अपने जन्मदिन पर करते हैं ये 7 शुभ कार्य तो सुख से बीतता है पूरा …

कोलकाता : किसी भी व्यक्ति के जीवन में उसके जन्म का दिन बहुत महत्व रखता है इसलिए हर इंसान चाहता है कि उसका जन्मदिन बेहद खास हो। इसी के साथ वह कामना करता है कि आने वाले समय में उसका जीवन सुखमय और भविष्य उज्जवल हो। लोग अपने जन्मदिवस पर दोस्तों के साथ पार्टी आदि करते हैं खुशियां मनाना सही है लेकिन आज के समय में लोग इस दिन मदिरा आदि का सेवन भी करते हैं जोकि बहुत ही गलत होता है। जिस दिन ईश्वर के आशीर्वाद से हमने मनुष्य रुप में जन्म लिया हो उस दिन को बहुत ही अच्छे तरीके से मनाना चाहिए। इस शुभ दिन को यदि आप शुभ कार्यों के साथ मनाते हैं तो आने वाले समय में आपके ऊपर ईश्वर की कृपा बनी रहती है और आने वाला समय अच्छा रहता है। ज्योतिष में कुछ कार्य बताए गए हैं। अपने जन्म दिवस का दिन इन कार्यों करके आप पूरे वर्ष को सुखमय बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि कौन से हैं वे शुभ कार्य।
सूर्य को जल दें-
अपने जन्म दिवस पर प्रातः जल्दी उठकर सबसे पहले स्नानादि करने के पश्चात सूर्यदेव के दर्शन करने चाहिए और जल देना चाहिए। इसके बाद अपने इष्ट देव का ध्यान व पूजा आराधना करें। इसके साथ ही अपनी राशि के अनुसार स्वामी ग्रह का मंत्र जाप करना चाहिए। इससे आपके ऊपर देवताओं की कृपा बनी रहती है। प्रतिदिन यदि इसी तरह से अपने दिन की शुरुआत करते हैं तो आपका जीवन सुखमय बना रहता है।
बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद- 
अपने इष्टदेव की पूजा आराधना करने के पश्चात अपने से बड़े, माता-पिता, बुजुर्गों व गुरु का आशीर्वाद लेना चाहिए। व्यक्ति को अपने जीवन में सफलता करने के लिए कोई भी कार्य करने से पहले सदैव अपने बड़े बुजुर्गों का आशीर्वाद लेना चाहिए। जो लोग अपने से बड़ों का सम्मान करते हैं उनसे देवता भी प्रसन्न रहते हैं। यह कार्य हर व्यक्ति को प्रतिदिन करना चाहिए।
जरुरतमंदों की सेवा-
जरुरतमंदों की सेवा और दान-पुण्य करना सबसे शुभ कार्य होता है। अपने जन्मदिवस के दिन जरुरतमंदों की भोजन करवाना चाहिए। इसके साथ ही उन्हें अपनी क्षमतानुसार अन्न व जरुरत की चीजें दान करना चाहिए। किसी की मदद करने से ज्यादा खुशी आपको किसी अन्य कार्य में प्राप्त नहीं होती है। यदि आप इस दिन किसी जरुरतमंद की मदद करते हैं तो उसे संतुष्ट करके स्वयं भी भीतर से संतुष्टि प्राप्त करते हैं। दान मनुष्य के साथ जीवनभर रहता है।
रक्षा सूत्र-
इस दिन दान-पुण्य का कार्य पूर्ण करने के बाद घर के बड़े बुजुर्गों या फिर भाई-बहनों के द्वारा दिया गया धातु का कड़ा धारण करना चाहिए या फिर अपनी राशि के स्वामी ग्रह के नाम का रक्षा सूत्र अपने हाथ में बांधना चाहिए। माना जाता है कि यह आपको बुरी नजर व आने वाली समस्याओं से बचाकर रखता है।
ग्रहों की पूजा-
प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में ग्रहों का बहुत ही महत्व होता है। अपने जन्मदिवस के मौके पर आप अशुभ ग्रह से संबंधित दान आदि कर सकते हैं या फिर इनके निमित्त पूजन व जाप करना चाहिए। इससे आपके अशुभ ग्रह अनुकूल होते हैं और आपके जीवन से समस्याएं दूर होती हैं।
पशुओं की सेवा-
अपने जन्मदिन के मौके पर पशुओं की सेवा अवश्य करनी चाहिए। जो लोग अपने मन में पशु-पक्षियों को प्रति दयाभावना रखते हैं। उन्हें भोजन कराते हैं उनके ऊपर देवताओं की कृपा बनी रहती है। आप अपने जन्मदिवस पर बहुत सारा पैसा फालतू खर्च करने के बजाए यदि उन पैसों किसी गौशाला आदि में दान करते हैं या फिर गाय को चारा खिलाते हैं तो यह आपके लिए बहुत ही फायदेमंद रहता है।
जन्मदिवस पर कराएं रुद्राभिषेक-
यदि आपके जीवन में समस्याएं चल रही हैं या फिर आपको लग रहा है कि आपके हर कार्य में कुछ न कुछ विघ्न आ रहा है तो अपने जन्मदिन के मौके पर रुद्राभिषेक करवाएं। इससे वहां होने वाले मंत्रोच्चारण के कारण आपका मन तो शांत होगा ही साथ ही आपके जीवन में चल रही उठा-पटक भी दूर होती है। रुद्राभिषेक करवाने से भगवान शिव की कृपा तो प्राप्त होती ही है साथ ही में आपको ग्रहों के अशुभ प्रभावों के कारण होने वाली समस्याओं से भी मुक्ति प्राप्त होती है। जब रुद्राभिषेक पूर्ण हो जाए तो अपनी क्षमतानुसार ब्राह्मणों को उपहार आदि भेंट करने चाहिए। इसी के साथ एक साबुत नारियल लेकर उसे अपने सिर के ऊपर से वारकर नदी में प्रवाहित कर दें। मान्यता है कि इससे धीरे-धीरे आपका बुरा समय टल जाता है।
Visited 57 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

पश्चिम बंगाल में केंद्रीय सुरक्षाबल की 100 कंपनियां पहुंचीं, शिक्षा मंत्री ने जताई आपत्ति

कोलकाता : चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव की कभी भी घोषणा कर सकता है। चुनाव से पहले राज्य में केंद्रीय बल आ चुका है। शुक्रवार काे पहले आगे पढ़ें »

Jayant Sinha: जयंत सिन्हा ने चुनाव नहीं लड़ने का किया ऐलान, हाईकमान को फैसले के पीछे …

हजारीबाग : हजारीबाग से भारतीय जनता पार्टी के सांसद जयंत सिन्हा ने भी पार्टी से गुजारिश की है कि वह उन्हें चुनावी कर्तव्यों से मुक्त आगे पढ़ें »

ऊपर