शनिवार के दिन कर लें ये काम, शनि देव के साथ हनुमान जी की भी होगी कृपा

कोलकाता : शनिवार के दिन न्याय के देवता शनिदेव की पूजा की जाती है। इस दिन शनिदेव को प्रसन्न करने के कई उपाय किए जाते हैं। शनि देव जिन पर प्रसन्न होते हैं उनके किसी भी काम में कभी भी बाधा नहीं आती है। शनिवार के दिन शनि की पूजा ही नहीं बल्कि हनुमान जी की पूजा करना भी बहुत शुभ माना जाता है। शनिवार के दिन कुछ खास कार्य करने से शनि देव के साथ-साथ हनुमान जी की भी कृपा प्राप्त होती है। इन कार्यों से शनि देव बहुत प्रसन्न होते हैं और सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं। आइए जानते हैं शनिवार के दिन क्या काम करने चाहिए।

शनिवार के दिन करें ये काम
  • शनिवार के दिन सुबह स्नान के बाद मंदिर में जाकर तांबे के बर्तन में जल और सिंदूर मिलाकर भगवान हनुमान को अर्पित करें( इसके बाद उन्हें गुड़, चना और केला अर्पित करें।
  •  हनुमान जी के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाएं और ‘श्री हनुमंते नमः’ मंत्र का जाप करें। इसके बाद हनुमान चालीसा का पाठ करें। ऐसा करने से भगवान हनुमान और शनि देव दोनों की कृपा प्राप्त होती है।
  • शनिवार के दिन शनि मंदिर में जाकर उन्हें आक का फूल चढ़ाएं। शनि देव को आक का फूल बहुत ही प्रिय है। मान्यता के अनुसार शनिवार के दिन शनि देव को यह फूल अर्पित करने पर शनि की ढैय्या और साढ़ेसाती से मुक्ति मिलती है।
  • ये फूल चढ़ाने से शनि देव की कृपा होती है और सारे बिगड़े काम भी बनने लगते हैं। शनिवार के दिन शनि देव को उनकी प्रिय वस्तुएं अर्पित करना अच्छा माना जाता है।
  • शनिवार के दिन हनुमान मंदिर जाकर सुंदरकांड का पाठ करने से भगवान हनुमान और शनि देव दोनों की विशेष कृपा प्राप्त होती है। ऐसा करने से हर समस्या का निवारण होता है।
  • अगर आपका कोई काम काफी लम्बे समय से अटका हुआ है तो हर शनिवार की शाम को हनुमान जी के मंदिर जाकर चमेली के तेल व सिंदुर से बजरंगबली का अभिषेक करें। जल्द ही आपके रुके हुए कार्य पूरे होंगे।
  • शनि देव की पूजा पास के किसी मंदिर में जाकर करना उचित होता है। इनकी पूजा करते समय इनके सामने दीपक नहीं जलाना चाहिए। इसके बजाए किसी पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाने से शनि देव प्रसन्न होते हैं।
Visited 189 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Wednesday Mantra : हर संकट से बचाता है बुधवार का यह उपाय, दूर होता है गृह कलेश

कोलकाता : सनातन धर्म में बुधवार का दिन भगवान गणेश को समर्पित है और इस दिन विधि-विधान के साथ गणेश जी की अराधना की जाए आगे पढ़ें »

Sankashti Chaturthi 2024 Date: द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी कब है, जानें महत्‍व, पूजाविधि और …

कोलकाता : द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी फाल्‍गुन मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी को कहते हैं। द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी 28 फरवरी को यानी आज है। इस आगे पढ़ें »

ऊपर