जानिए कौन हैं असल ज़िन्दगी के बरेली के “टार्ज़न चाचा”?

बरेलीः हमने बॉलिवुड की फिल्मो में पहले भी ”कार” के जिन्दा होने की कहानी सुनी है और देखी भी है। लेकिन ये अब सिर्फ फिल्म की कहानी नहीं रह गयी है। वंडर बाइक अब असल में उत्तर प्रदेश की बरेली की सड़को पर दौड़ रही है।
यह हैरतंगेज़ कारनामा को संभव करके दिखाया है उत्तर प्रदेश के बरेली के सूरमा विक्रेता मो. सईद उर्फ़ “टार्ज़न चाचा” ने। 85 वर्ष के हो चुके टार्जन चाचा पिछले 47 वर्ष से बाइक पर ही कारोबार कर रहे हैं।
उत्तर प्रदेश के टार्ज़न चाचा अपनी बाइक को लेकर हैरतंगेज़ करतब दिखाने के लिए पहले से ही मशहूर हें। कभी हाथ छोड़कर या कभी बाइक पर खड़े हो कर वे करतब दिखाते हें एवं सूरमा बेचते हें। पहले वे मैकेनिक का काम करते थे। मगर एक दुर्घटना के बाद उन्होंने वो काम छोड़ दिया। तब से वो सूरमा बेचते हें।
बाइक की खासियत :
यह बाइक उन्होंने खुद ही डिज़ाइन किया हें। उनकी बाइक की खासियत ये है कि उनकी आवाज सुनते ही बाइक खुद ब खुद स्टार्ट हो जाती है। बाइक के हैंडल में उन्होंने म्यूजिक बॉक्स भी लगा कर रखे है जो उनके आदेश को सुनते ही गाना सुनाना चालू कर देता हैं । बाइक के सामने उन्होंने एक अनोखी एटीएम् मशीन लगा रखी है जो बचे हए पैसे एकदम ठीक-ठाक गिनके वापस करता हैं । बच्चों से उनको बेहद मोहोब्बत हें। आते जाते उनको चोकलेट्स देना कभी नहीं भूलते हैं चाचा।
अंग्रेजी में कहते हैं ना – “एग इस जस्ट अ नंबर “। टार्ज़न चाचा ने इस बात को साबित कर दिखाया हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब दूसरे मामले में नौशाद सिद्दीकी को 6 दिनों की पुलिस हिरासत

पंचायत चुनाव तक मुझे जेल में रखना चाहती है तृणमूल - नौशाद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भांगड़ से आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी को शुक्रवार को 6 दिनों आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद दिलीप और मिठुन ने भी कहा, ‘अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है भाजपा’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और अगले साल लोकसभा चुनाव भी है। ऐसे में भाजपा अभी से खुद को आगे पढ़ें »

ऊपर