Kolkata Building Collpase : 57 घंटे बाद अभियान को एनडीआरएफ ने किया बंद

कोलकाता : गार्डनरिच में एक चार मंजिला अवैध इमारत गिरने के 55 घंटे बाद, सोमवार तड़के से 17 अनमोल जिंदगियों को बचाने और 10 शवों को बाहर निकालने वाली एजेंसियों ने बुधवार शाम को ऑपरेशन बंद कर दिया। हालांकि, अभी भी कम से कम एक स्थानीय निवासी और दो मजदूर लापता हैं। माना जा रहा है कि वे मलबे में दबे हुए हैं। एनडीआरएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सन्मार्ग को बताया कि “हमने पिछले तीन दिनों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है और नीचे तक सभी रास्ते खोदे हैं, लेकिन किसी तरह, हम मलबे के नीचे किसी और शव का पता नहीं लगा पाए हैं। स्थानीय लोगों का दावा है कि उसी क्षेत्र का कम से कम एक निवासी अभी भी लापता है, हमें अपनी खोज में जीवन या शव का कोई निशान नहीं मिला है। इसलिए, हमने जगह को कोलकाता नगर निगम (केएमसी) को सौंप दिया है, जो आगे का काम संभालेगा,”। उक्त अधिकारी वहां खुद बचाव कार्य का नेतृत्व कर रहे थे। बुधवार दोपहर तक एनडीआरएफ, डीएमजी, स्थानीय पुलिस और दमकल विभाग के 250 कर्मियों के अलावा दो एनडीआरएफ के विशेष कुत्ते घटनास्थल पर काम पर थे। बुधवार की सुबह से हो रही बारिश की बाधा के बीच, एजेंसियों ने कहा कि उन्होंने जीवन या मृत्यु के किसी भी संकेत का पता लगाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया, लेकिन कोई भी पता लगाने में विफल रहे। डीएमजी के एक अन्य अधिकारी ने कहा “हमने पांचवीं मंजिल से लेकर भूतल तक पूरी खुदाई में चरण दर चरण प्रगति की थी, लेकिन हमें कोई और शव नहीं मिला। हमें बताया गया कि लापता व्यक्ति सीढ़ी के नीचे कहीं दबा हो सकता है। हमने सीढ़ियों के कंक्रीट स्लैब पर कई छेद किए थे और पीड़ित का पता लगाने वाले कैमरे (वीएलसी) लगाए थे और जीवन का पता लगाने वाले उपकरण (एलडीडी) का इस्तेमाल किया था। लेकिन किसी को भी नहीं देख सके।

बचाव कार्य रोके जाने से नाराज स्थानीय लोग

जैसे ही एजेंसियों ने अपने उपकरण पैक किए और क्षेत्र छोड़ना शुरू कर दिया, अजहर मुल्ला बागान और हरिबाबू पल्ली लेन के लोग उत्तेजित हो गए क्योंकि उन्हें अभी भी स्थानीय व्यक्ति शेरू निजामी के भीतरफंसे होन का पूरा ​िवशास है। उनके परिवार के सदस्य भी बचाव कार्य रुकने से नाराज थे। निजामी के चचेरे भाई शमीम अख्तर ने कहा कि वे अपनी जिम्मेदारी को इस तरह कैसे ख़त्म कर सकते हैं? मुझे पता है कि मेरा भाई अब जीवित नहीं होगा लेकिन उसका शरीर मलबे के नीचे कहीं होगा। वे काम कैसे रोक सकते हैं? चूंकि केएमसी अब साइट पर काम कर रहा होगा, इसलिए हमने उनसे दो शिफ्टों में काम करने और मलबे को सावधानी से हटाने के लिए कहा है ताकि मेरे भाई का शव पूरी गरिमा के साथ निकाला जा सके।” निजामी की पत्नी, एक बेटा चार लड़कियां हैं। जबकि वह खुद एक स्थानीय फैक्ट्री में सुपरवाइजर के रूप में काम करते थे, कई स्थानीय युवा उनके अधीन काम करते थे। परिवार के सदस्यों के अनुसार, निजामी हर रात निर्माणाधीन इमारत में जाते थे और देर तक वहां रहकर श्रमिकों और अपने कुछ दोस्तों और युवाओं से बात करते थे, जो उनसे बातचीत करने के लिए वहां इकट्ठा होते थे।

 

Visited 35 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

Kolkata के इस इलाके में बढ़ी चोरी की वारदातें, रोकने में पुलिस भी नाकाम

कोलकाता: शहर के एक इलाके में बीते कुछ दिनों से चोरी के मामले बढ़ गये है। जोड़ासांको थाना इलाके में बीते कुछ दिनों में चोरी आगे पढ़ें »

ऊपर