भाई दूज के दिन अपनों को भेजे ये खास संदेश…

कोलकाता: कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को हर साल भाई दूज का पर्व मनाया जाता है। यह पर्व भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है। इस साल भाई दूज को लेकर असमंजस की स्थिति है। कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि 26 और 27 अक्टूबर दोनों दिन रहेगी। ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि भाई दूज का त्योहार दोनों तिथियों पर मनाया जा सकेगा। इस भाई दूज पर अपने भाई के साथ-साथ दोस्तों और रिश्तेदारों को इन खास मैसेज के जरिए शुभकामनाएं दे।

1. ये त्यौहार है कुछ खास, बनी रहे भाई बहन के प्यार की मिठास।
हैप्पी भाई दूज!

2. खुशनसीब होते हैं वो भाई जिनके सिर पर बहनों का हाथ होता है,
चाहे कुछ भी हो हालात, ये एक ऐसा रिश्ता है, जो हमेशा साथ होता है।
हैप्पी भाई दूज!

3. भाई बहन सदा पास रहे,
दोनों में अटूट प्यार रहे,
भाई दूज की हार्दिक शुभकामनाएं!

4. भाई दूज का आया है शुभ त्यौहार
बहनों की दुआएं भाइयों के लिए अपार
रिश्ता है यह बहुत अटूट
सदा रहे बंधन मज़बूत।
भाई दूज की शुभकामनाएं!

5. हे ईश्वर बहुत प्यारा है मेरा भाई
मेरी मां का दुलारा है मेरा भाई
न देना उसे कोई कष्ट कभी
खुशियां पाए वो सदा सभी।
हैप्पी भाई दूज!

6. भाईदूज के इस पावन अवसर पर आपकी हर मनोकामना पूरी हो,
वो हर चीज़ आपके पास रहे जो आप के लिए ज़रूरी हो।
हैप्पी भाईदूज!

7. याद है हमारा वो बचपन
वो लड़ना-झगड़ना और मनाना
यही होता है भाई बहन का प्यार
इसी प्यार का प्रतीक है
भाई दूज का त्यौहार।
भाई दूज की शुभकामनाएं!

8. खुशियों की शहनाई आंगन में बजे
मेरे भाई के द्वार सदा दीपक से सजे
न हो कोई दुःख उसके जीवन में
कृपा रहे तेरी भगवन सदा उसके जीवन में।
हैप्पी भाई दूज!

9. प्रेम और विश्वास का बंधन दर्शाता यह त्योहार है
खुश रहे भाई सदा यह बहन के दिल की मुराद है।
भाई दूज की शुभकामनाएं।।

10. चंदन का टीका रेशम का धागा
सावन की सुगंध बारिश की फुहार
भाई की उम्मीद बहना का प्यार
मुबारक हो आपको भाई दूज का त्योहार!!

Visited 282 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

वर्क आउट के दौरान नो लाउड म्यूजिक

एक्सरसाइज करते समय ज्यादातर यंगस्टर्स लाउड म्यूजिक सुनना पसंद करते हैं। पार्क हो या जिम सेंटर, दोनों जगह पर म्यूजिक के साथ वर्क आउट एंज्वॉय आगे पढ़ें »

सोमवार को विधि-विधान से करें भगवान शिव की पूजा, 4 बातों का रखे …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भगवान शिव की पूजा का बहुत महत्व है। शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव जितने भोले हैं, उतने ही गुस्‍से वाले आगे पढ़ें »

ऊपर