सुशांत की एक्स Rhea के साथ इन स्टार्स ने शूट करने से किया मना

मुंबई : टीवी के पॉपुलर शो रोडीज का नया सीजन जल्द ही टेलीकास्ट होने वाला है। रोडीज के नए सीजन में कमाल के स्टंट और एक्शन देखने के लिए फैंस बेताब हैं। वहीं जब से यह खबर  सामने आई है कि एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती शो में बतौर गैंग लीडर नजर आने वाली हैं, तभी से शो और चैनल को जमकर सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा है। हाल में सामने आईं रिपोर्ट्स की मानें तो अब शो के बाकी गैंग लीडर्स यानी गौतम गुलाटी और प्रिंस नरूला ने भी रिया चक्रवर्ती के खिलाफ कोल्ड वॉर छेड़ दी है!
गौतम गुलाटी-प्रिंस नरूला ने रिया के साथ शूट करने से किया मना?
रिपोर्ट्स की मानें तो गौतम गुलाटी और प्रिंस नरूला ने रिया चक्रवर्ती के साथ रोडीज 19 की शूटिंग करने से मना कर दिया है। गौतम और प्रिंस के रिया के साथ ना काम करने के पीछे वजह लोगों की नफरत और ट्रोलिंग को बताया जा रहा है। रिया चक्रवर्ती का नाम जब से रोडिज 19 में बतौर गैंग लीडर सामने आया है तभी से शो और चैनल की लोग सोशल मीडिया पर खूब किरकिरी कर रहे हैं। ऐसे में गौतम गुलाटी और प्रिंस नरूला भी लोगों की ट्रोलिंग से बच नहीं पा रहे हैं। कहा जा रहा है कि खूब सारी शिकायतों के बाद गौतम और प्रिंस ने रिया के साथ ना काम करने का फैसला लिया है।
हालांकि इन सभी बातों पर मेकर्स, रिया, गौतम और प्रिंस नरूला की तरफ से कोई ऑफिशियल स्टेटमेंट नहीं जारी किया गया है।

बता दें, रोडीज: कर्म या कांड जून के पहले हफ्ते से टीवी पर टेलीकास्ट होने वाला है। शो के प्रमोशन्स से लेकर ऑडिशन्स पर काम चल रहा है। रिपोर्ट्स की मानें तो रोडीज का यह सीजन भी सोनू सूद होस्ट करने वाले हैं, लेकिन रिया चक्रवर्ती के नाम पर अब जो बवाल कट रहा है उसने शो लिए मुसीबतें बढ़ा दी हैं। इन सबके बीच रिया चक्रवर्ती रोडीज का हिस्सा बनी रहती हैं या नहीं इसको लेकर अभी कुछ कहना मुश्किल ही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

IPL 2024: पंजाब ने टॉस जीता, मुंबई की पहले बैटिंग, धवन टीम से बाहर

नई दिल्ली: IPL 2024 का 33वां मुकाबल पंजाब किंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच खेला जा रहा है। यह मैच चंडीगढ़ के मुल्लांपुर स्टेडियम में आगे पढ़ें »

Lok Sabha Elections 2024: पहले चरण में 102 सीटों पर होगी वोटिंग, यहां देखें लिस्ट

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के पहले चरण के तहत शुक्रवार को 102 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। देश के 21 राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों में वोटिंग आगे पढ़ें »

ऊपर