्मिक मान्यता के अनुसार, सोमवार का दिन भगवान शिव को प्रिय होता है इसलिए इस दिन शिवजी के लिए सोमवार व्रत रखा जाता है। वहीं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सोमवार का दिन चंद्र ग्रह का दिन है। इस दिन चंद्र ग्रह की शांति के लिए उपाय किए जाते हैं। सोमवार के दिन भगवान शिव से जुड़े कुछ विशेष उपायों को करने से शुभ परिणामों की प्राप्ति होती है। हम आपको ऐसे 5 उपाय बता रहें हैं जिन्हें सोमवार के दिन करने से भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। ये आसान उपाय इस प्रकार हैं –
मन की मुराद पूरी होने के लिए करें शिव आराधना
* अगर सोमवार के दिन भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा की जाए तो सारे क्लेशों से मुक्ति मिलती है और मन की सारी मुरादें जरूर पूरी हो जाती हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सोमवार को सुबह उठकर * स्नान करके भगवान शिव की आराधना करें।
भोलेनाथ की पूजा में जरूर चढ़ाएं ये चीजें
भोले नाथ को चंदन, अक्षत, बिल्व पत्र, धतूरा या आंकड़े के फूल, दूध, गंगाजल चढ़ाएं। महादेव के लिए ये बेहद ही प्रिय भोलेनाथ की पूजा में जरूर चढ़ाएं ये चीजें
इस मंत्र का करें जाप
सोमवार के दिन महामृत्युंजय मंत्र का जाप 108 बार करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है। सोमवार के दिन शिवलिंग पर गाय का कच्चा दूध चढ़ाने से भगवान शिव की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी
भगवान शिव को लगाएं इन चीजों का भोग
सोमवार के दिन भगवान शिवजी को घी, शक्कर, गेंहू के आटे से बने प्रसाद का भोग लगाना चाहिए। इसके बाद धूप, दीप से आरती करें और प्रसाद का वितरण करें।
चंद्र ग्रह की शांति के लिए करें यह उपाय
सोमवार के दिन स्नान ध्यान कर सफेद रंग के वस्त्रों को धारण करना चाहिए। माता जी की सेवा करें। जरूरतमंद लोगों को इस दिन सफेद रंग की खाद्य सामग्री को दान करना चाहिए। इस उपाय को करने से आपकी कुंडली में चंद्र ग्रह की स्थिति मजबूत होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फिरहाद के वीडियो को लेकर मचा बवाल

फिरहाद ने वीडियो को बताया झूठा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : छठवें चरण के चुनाव से पहले राज्य के मंत्री फिरहाद हकीम के एक वीडियो को लेकर बवाल आगे पढ़ें »

कोरोना के दूसरे वेब ने बदला चुनाव प्रचार का ट्रेंड

बंद की गयीं रैलियां, टेली प्रचार पर दिया जा रहा जोर उम्मीदवार कह रहे घर पर रहिए, हमारी आवाज आप तक पहुंच जाएगी देर आये दुरुस्त आये सन्मार्ग आगे पढ़ें »

ऊपर