कोविड के नये वेरिएंट को लेकर कोलकाता के अस्पतालों में हुआ मॉकड्रिल

डॉक्टरों की सलाह : लापरवाही का शिकंजा कमजोर हुआ तो एक महीने में गंभीर होगी स्थिति
अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त है, कुछ खामियां हैं जिन्हें जल्द दूर किया जाएगा
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोविड के नये वेरिएंट बीएफ-7 ने चीन, जापान समेत कई देशों में महामारी का रूप ले रखा है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की माने तो देश में भी कोविड के इस वेरिएंट ने दस्तक दे दी है। आने वाले समय में कोविड एक बार फिर विकराल रूप न ले ले उसे ध्यान में रखते हुए कोलकाता के अस्पतालों में इसे लेकर कोविड मॉकड्रिल किया गया। हालांकि कोविड मॉकड्रिल कोलकाता के अलावा पूरे देश में किया गया, जहां देखा गया कि अगर कोरोना की रफ्तार बढ़ती है या बेलगाम होती है तो स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह तैयार कि नहीं।
हर जिले में 2 अस्पतालों में खुल सकती है कोविड यूनिट
स्वास्थ्य विभाग के राज्य निदेशक एस. नियोगी के अनुसार राज्य में फिलहाल कोरोना की स्थिति पूरी तरह नियंत्रित है लेकिन आगामी दिनों को देखते हुए हर जिले में दो अस्पतालों में कोविड यूनिट खोलने का प्रस्ताव दिया गया है। चूंकि पश्चिम बंगाल में आज की स्थिति नियंत्रण में है, इसलिए कोविड मरीजों के लिए एक पूरा अस्पताल समर्पित करने की कोई आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा, हम घटनाक्रम पर कड़ी नजर रख रहे हैं और स्थिति के अनुसार कदम उठाएंगे।
इन अस्पतालों में हुआ कोविड मॉकड्रिल
एमआर बांगुर अस्पताल, बेलियाघाटा आईडी अस्पताल, मेडिकल कॉलेज व अस्पताल, आर जी कर मेडिकल कॉलेज, शंभूनाथ पंडित अस्पताल और डॉ. बीसी रॉय पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ पीडियाट्रिक साइंसेज समेत विभिन्न अस्पतालों में मॉकड्रिल किया गया, जहां देखा गया कि अस्पतालों में कोविड के मरीजों के लिए बेड की संख्या, जांच की सुविधा, मानव संसाधन, ऑक्सीजन आदि की जानकारी ली गयी।
इन बातों पर रखा गया खास ख्याल
बेलियाघाटा आईडी अस्पताल में कोविड के नोडल ऑफिसर डॉ. कौशिक चौधरी ने बताया ​कि मॉकड्रिल के दौरान कुछ बातों पर खास ध्यान दिया गया क्योंकि पिछले एक महीने से यहां कोविड का कोई मरीज नहीं है। इसलिए देखा गया कि अस्पतालों में इंफ्रास्ट्रक्चर कैसा है ? पीपीई किट कितनी है। मास्क और वेंटिलेटर की की संख्या कितनी है ? कोविड वार्ड कितने तैयार हैं ? बेड की संख्या कितनी है? संकट की स्थिति में ऑक्सीजन प्लांट काम कर रहे हैं या नहीं। अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई की स्थिति कैसी है? इन सभी की रिपोर्ट केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के पोर्टल में अपलोड किया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वंदे भारत एक्सप्रेस पर हमला को लेकर पीआईएल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : वंदे भारत एक्सप्रेस पर हुए हमले को लेकर एक पीआईएल दायर की गई है। एडवोकेट रमाप्रसाद सरकार ने यह पीआईएल दायर की आगे पढ़ें »

प्लेटफॉर्म छोड़ 500 मीटर दूर जाकर रुकी लोकल ट्रेन

विधाननगर रेलवे स्टेशन की घटना सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सोमवार की सुबह विधाननगर रेलवे स्टेशन पर लोकल ट्रेन प्लेटफॉर्म से 500 मीटर दूर जाकर रुकी। अचानक इस आगे पढ़ें »

ऊपर