डायबिटीज अवेयरनेस वीकः बस इस ड्राईफ्रूट को भिगोकर खाना कर दें शुरू

कोलकाताः डायबिटीज की परेशानी अगर हो जाए तो जीवनभर दवाइयों के सहारे चलना पड़ता है। जरा सा शुगर बढ़ते ही कई दवाइयां खानी पड़ती हैं। डायबिटीज के इलाज तो कई हैं, लेकिन इन दवाइयों से पूरी तरह ठीक हो पाना मुश्किल होता है। अगर डायबिटीज का इलाज नेचुरली किया जाए तो बहुत फायदेमंद है। डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए ड्राईफ्रूट का सेवन कर सकते हैं। अखरोट डायबिटीज में बड़ा फायदेमंद है। सर्दियों के दिनों में अखरोट खाने से कई फायदे होते हैं। भीगे हुए अखरोट खाने से न सिर्फ डायबिटीज कंट्रोल में रहती है बल्कि डायबिटीज होने का खतरा भी दूर होता है।

  • अखरोट में मौजूद न्यूट्रिएंट्स 

अखरोट में प्रोटीन, फाइबर, विटामिन ई, कार्ब्स, कैल्शियम,  पोटैशियम, आयरन, मैग्नीशियम, ओमेगा-3 फैटी एसिड और फोलेट जैसे न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं। अखरोट डायबिटीज को कंट्रोल करने के साथ ही कई और बीमारियों के खतरे को भी दूर करता है।

  • एंटी डायबिटिक होता  है अखरोट

अखरोट में एंटी डायबिटिक न्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं जो डायबिटीज को कंट्रोल करने का काम करते हैं। दरअसल अखरोट में मौजूद पोषक तत्वों की वजह से सेल्स शरीर में मौजूद इंसुलिन हॉर्मोन का बेहतर इस्तेमाल करने लगती हैं, इसी वजह से डायबिटीज कंट्रोल में रहती है। भीगे हुए अखरोट पचने में भी आसान होते हैं। इस तरह से अखरोट खाने से शुगर का लेवल कंट्रोल में रहता है।

  • ग्लूकोज करे कंट्रोल

अखरोट में फाइबर अच्छी-खासी मात्रा में पाए जाते हैं। अगर शुगर को कंट्रोल करना है तो भीगे हुए अखरोट को रोजाना की डाइट में शामिल कर लें। खून में ग्लूकोज का लेवल कम बना रहेगा।

  • कम करे कोलेस्ट्रॉल 

अखरोट कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने के काम भी आता है। भीगे हुए अखरोट को खाने से बैड कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। इससे हार्ट अटैक जैसी बीमारियों का खतरा भी कम होता है। कभी-कभी कोलेसट्रॉल बढ़ने की वजह से भी शुगर का लेवल बढ़ता है इस तरह से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहने से डायबिटीज भी कंट्रोल में रहती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

स्वास्थ्य विभाग में नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी का आरोप

घोला : स्वास्थ्य विभाग में नौकरी के नाम पर लाखों रुपये ठगने का आरोप घोला थाना अंतर्गत सोदपुर निवासी शेखर हेला ने सुखेन माझी नाम आगे पढ़ें »

कोविड काल में मिड डे मील से वंचित क्यों ? शिक्षक संगठन ने दी चिट्ठी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोविड काल में मिड डे मील से कक्षा 6 से 8 तक के स्टूडेंट्स को क्यों वंचित रखा गया, इस मुद्दे पर आगे पढ़ें »

ऊपर