FIH Pro League 2024: भारतीय हॉकी टीम ने नीदरलैंड को 4-2 से हराया

भुवनेश्वर: अनुभवी गोलकीपर पीआर श्रीजेश के शानदार खेल के दम पर भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रविवार(11 फरवरी) को यहां एफआईएच प्रो लीग में दुनिया की नंबर एक टीम नीदरलैंड को पेनाल्टी शूटआउट में 4-2 से हराकर अपनी लगातार दूसरी जीत दर्ज की। श्रीजेश ने शूटआउट में तीन बचाव किये और इस तरह से भारत को दो बोनस अंक दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

पेनाल्टी शूटआउट ने भारत ने किया गोल

नीदरलैंड को इस मुकाबले से एक अंक मिला। दोनों टीम निर्धारित समय में 2-2 से बराबरी पर थी। इसके बाद पेनाल्टी शूटआउट का सहारा लिया गया। शूटआउट में दुनिया की तीसरे नंबर की टीम भारत की तरफ से कप्तान हरमनप्रीत सिंह, सुखजीत सिंह, ललित कुमार उपाध्याय और शमशेर सिंह ने गोल किए। इससे पहले निर्धारित समय में हार्दिक सिंह (13वें मिनट) और हरमनप्रीत (58वें मिनट) ने भारत के लिए जबकि जिप जानसेन (30वें) और कोएन बिजेन (39वें) ने नीदरलैंड की तरफ से गोल किए। नीदरलैंड ने खेल के शुरू में भारतीय रक्षा पंक्ति को व्यस्त रखा। भारत ने खेल आगे बढ़ाने के साथ आत्मविश्वास हासिल किया।

भारत को 12वें मिनट में लगातार दो पेनल्टी कार्नर मिले लेकिन अपना 200वां अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे हरमनप्रीत इन पर गोल करने में नाकाम रहे। हार्दिक सिंह ने हालांकि इसके तुरंत बाद मैदानी गोल करके भारत को बढ़त दिलाई। मध्यांतर से 12 सेकंड पहले जानसेन ने पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलकर नीदरलैंड को बराबरी दिला दी थी। तीसरे क्वार्टर के नौवें मिनट में बिजेन ने रिबाउंड पर गोल करके नीदरलैंड को 2-1 से आगे कर दिया। नीदरलैंड ने इसके बाद भी दबाव बनाए रखा लेकिन भारत को इस बीच दो पेनाल्टी कार्नर मिले लेकिन इन दोनों का फायदा उठाने में वह नाकाम रहा। खेल समाप्ति के 2 मिनट पहले भारत को एक और पेनाल्टी कार्नर मिला जिसे हरमनप्रीत ने गोल में बदलने में कोई गलती नहीं की।

Visited 28 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

वर्क आउट के दौरान नो लाउड म्यूजिक

एक्सरसाइज करते समय ज्यादातर यंगस्टर्स लाउड म्यूजिक सुनना पसंद करते हैं। पार्क हो या जिम सेंटर, दोनों जगह पर म्यूजिक के साथ वर्क आउट एंज्वॉय आगे पढ़ें »

सोमवार को विधि-विधान से करें भगवान शिव की पूजा, 4 बातों का रखे …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भगवान शिव की पूजा का बहुत महत्व है। शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव जितने भोले हैं, उतने ही गुस्‍से वाले आगे पढ़ें »

ऊपर