महानगर के सभी थानों को पर्याप्त आंसू गैस के गोले और हेलमेट के साथ तैयार रहने का निर्देश

लालबाजार ने सभी डीसी और थानों में भेजा निर्देश
डीसी को स्टॉक चेक करने के लिए कहा गया
तिलजला की घटना के बाद कानून व्यवस्था की रक्षा के लिए तत्पर हुई पुलिस
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर के सभी पुलिस डिविजन और सभी पुलिस स्टेशन को कानून व्यवस्था की परिस्थिति के दौरान इस्तेमाल होने वाले आंसू गैस दागने वाले बंदूक, आंसू गैस के गोले और ग्रेनेड्स के स्टॉक की जांच करने का निर्देश लालबाजार ने दिया है। कोलकाता पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार कानून व्यवस्था की परिस्थिति में भीड़ नियंत्रण के लिए इस्तेमाल होने वाले यंत्रों के स्टॉक की जांच जरूरी है ताकि पता चल सके कि स्थानीय पुलिस स्टेशन किसी भी कानून व्यवस्था की स्थिति से निपटने में सक्षम है या नहीं। लालबाजार की तरफ से जारी निर्देशिका में कहा गया है कि सभी पुलिस स्टेशन को गैस गन, टियर शेल और ग्रेनेड्स दिए गए हैं। सभी डिविजनल डीसी यह रिव्यू कर देखें कि उनके थानों में पर्याप्त संख्या में चीजें उपलब्ध हैं कि नहीं। इसके अलावा बॉडी शील्ड, हेलमेट की स्टॉक की भी जांच की जानी चाहिए।
पुलिस कर्मियों के लिए आयोजित होगा ट्रेनिंग शिविर
ज्वाइंट सीपी ट्रेनिंग की तरफ से आंसू गैस के गोले दागने के लिए प्रशिक्षण शिविर का भी आयोजन किया जाएगा। किसी भी तरह की कानून व्यवस्था की परिस्थिति से निपटने के लिए प्रत्येक डिविजन में एक कंपोजिट टीम तैयार रहनी चाहिए। जिन पुलिस स्टेशन के पास गैस गन नहीं हैं वह तुरंत इसे कलेक्ट कर लें। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि लॉ एंड ऑर्डर की ड्यूटी करने वाले पुलिस कर्मियों के लिए जल्द प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जाएगा। किसी भी तरह की कानून व्यवस्था की परिस्थिति में एंटी राइट गैजेट का इस्तेमाल आसानी से करने के लिए इसकी रूटीन ट्रेनिंग की जरूरत होती है, इसलिए पुलिस अब इस तरह की ट्रेनिंग कार्यक्रम भी आयोजित करेगी। यहां उल्लेखनीय है कि सोमवार को तिलजला के बंडेल गेट इलाके में एक 7 साल की बच्ची की हत्या को केंद्र कर स्थानीय लोगों ने जमकर बवाल मचाया। लोगों ने पहले सोमवार की सुबह से तिलजला के पिकनिक गार्डन रोड में सड़क अवरोध कर प्रदर्शन किया। बाद में रेल अवरोध भी किया। सड़क अवरोध हटाने गए पुलिस कर्मियों को लक्ष्य कर पथराव किया गया। आरोप है कि प्रदर्शनकारियों ने 6 पुलिस वाहनों में तोड़फोड़ कर उसमें आग लगा दी थी। बाद में ज्वाइंट सीपी ट्रैफिक रूपेश कुमार के नेतृत्व में भारी संख्या में पुलिस कर्मी घटनास्थल पर पहुंचे और हल्का बल प्रयोग कर स्थिति को नियंत्रित किया। इससे पहले स्थानीय डिविजनल डीसी ने भी प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने की कोशिश की थी, लेकिन उनके ऊपर पथराव होने पर पुलिस कर्मियों को पीछे हटना पड़ा था। वहीं पुलिस वाहन में तोड़फोड़ और आगजनी मामले में पुलिस ने 20 लोगों को गिरफ्तार किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ईरान के कब्जे वाले जहाज से एक महिला सदस्य भारत वापस लौटीं

कोलकाता: ईरान के कब्जे में भारतीय क्रू मेंबर्स को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है। दरअसल, ईरान द्वारा कब्जा किए गए कंटेनर शिप पर सवार आगे पढ़ें »

दिनभर की तेजी के बाद गिरकर बंद हुआ शेयर बाजार, जानें सेक्टोरल सूचकांकों का हाल

नई दिल्ली: शेयर बाजार में आज अच्छी शुरुआत के बाद गिरावट के साथ बंद हुआ है। Sensex आज 0.62 फीसदी या 454.69 अंक की गिरावट आगे पढ़ें »

ऊपर