Rabindra Sarobar :अचानक यहां गिरता जा रहा है जलस्तर

सन्मार्ग संवाददाता

कोलकाता : रवीन्द्र सरोवर के गिरते जलस्तर से विशेषज्ञ चिंतित हैं। दक्षिण कोलकाता के ढाकुरिया इलाके में रवींद्र सरोवर का जल स्तर पिछले कई महीनों में काफी नीचे चला गया है, जिससे पर्यावरणविदों और नियमित आगंतुकों के बीच चिंता बढ़ गई है। एसएम घोष ने कहा कि रवींद्र सरोवर, जिसे राष्ट्रीय झील का दर्जा दिया गया है उसमें तत्काल खुदाई की जानी चाहिए। रविवार को झील के बीच में कुछ स्थानों पर जल स्तर छह फीट (1.82 मीटर) तक गिर गया। घोष ने कहा, ’60 साल पहले भी झील से सटी गोबिंदपुर झुग्गी के लोग बर्तन धोने के लिए यहां आते थे और बच्चे पानी के छींटे मारते थे। पुराने घाट का जो ढांचा डूब गया था, वह फिर से उभर आया है। पिछले वर्षों में झील का जल स्तर आधे से अधिक गिर गया है, जिसके परिणामस्वरूप भूजल स्तर में गिरावट आई है।’ कोलकाता मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (केएमडीए) झील की ड्रेजिंग का कार्य करता है। केएमडीए के एक अधिकारी ने कहा कि आगंतुकों और कर्मचारियों ने बताया है कि झील के दो हिस्सों में इसकी सीमा के पास ‘चर’ (सतह की जमीन) आ गई है और झील के बीच में जल स्तर कुछ हद तक नीचे आ गया है। हाल के वर्षों में झील के इतिहास में यह अभूतपूर्व है। स्थिति का जायजा लेने के लिए एक आपात बैठक बुलाई गई है। अधिकारी ने कहा, ‘पिछले एक साल में पर्याप्त बारिश की कमी से संकट पैदा हो सकता है, लेकिन हमें झील को उसकी पुरानी स्थिति में बहाल करने के विकल्पों के बारे में सोचना होगा।’ उन्होंने कहा कि केएमडीए आउटलेट चैनलों को अस्थायी रूप से प्लग करने के प्रस्ताव पर विचार कर रहा है, जो जल निकाय से पानी के प्रवाह को बाहर ले जाते हैं। अधिकारी ने कहा कि जल्द ही विशेषज्ञों द्वारा झील की मैपिंग की जाएगी। केएमडीए के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि जलाशय के बीच में करीब 20 फुट की गहराई है। जियो साइंटिस्ट सुजीब कर ने कहा, ‘पहले रवींद्र सरोवर को गंगा नदी से जोड़ा गया था। लेकिन 1737 में विनाशकारी तूफान के बाद झील नदी से अलग हो गई और आदि-गंगा से प्रवाह अवरुद्ध हो गया। झील अभी भी आदि-गंगा के साथ जुड़ी हुई है। पानी का निर्वहन झील के जल स्तर में गिरावट का कारण बन रहा है। रवींद्र सरोवर 90 एकड़ का जल निकाय है जो वनस्पतियों और जीवों से समृद्ध लगभग 100 एकड़ सतह क्षेत्र से घिरा हुआ है। कर ने कहा कि जल निकाय का संरक्षण जरूरी है और अगर हम झील की रक्षा करने में असमर्थ हैं, तो शहर के दक्षिणी हिस्सों में गोलपार्क और टॉलीगंज के बीच का विशाल क्षेत्र प्रभावित हो सकता है। कोलकाता के विभिन्न हिस्सों में भूजल की बड़े पैमाने पर निकासी और जल निकायों की घटती संख्या के कारण भूजल के प्रतिबंधित पुनर्भरण से रवीन्द्र सरोवर पर दबाव पड़ रहा है जो एक विशाल क्षेत्र के भूजल के फीडर के रूप में कार्य करता है और यह जल स्तर के मौसमी उतार-चढ़ाव को ट्रिगर कर रहा है। कर ने यह दावा किया कि पिछले पांच दशकों में जल निकाय का कोई मानचित्रण नहीं हुआ है जबकि यह हर पांच साल में किया जाना चाहिए था।

Visited 133 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

आईएसपीएल को लेकर उत्साहित हैं बॉलीवुड सितारे, सैफ-अभिषेक ने …

मुंबई : इंडियन स्ट्रीट प्रीमियर लीग (आईएसपीएल) जल्द ही लोगों का मनोरंजन करने के लिए शुरू होने जा रहा है। दर्शकों को इस टेनिस बॉल आगे पढ़ें »

लोकसभा चुनाव से पहले लागू होगा CAA ?

नई दिल्ली: देश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) जल्द लागू हो सकता है। सूत्रों के अनुसार, लोकसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता जारी होने आगे पढ़ें »

ऊपर