Durga Puja 2023 : किस बड़े पूजा पंडाल में लोगों की कितनी लम्बी लाइन लगी है, घर बैठे …

कोलकाता पुलिस चालू करेगी ‘पूजा क्यू वेटिंग टाइम एंड डिस्प्ले सिस्टम’
महानगर के विभिन्न क्रॉसिंग व सोशल मीडिया पर पंडालों की भीड़ की दी जाएगी जानकारी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में दुर्गा पूजा को अब 50 दिन से भी कम समय बचा है। महानगर के अधिकतर पूजा आयोजक अपने पंडालों के निर्माण कार्य को तेजी से आगे बढ़ा रहे हैं। पिछले साल यूनेस्को द्वारा दुर्गा पूजा को कल्चरल हेरिटेज की स्वीकृत‌ि मिलने के बाद से बंगाल सहित पूरे विश्व भर से लोग कोलकाता की दुर्गा पूजा देखने के लिए भारी संख्या में आते हैं। देश के विभिन्न राज्यों से भी लोग दुर्गा पूजा देखने के लिए कोलकाता पहुंचते हैं। इसके कारण दक्षिण कोलकाता के अधिकतर पूजा पंडालों में लाखों लोगों की भीड़ उमड़ती है। कई बार पूजा पंडालों में लोगों की भीड़ उमड़ने के कारण महानगर की ट्रैफिक व्यवस्था चरमरा जाती है। ऐसे में इस साल दुर्गा पूजा में आम नागरिकों और दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए कोलकाता पुलिस एक अत्याधुनिक सिस्टम का इस्तेमाल करेगी। इस सिस्टम के तहत कोलकाता पुलिस महानगर के करीब 20 बड़े पूजा पंडालों में किस समय कितने लोगों की भीड़ है और वहां पर कितनी लम्बी लाइन लगी है, इसके रियल टाइम की जानकारी लोगों को देगी। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गयी है। कोलकाता पुलिस के रिसर्च एंड डेवलपमेंट विंग के सदस्य इस बार दुर्गा पूजा में ‘पूजा क्यू वेटिंग टाइम एंड डिस्प्ले सिस्टम’ को लागू करेंगे। इसके लिए पिछले कई महीनों से आर एंड डी टीम के प्रभारी व ज्वाइंट सीपी (ओ) सैयद वकार रजा के नेतृत्व में रिसर्च चल रहा था। कोलकाता पुलिस इस साल दुर्गा पूजा में महानगरवासियों और दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए इस सिस्टम को ला रही है। सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को लालबाजार में इस सिस्टम को लेकर कोलकाता पुलिस कमिश्नर विनीत गोयल और आर एंड डी टीम के अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक के दौरान आर एंड डी टीम के अधिकारियों ने पुलिस कमिश्नर को उक्त सिस्टम के बारे में जानकारी दी। सीपी ने इस नये स‌िस्टम को हरी झंडी दे दी है।
क्या है पूजा क्यू वेटिंग एंड टाइम डिस्प्ले सिस्टम
पुलिस सूत्रों के अनुसार पूजा क्यू एंड वेटिंग सिस्टम एक अत्याधुनिक सिस्टम है। इस सिस्टम के जरिए किस पूजा पंडाल के बाहर लोगों की कितनी भीड़ है, इसका आसानी से पता चल जाएगा। इस सिस्टम को पुलिस जीपीएस, ऐप और एक वेबसाइट की मदद से व्यवहार करेगी। इसके लिए चिह्नित बड़े पूजा पंडालों के बाहर पुलिस की एक टीम रहेगी जो कैमरा और बैकपेक और विशेष कैमरे की सहायता से वहां मौजूद लोगों की संख्या को गिनेगी और वहां पर खतार में खड़े लोगों की तस्वीर लेगी। इसके बाद उस भीड़ को पंडाल के अंदर प्रवेश करने व बाहर निकलने का समय भी बताएगी। ऐसे में एक पूजा पंडाल में कितना समय लगेगा इसकी जानकारी भी दी जाएगी।
शहर के महत्वपूर्ण क्रॉसिंग व सोशल मीडिया पर दी जाएगी जानकारी
पुलिस सूत्रों के अनुसार इस साल दुर्गा के पंचमी के दिन से इस नए सिस्टम का इस्तेमाल किया जाएगा। इस साल महानगर के 15-20 महत्वपूर्ण पूजा पंडालों में उमड़ीलोगों की भीड़ और वहां पर कतार में खड़े लोगों की रियल टाइम वेटिंग टाइम के बारे में विभिन्न महत्वपूर्ण क्रॉसिंग और सोशल मीडिया पर जानकारी दी जाएगी। इससे आम नागरिक और दर्शनार्थी अपनी सु‌विधा के अनुसरा भीड़-भाड़ वाले पूजा पंडालों में पहुंचेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Radha Ashtami 2023: राधा अष्टमी पर अगर पहली बार रखने जा …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की अष्टमी की तिथि को बहुत ज्यादा धार्मिक महत्व माना गया है क्योंकि इस दिन भगवान आगे पढ़ें »

सन्मार्ग अपराजिता के 12वें संस्करण का सफल आयोजन

कोलकाता : पूर्वी भारत में नारी सशक्तीकरण के सबसे बड़े सम्मान समारोह धूत ग्रुप प्रेजेंट्स सन्मार्ग अपराजिता पावर्ड बाय बीएमडी एवं बंगाल एनर्जी और को-पावर्ड आगे पढ़ें »

भारतीय निशानेबाजों ने जीता गोल्ड, 10 मीटर एयर राइफल में टूटा चीन का रिकॉर्ड

Asian Games 2023: भारतीय लड़कियों ने जीता गोल्ड, टिटास की शानदार गेंदबाजी

रूबरू 2.0 में अध्यात्म गुरु मोनिका सिंघल ने सफल जीवन के लिए किया मोटिवेट

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता गौरांग जालान मिश्र कर रहे हैं अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भारत का प्रतिनिधित्व

कांग्रेस जंग लगा लोहा है, जहां जाती है प्रदेश बर्बाद होता है- पीएम मोदी

Sharadiya Navratri : हाथी पर सवार होकर आएंगी मां दुर्गा, जानें नवरात्रि की डेट, कलश स्‍थापना की …

महाराष्ट्र सीएम शिंदे के घर पहुंचे कई बॉलीवुड स्टार, गणेश उत्सव में हुए शामिल

Raghav-Parineeti Wedding : … तो ये है ‌Priyanka Chopra के शादी में ना आने की वजह

तेज AC चलाकर सो गई डॉक्टर, ठंड से गई दो नवजात की जान

ऊपर