टूटे हुए बाल रातोंरात बना देंगे लखपति, जानिए कैसे

नई दिल्ली: अक्सर लोग अपने टूटे हुए बालों से परेशान रहते हैं। इसके लिए वे कई ट्रीटमेंट लेते हैं और लाखों रुपए खर्च कर देते हैं, लेकिन कोई आपसे कहे कि ये ही टूटे हुए बाल आपको रातोंरात लखपति बना सकते हैं तो आश्चर्य होगा? जी हां, ये सच है कि इन टूटे हुए बालों की कीमत हजारों रुपए प्रति किलो तक मिल रही है।

हालांकि ये सब बाल की क्वालिटी और अन्य पहलुओं पर निर्भर करता है कि आपको इसके कितने रुपए दिए जाएं, लेकिन भारतीय बाजार में मोटे तौर पर इसके 2 से 5 हजार रुपए प्रति किलो तक मिल सकते हैं। कई वेबसाइट पर इसकी कीमत 12 हजार रुपए प्रति पीस तक भी मिलती है।

दरअसल, इन बालों की कीमत इसलिए भी ज्यादा मिलती है क्योंकि नेशनल-इंटरनेशनल मार्केट में इनकी काफी डिमांड है। इन्हीं बालों से विग बनाए जाते हैं। कैंसर के इलाज के दौरान मरीजों के बाल झड़ जाते हैं या अन्य वंशानुगत रोगों के कारण सिर से बाल कम होने लगते हैं। ऐसे में कई महिला पुरुष सिर पर नकली बाल यानी विग पहनते हैं। ये इंडस्ट्री इन बालों का उपयोग कर इंटरनेशनल मार्केट में सेल करती हैं।

आपने अक्सर ये भी देखा होगा कि कॉलोनी, गली, मोहल्लों में बाल देकर सामान या रुपए देने वाले आते हैं। वे ऐसे बालों को नॉन-रेमी हेयर या कॉम्ब वेस्ट कहते हैं। आगे जाकर ये बाल बड़े बिजनेस का हिस्सा बन जाते हैं। गली मोहल्लों से दो हजार रुपये किलो में बाल खरीदने वाले लोग बडे़ कारोबारियों को आगे मुनाफा कमाकर ये बाल बेच देते हैं। ये व्यापारी इन्हें कोलकाता, चेन्नई, आंध्र प्रदेश और अन्य हिस्सों में बेच देते हैं।

दरअसल, कंघी से झड़े बालों को ट्रांसप्लांट करना और इससे विग बनाना आसान होता है। इसीलिए इन बालों की कीमत कटे हुए बालों की अपेक्षा ज्यादा होती है। इन झड़े बालों को साफ करके एक तरह के कैमिकल में रखा जाता है। फिर इसे सीधा कर उपयोग में लाया जाता है। तो यदि आपके पास कुछ किलो बाल हैं तो आप भी इन बालों को बेचकर अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं। इसके लिए आप घर बैठे कुछ वेबसाइट्स पर रजिस्टर कर सकते हैं।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

राज्य में बढ़ी वैक्सीनेशन की रफ्तार

आज तीन करोड़ पहुंच सकता है वैक्सीनेशन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में वैक्सीनेशन ड्राइव पिछले कुछ दिनों में कम हुआ था। इसकी वजह थी कि वैक्सीन आगे पढ़ें »

ऊपर