मंगलवार के दिन इस विधि से करें हनुमान जी की पूजा, दूर होगी सारी विपत्ति

कोलकाता :  हिंदू धर्म में मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा का विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है कि अगर आप आर्थिक समस्याओं से घिरे हुए हैं या आप किसी कार्य को लेकर परेशान हैं और उसमें सफलता नहीं पा रहे हैं तो आज हम आपको हनुमान जी की पूजा का ऐसा उपाय बताएंगे। जिसे मंगलवार के दिन करने से आपकी सारी समस्या दूर हो जाएगी और आपके जीवन में मंगल होना शुरू हो जाएगा। आइए जानते हैं समस्याओं से छुटकारा के लिए किस विधि से करें संकट मोचन हनुमान जी की पूजा जिससे हनुमान जी प्रसन्न होंगे।

  • अगर आप आर्थिक समस्याओं से घिरे हुए हैं या आपको कार्यों में सफलता नहीं मिल रही हैं तो मंगलवार का व्रत रखें। इस दिन घर पर या हनुमान जी के मंदिर में जाकर विधि-विधान से पूजा करें। ऐसी मान्यता है कि संकटमोचन हनुमान जी कलयुग के देवता हैं। जो भक्त मंगलवार का व्रत रख कर हनुमान जी की पूजा विधि विधान से करते हैं। उन पर हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और उनकी हर मनोकामना पूरी होती है।
  • हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए इस विधि से करें पूजा
    मंगलवार के दिन सुबह स्नान करने के बाद नजदीक के मंदिर में जाएं। हनुमान जी को लाल रंग के फूल चढ़ा कर चमेली के तेल में दीपक जलाएं। अब आप आसनी लगाकर बैठ जाएं और सुंदरकांड का पाठ करें। सुंदरकांड का पाठ समाप्त होने के उपरांत क्रमशः हनुमान चालीसा, बजरंगबाण करने के बाद हनुमान जी की आरती करें। ऐसा करने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और आपकी मनचाही मनोकामना पूरी होती है।
  • हनुमान जी के पूजा करने का सही समय
    जो भक्त मंगलवार के दिन हनुमान जी का व्रत रखते हैं, वो इस दिन सुबह और शाम को किसी भी समय हनुमान जी की पूजा कर सकते हैं। जो भक्त इस दिन हनुमान जी की पूजा करते हैं। उन्हें सम्मान, बल, साहस और पुरुषार्ष में वृद्धि होती है। ऐसे लोगों के जीवन में कभी संकट नहीं आता है।
शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शरीर पर 26 वार, गर्दन पर 10 गहरे जख्म… सामने आई कन्हैयालाल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट

राजस्थान : राजस्थान के उदयपुर में मारे गए टेलर कन्हैयालाल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़े खुलासे हुए हैं। कन्हैयालाल के शरीर पर 26 वार किए आगे पढ़ें »

ऊपर