हार और जीत

दुनिया की है यही रीत
कहीं है हार तो कहीं है जीत।
क्षेत्र हो खेल का
या हो शिक्षा का
कला का या राजनीति का,
हर जगह छिड़ा है युद्ध
हार और जीत का।
सबके मुँह पर है यही गीत
कि हासिल करनी है हमें जीत।
याद आती हैं बातें बचपन की,
जहाँ नहीं थी चिंता,
हार और जीत की ।
बचपन के वो दिन कितने अच्छे थे,
कहीं नहीं था झूठ, सभी सच्चे थे।
तब शौक था बड़े होने का,
पर नहीं था पता ऐसे दिनों का,
जब लगा हो चस्का सबको जीत का।
नहीं देखना है किसी को भी
मुँह हार का,
हर तरफ है खेल
हार और जीत का।
काश बचपन के वो दिन
फिर लौट आएँ
जी करता है एक बार फिर
बच्चे बन जाएँ।
करते रहें हर वक्त सिर्फ नादानी
न ही कोई खेल है जीतना,
और न ही कोई बाजी है हारनी।।

– रश्मि प्रधान

Visited 91 times, 2 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Budhwar ke Upay: बुधवार के दिन करें ये 5 उपाय, करियर व कारोबार के लिए …

कोलकाताः बुधवार का दिन प्रथम पूजनीय भगवान गणेश और लाल किताब के अनुसार मां दुर्गा को समर्पित है लेकिन इसके देवता बुध है। बुध ग्रह आगे पढ़ें »

IPL 2024 को लेकर सामने आई बड़ी जानकारी, इस तारीख से खेला जाएगा

नई दिल्ली: भारत समेत दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। IPL 2024 को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। IPL के आगे पढ़ें »

ऊपर