गुरुवार के दिन ये एक टोटका कर सकता है आपको मालामाल

कोलकाता : भगवान विष्णु की पूजा- आरधना के लिए गुरुवार का दिन समर्पित है। इस दिन विधिविधान से श्री हरि की पूजा करने, व्रत रखने और कुछ उपाय करने से जगत के पालन हार भगवान विष्णु जी की कृपा तो प्राप्त होती है। साथ ही, बृहस्पित देव भी प्रसन्न होते हैं। देवगुरु बृहस्पति देव को ग्रहों का गुरु कहा जाता है। मान्यता है कि अगर किसी जातक की कुंडली में बृहस्पति देव की स्थिति मजबूत है, तो उसे जीवन में कभी धन संबंधी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता।
गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस दिन केले के पेड़ में हल्दी मिश्रित जल अर्पित किया जाता है। कहते हैं केले के पेड़ में भगवान विष्णु का वास होता है। ऐसे में नियमित रूप से हर गुरुवार केले के वृक्ष की पूजा करने से भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है। इस दिन केले का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर आपकी कुंडली में गुरु की स्थिति खराब है, तो आज के दिन ये उपाय आपकी किस्मत बदल सकते हैं।
गुरुवार के दिन करें ये उपाय
– गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा-आराधना के साथ अगर ये उपाय कर लिया जाए, तो व्यक्ति के दिन बदल सकते हैं। ये उपाय व्यक्ति को मालामाल कर देगा। गुरुवार के दिन पानी में हल्दी डालकर स्नान करने से आर्थिक स्थिति मजबूत होती है और कुछ ही दिन में इसका असर दिखने लगता है।
– गुरुवार के दिन घर में पोंछा न लगाएं। इस दिन केले का सेवन न करें। आज के दिन केले के पेड़ की पूजा का विधान है। कहते हैं कि केले के पेड़ में भगवान विष्णु का वास होता है।
– गुरुवार के दिन पीले रंग के वस्त्र पहनने चाहिए। साथ ही, इस दिन पीले रंग की वस्तुएं ही खानी चाहिए। अगर संभव हो तो इस दिन आटे में हल्दी डाल दें, जिससे वे पीले रंग की हो जाए।
– ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरुवार के दिन घर के सभी सदस्य एक साथ बैठकर सत्यनारायण की कथा पढ़ें व सुनें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए लागू होने से कोई नहीं रोक सकता : शुभेंदु

कहा, साबित करें ​कि मैंने सीएम के पैर छूए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में सौजन्यता की राजनीति को भूलते हुए शनिवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खड़े किए हाथ, कहा : सुप्रीम कोर्ट जाएं

हीरा की रद्दगी और रेरा की बहाली से जुड़ा एक उलझा हुआ सवाल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल चार मई को पश्चिम बंगाल आगे पढ़ें »

ऊपर