Haldwani: उत्तराखंड के हलद्वानी में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश, जानें पूरा मामला

हल्द्वानी: उत्तराखंड के हलद्वानी में एक ‘अवैध’ मदरसे को गिराए जाने पर हिंसा भड़क गई। अधिकारियों की ओर से आई टीम ने इस अवैध मदरसे पर कार्रवाई करते हुए इसे गिरा दिया था। जिसके बाद हिंसा भड़क गई। हल्द्वानी जिले के मलिका बगीचा स्थित इलाके में मौजूद अवैध मदरसे पर बुलडोजर ने एक्शन लिया। इस एक्शन के बाद हलद्वानी में जमकर बवाल देखने को मिला। नगर निगम व पुलिस टीम द्वारा अतिक्रमण हटाए जाने के बाद इलाके में भारी विरोध देखने को मिला। लोग सड़कों पर उतर आए और उन्होंने पुलिस पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। इस दौरान पुलिस, प्रशासन और नगर निगम की टीम पर लोगों ने खूब पथराव भी किया है। इस दौरान SDM सहित कई पुलिसकर्मी और नगर निगम कर्मचारी घायल हो गए और जेसीबी का शीशा भी टूट गया। बता दें कि इस दौरान इलाके में भारी पुलिस बल तैनात थी। बता दें कि इस घटना के बाद इलाके में शूट एंड साइट का ऑर्डर लागू कर दिया गया है।

पुलिस पर पत्थरबाजी, गाड़ियों में आगजनी

अवैध मदरसे को तोड़ने के बाद मुस्लिम महिलाओं और युवकों ने विरोध प्रदर्शन किया और प्रशासन के लोगों पर पथराव किया। लोगों द्वारा लगातार विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था, लेकिन नगर निगम का अभियान जारी रहा। इस दौरान बनभूलपुरा थाने के बाहर मौजूद कई वाहनों में लोगों ने आग लगा दी। जानकारी के मुताबिक पत्थरबाजी में 10 पुलिसकर्मियों समेत एक महिला घायल हो गई। बता दें कि पत्थरबाजी के बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस की टीम ने आंसू गैस के गोले भी दागे।

पुलिस ने किया लाठीचार्ज

इसके बाद भीड़ ने पुलिस की कई गाड़ियों व बस को आग के हवाले कर दिया। बता दें कि यह विवाद तब देखने को मिला, जब गुरुवार की दोपहर नगर निगम की टीम पुलिस व जेसीबी लेकर वनभूलपुरा थाने के इलाके में पहुंची। इससे पहले मलिक का बगीचा क्षेत्र में अतिक्रमण कर बनाए गए गए मदरसे व नमाज स्थल पर पुलिस ने पहले से ही बैरिकेडिंग कर लोगों को मौके पर आने से रोक दिया। इस दौरान लोग मौके पर जुटना शुरू हो गए और विरोध प्रदर्शन करने लगे। देखते ही देखते पत्थरबाजी भी शुरू हो गई।

Visited 26 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

यात्रियो सावधान! चुनाव के दौरान कम चलेंगी बसें

कोलकाता : लोकसभा चुनाव की शुरुआत अब होने ही वाली है और आगामी 19 तारीख को पहले चरण का चुनाव है। ऐसे में कहा जा आगे पढ़ें »

Patanjali Advertisement Case : पतंजलि ने सुप्रीम कोर्ट में फिर माफी मांगी लेकिन …

नई दिल्ली: भ्रामक विज्ञापन मामले पर पतंजलि आयुर्वेद के खिलाफ अवमानना पर सप्रीम कोर्ट में योगगुरु बाबा रामदेव को आज भी माफी नहीं मिली। उनको आगे पढ़ें »

ऊपर