नींद में दिखें ये सपने तो हो जाएं सावधान, इन सपनों से समझें कि आ रहा है बढ़िया समय

कोलकाताः सपने अच्छे और बुरे दोनों ही होते हैं। कई बार अच्छे सपने देखकर नींद में ही प्रसन्नता का अनुभव होता है और कई बार भयावह सपने देखकर डर लगने लगता है। माना जाता है कि सपने ईश्वरीय संदेश होते हैं। यह संदेश अच्छे और बुरे दोनों ही हो सकते हैं। इन सपनों को संकेत मानकर हम अपने जीवन में सतर्क हो सकते हैं। जानिए कैसे होते हैं सपने और क्या होता है उनका परिणाम…

– सपने में बड़ा पेट दिखे तो घबराने की जरूरत नहीं है। बड़ा सा पेट दिखने का मतलब है कि बड़ी आशाएं, लेकिन यदि इसके विपरीत छोटा पेट दिखे तो समझना चाहिए कि बुरा समय आने वाला है। हो सकता है कि आपका कोई मित्र आपको धोखा दे, इसलिए आप सावधान रहें।

– आपको सपने में किसी महिला का गर्भपात दिखाई दे तो सावधान हो जाना चाहिए। यह भविष्य में आपकी योजनाओं के विफल होने की ओर संकेत करता है। यह जल्दबाजी में लिए गए निर्णय के कारण पछतावे का संकेत है। आपको अपने या किसी प्रियजन के प्रति अनिष्ट की आशंका से सजग रहने का संकेत है।

– आपने सपने में अपने को ही किसी तरह का हिसाब- किताब करते हुए देखा है तो यह शुभता का प्रतीक है। यह इस बात का संकेत है कि आप लेखा-जोखा कर रहे हैं। फायदे और नुकसान का हिसाब- किताब लगाया जा रहा है. यह धन और शक्ति के फिजूलखर्ची से बचने की चेतावनी है।

– आपने सपने में किसी हत्यारे को देखा है तो सजग हो जाना चाहिए। सपने में हत्यारे को देखना एक गंभीर चेतावनी है। आप अपने व्यक्तित्व का कोई भाग मिटाने की कोशिश कर सकते हैं। यह सपना यह भी बताता है कि आप किसी अपने सगे संबंधी को भी समाप्त करना चाहते हैं।

– आपने सपने में गधा देखा तो संभल जाइए। गधा शब्द बेवकूफों के लिए प्रयोग में लाया जाता है। कोई आपको बेवकूफ बनाने की कोशिश कर सकता है। सजग रहें और दूसरों का बोझ अपनी पीठ पर न लादे, क्योंकि वह अहसान फरामोश ही साबित होगा।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

नवरात्रि में करें ये अचूक टोटके, मां दुर्गा की कृपा से घर में आएगी सुख-समृद्धि

कोलकाता : शक्ति पूजा और उपासना का पावन पर्व शारदीय नवरात्रि शुरू हो चुका है। नवरात्रि के ये पावन 9 दिन बहुत ही शुभ माने आगे पढ़ें »

दो सालों बाद सजी ढाक की धुन, पंडालों में पहुंचे ढाकी

सन्मार्ग संवाददाता काेलकाता : ढाकी की धुन और धुनुची नृत्य से पूजा का उत्साह चरम पर होता है। देखा जाये तो दुर्गापू​जा में बिना ढाक के आगे पढ़ें »

ऊपर