झड़ते बालों ने कर दिया है जीना दुश्वार, आजमाएं ये कारगर देसी नुस्खे

Fallback Image

कोलकाता : बाल आपकी खूबसूरती में चार-चांद लगाते हैं लेकिन आज की लाइफस्टाइल, खान-पान और प्रदूषण के चलते बालों का झड़ना एक आम समस्या बन गया है। साथ ही इससे आपके बाल धीरे-धीरे पतले होते जा रहे हैं। ऐसे में आप गंजेपन के शिकार भी हो सकते हैं। इसलिए आज हम आपकी इस समस्या का सॉल्यूशन लेकर आए हैं। जिनको आजमा कर आप झड़ते बालों से टेंशन फ्री हो सकते हैं। ये कारगर घरेलू उपचार आपके बालों को सुंदर, घना और मजबूत बनाने में मददगार साबित होते हैं, तो चलिए जानते हैं बालों को झड़ने से बचाने के देसी नुस्खे…
प्याज का रस
इसके लिए आप सबसे पहले एक प्याज को छीलकर मिक्सी में पीस लें। फिर आप इसको रस निकालकर एक बाउल में डालें। इसके बाद आप इस रस को अपने बालों के जड़ों में अच्छी तरह से लगा लें। फिर आप हल्के हाथों से बालों की मसाज भी करें। इसके बाद हेयर वॉश कर लें। प्याज का रस बालों का झड़ना रोकता है इसके साथ ही इससे हेयर ग्रोथ में भी लाभ मिलता है।
मेथी दाना
इसके लिए आप एक कप मेथी दाना को पानी में रातभर भिगोकर रखें। फिर आप अगली सुबह इनको मिक्सी में डाल कर स्मूद पेस्ट बना लें। इसके बाद आप इस पेस्ट को अपने बालों में अच्छे से लगाकर करीब 30 से 40 मिनट तक रखें और धो लें। अगर आप हफ्ते में 1-2 बार इस नुस्खे को आजमाते हैं तो इससे हेयर फॉल कंट्रोल होता है।
आंवला
इसके लिए आप एक बाउल में एक चम्मच आंवला का पाउडर और आवश्यकतानुसार पानी डालकर पेस्ट तैयार करें। अगर आप चाहें तो इसमें नींबू के रस की कुछ बूंदे भी डाल सकते हैं। फिर आप इस पेस्ट को अपने बालों में अच्छी तरह से लगाएं। इसके बाद आप इसको करीब 35 से 40 मिनट तक लगाकर हेयर वॉश कर लें। आंवला विटामिन सी से भरपूर होती है जोकि आपके बालों का झड़ना रोकता है। इसके साथ ही इससे हेयर ग्रोथ में भी मदद मिलती है।

 

Visited 272 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

सिर्फ गर्दन का व्यायाम हमें इतने रोगों से रख सकता है दूर

कोलकाता : रीढ़ की हड्डी को कशेरूक दंड या मेरूदंड कहा जाता है। इससे समस्त कंकाल को सहारा मिलता है। रीढ़ की हड्डी या मेरूदंड आगे पढ़ें »

गुरुवार के दिन विष्णु भगवान की करें पूजा, इन 3 बातों को रखें ध्यान

नई दिल्ली: गुरुवार के दिन का हिंदूओं में विशेष महत्व है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और देवताओं के गुरु बृहस्पति देव की पूजा होती आगे पढ़ें »

ऊपर