पार्थ, अर्पिता और मानिक के पास से मिली कितने करोड़ की संपत्ति!

ईडी ने अदालत को दी जानकारी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य में शिक्षक नियुक्त‌ि घोटाले से किन नेताओं को कितनी कमाई हुई, इसे लेकर ईडी अधिकारी जांच कर रहे हैं। आरोप है कि नेताओं ने करोड़ों रुपये का लेनदेन किया है। इस घोटाले में कई मंत्री और नेताओं के नाम सामने आए हैं।
नियुक्त‌ि घोटाले की जांच के दौरान ईडी अधिकारियों को कितने रुपये का हिसाब मिला है, इस‌ सिलसिले में ईडी अधिकारियों ने कलकत्ता हाईकोर्ट में रिपोर्ट पेश की है। रिपोर्ट में पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी और मानिक भट्टाचार्य की संपत्ति के हिसाब का उल्लेख किया गया है। ईडी ने बताया कि जांच के दौरान पार्थ चट्टोपाध्याय की करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के पास से 49.80 करोड़ रुपये की नकदी और 5 करोड़ रुपये के सोने के आभूषण जब्त किए गए हैं। बाद के मामले में 48.67 करोड़ रुपये की एक और संपत्ति का पता चला था, जो अर्पिता मुखर्जी और पार्थ चटर्जी के नाम पर थी। ईडी ने दावा किया कि पार्थ चटर्जी इन संपत्तियों के मालिक थे। केंद्रीय एजेंसी के मुताबिक, पार्थ के पास अर्पिता मुखर्जी और कुछ अन्य व्यक्तियों के नाम से कई संपत्तियां थीं, जिनका अस्तित्व ही नहीं है। रिपोर्ट में आगे दावा किया गया है कि मानिक भट्टाचार्य अकेले ही लगभग 29 करोड़ रुपये के अवैध लेनदेन में शामिल थे। बाद के मामले में 7.93 करोड़ रुपये की एक और संपत्ति का पता चला जो मानिक भट्टाचार्य और उनके परिवार के नाम पर थी। यह भी दावा किया गया है कि विभिन्न व्यक्तियों द्वारा लगभग 250 करोड़ रुपये का लेन-देन किया गया है। यह भी कहा जाता है कि नियुक्त‌ि घोटाले का रुपये बंगाली फिल्म उद्योग में भी लगाया गया है। अब तक 111 करोड़ रुपए कैश में ही वसूले जा चुके हैं।

Visited 71 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

Lok Sabha Election 2024: पीएम मोदी का कांग्रेस पर हमला, देश तोड़ने का लगाया आरोप

सक्ती: PM मोदी ने मंगलवार को छत्तीसगढ़ के सक्ती में एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर उसके गोवा के लोकसभा आगे पढ़ें »

ऊपर