सभी तरह के सुखों की प्राप्ति के लिए शुक्रवार को करें इस तरह से पूजा

कोलकाता : शुक्रवार के दिन मां संतोषी की वि​धि विधान से पूजा करना चाहिए। ऐसी मान्यता है, जो भी माता संतोषी की सच्चे दिल से पूजा अर्चना करता है उसे सभी तरह के सुखों की प्राप्ति होती है। माता संतोषी के व्रत जो भी रखता है उसे ध्यान रखना होता है कि वो भूल से भी खटाई बिल्कुल न खाएं । अगर आप माँ संतोषी का व्रत करने का विचार कर रहे हैं, किन्तु आपको इस व्रत की पूजन विधि और व्रत कथा नहीं मालूम तो आईए जानें शुक्रवार की व्रत कथा और पूजन विधि:

शुक्रवार व्रत की विधि:

1. सबसे पहले सूबह जल्दी उठें स्नान करके साफ वस्त्र धारण करें । इसके बाद व्रत का संकल्प लें।

2. इसके बाद मां संतोषी की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें।

3. इसके बाद कलश की स्थापना करें । लेकिन याद रखें कलश तांबे का ही हो। इसके बाद किसी बड़े पात्र में गुड़ और चने का प्रसाद रखें।

4. इसके बाद मां संतोषी का विधिवत पूजन करें , उनकी कथा सुने और अंत में मां संतोषी की आरती उतारें।

5. अंत में जल से भरे पात्र का जल पूरे घर में छिड़क दें । संतोषी माता के व्रत में खटाई का बिल्कुल भी प्रयोग न करें और न ही घर में किसी को करने दें।

शुक्रवार व्रत कथा :

एक समय की बात थी, एक नगर में बुढ़िया और उसका बेटा रह करता था । कुछ समय बाद बुढ़िया ने उसका विवाह कर दिया और विवाह के बाद बुढ़िया अपनी बहू से ही सारा काम करती और उसे खाना भी ठीक से न देती ।यह सब देख बुढ़िया के बेटे ने शहर जानी की सोची और बुढ़िया और अपनी पत्नी से आज्ञा मांगी तब उस बुढ़िया ने बहू को अपनी निशानी देने को कहा वो रोने लगी कि उसके पास तो ऐसी कोई भी निशानी नहीं है और वो शहर चला गया । एक दिन बुढ़िया की बहू ने देखा की नगर की सभी स्त्रियाँ माता संतोषी की पूजा कर रही है । उसने भी इस व्रत को करने की इच्छा व्यक्त की ,और उन स्त्रियों से उस व्रत की पूजा विधि पूछी एक लौटे में जल और गुड़ और चने का प्रसाद लेकर मां कि पूजा करें और इस दिन खटाई बिल्कुल भी न खाए । उसने ऐसा ही किया मां की कृपा से उसके पति की चिट्ठी और पैसे आने लगे।बहू ने बुढ़िया से कहा कि जैसे ही शहर से वो आएगें तो मैं इस व्रत का उद्यापन करूगीं संतोषी माता की असीम कृपा से उसका पति घर आ गया ,और फिर उसने उद्यापन किया किन्तु उसके पड़ोस में रहने वाली एक स्त्री उससे बहुत अधिक चिड़ती थी । उसने अपने बच्चों को खटाई खाने के लिए सीखा दिया । इसके बाद बच्चों ने ऐसा ही किया ।इसे माता संतोषी क्रोधित हो गयी और उसके पति को सिपाही पकड़कर ले गए । तब बुढ़िया की बहू ने माता से क्षमा याचना मांगी और पुन : उद्यापन किया माता की कृपा उसका पति घर आ गया और कुछ समय बाद उसे पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई ।

Visited 105 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Kolkata Metro Timing : आज से रात 11 बजे के बाद भी चलेगी मेट्रो !

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि मेट्रो रेलवे आज यानी 24 मई से प्रायोगिक तौर पर रात में ब्लू लाइन आगे पढ़ें »

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

आरक्षण पर कांग्रेस से मोदी का तीखा सवाल, ‘ब्राह्मण-बनिया परिवार में गरीब नहीं होते क्या?

OBC प्रमाणपत्रों को रद्द नहीं होने देंगे, ऊपरी कोर्ट में जाएंगे : ममता

हल्की गिरावट के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, Sensex ऑलटाइम हाई से लुढ़का

पैर से ‌लिखकर छात्र ने दी थी 12वीं की परीक्षा, आए इतने % अंक…

वोटिंग डाटा सार्वजनिक करने की मांग कर रहे याचिकाकर्ता को सुप्रीम कोर्ट से झटका

सौतेला बाप ही निकला अभिनेत्री लैला खान का हत्यारा, कोर्ट ने सुनाई ऐसी सजा….

Kolkata Metro: आज से दमदम और कवि सुभाष से आखिरी ट्रेन इतने बजे चलेगी …

ऑटो में महिला ने बच्चे को दिया जन्म, अस्पताल ने भर्ती करने से किया था मना 

हनीट्रैप में फंसा बांग्लादेश से सांसद को कोलकाता लाई ये महिला, यहां मास्टरमाइंड …

फैक्टरी विस्फोट में झुलस कर महिला की मौत, पति ने अंगूठी देखकर पहचाना

ऊपर