कमजोर शरीर से हैं परेशान? लाइफस्टाइल में आज से ही करें ये बदलाव

कोलकाता: खाना-पीना, सोना-जागना, काम करना, आराम आदि यह सब बातें हमारे जीवन पर महत्त्वपूर्ण प्रभाव डालती हैं। अपने जीवन को सुखमय और स्वस्थ रखने हेतु अपने आहार-विहार पर ध्यान देना आवश्यक है। यदि आप भी चाहते हैं कि आप जीवन भर सुखी और स्वस्थ रहें तो ध्यान दें कुछ महत्त्वपूर्ण सूत्रों की ओर।

– सुबह उठते ही ताम्रपात्र का बासी जल खाली पेट लें।

– शरीर को सुडौल रखने के लिए प्रात:काल उठ कर खुली हवा में सैर करनी चाहिए और हल्के व्यायाम भी करने चाहिए।

– चाय, कॉफी का सेवन कम करते हुए दूध का सेवन करें क्योंकि दूध संतुलित आहार है।

– जब अच्छी तरह से भूख लगे तभी खाना खायें। खाने के तुरन्त बाद चाय आदि न पिएं।

– भोजन में तेज़ मसालों का प्रयोग न करें। भोजन हल्का व कम मसाले वाला खायें।

– तला हुआ भोजन स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है। भोजन ताजा और कम वसा में बना हुआ खायें।

– शारीरिक और मानसिक थकान दूर करने के लिए बीच में कुछ देर के लिए विश्राम करें। रात में अधिक देर तक न जागें, न ही प्रात: देर से उठें।

– रात्रि के भोजन और सोने में 2 से 3 घंटे का अंतराल रखें।

– सोते समय और जागने के बाद मुंह और दांत अच्छी तरह साफ करें।

– खाने के एकदम बाद न सोयें, न ही जागने के तुरंत बाद कुछ खायें।

– भोजन हमेशा हाथ धोकर और साफ बर्तनों में खायें।

– संतुलित आहार को जीवन का अंग बनायें जिनमें विटामिंस, फल, हरी सब्जियां, दालें, दूध, दही आदि हों।

– भोजन अच्छी तरह से चबा चबा कर खायें और पानी को एक एक घूंट कर के पिएं।

– भोजन नियमित समय पर लें। हो सके तो सप्ताह में एक दिन फलाहार रहें या रसाहार रहें।

– नींद पूरी लें। कम नींद लेने से दिमाग पर और शरीर पर कुप्रभाव पड़ता है। अधिक सोना भी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता। यदि हम इन छोटी-छोटी आदतों को अपने जीवन में ढ़ाल लें तो हम स्वस्थ रह सकते हैं। हमारा जीवन सुखमय बन सकता है। बस आवश्यकता है अपने आहार-विहार पर नियंत्रण रखने की।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

बदलते मौसम में शरीर में एनर्जी की लगती है कमी ? इन बातों का रखें ध्यान

कोलकाता:  दिसंबर का महिना आ गया है। धीरे-धीरे ठंड भी बढ़ रही है। ऐसे समय में बदलते मौसम के कारण शरीर में एनर्जी की कमी आगे पढ़ें »

आज देश के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती, इस तरह से गुजरा आखिरी समय

नई दिल्ली: देश के पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद की आज(3 दिसंबर)  जयंती है। उनका जन्म बंगाल प्रेसीडेंसी में जेरादेई में 03 दिसंबर 1884 को हुआ आगे पढ़ें »

ऊपर