चौतरफा खरीददारी से शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स 73000 के करीब बंद

कोलकाता: भारतीय शेयर बाजार में बुधवार(27 मार्च) के कारोबारी सत्र में जबरदस्त तेजी देखने को मिली। बाजार में चौतरफा खरीदारी हुई। इस कारण से बीएसई सेंसेक्स 526.01 अंक या 0.73 प्रतिशत चढ़कर 72,996.31 अंक और निफ्टी 118 अंक या 0.54 प्रतिशत चढ़कर 22,123 अंक पर बंद हुआ। बैंकिंग शेयरों में भी तेजी देखी गई। निफ्टी बैंक 185.75 अंक या 0.40 प्रतिशत की तेजी के साथ 46,785.95 अंक पर बंद हुआ।
बाजार में आज गिरने वाले शेयरों की संख्या अधिक रही। 1322 शेयर गिरकर बंद हुए और 936 शेयर हरे निशान में बंद हुए। ऑटो, फिनसर्विस, रियल्टी, एनर्जी, निजी बैंक, इन्फ्रा, सर्विस सेक्टर के शेयरों में बढ़त थी। आईटी, पीएसयू बैंक, फार्मा और मेटल के शेयर दबाव के साथ बंद हुए। वहीं, निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स 29 अंक या 0.06 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 47,837 अंक और निफ्टी स्मॉलकैप 100 इंडेक्स 145.55 अंक या 0.96 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,263 अंक पर बंद हुआ।

गेनर्स और लूजर्स 

रियालंस, मारुति सुजुकी, बजाज फाइनेंस, टाइटन कंपनी, कोटक महिंद्रा, इंडसइंड बैंक, एलएंडटी, एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक, एमएंडएम, एशियन पेंट्स, भारती एयरटेल, अल्ट्राटेक सीमेंट, सन फार्मा, एनटीपीसी, टाटा स्टील, आईसीआईसीआई बैंक, आईटीसी और पावर ग्रिड कॉर्प के शेयर हरे निशान में बंद हुए हैं। विप्रो, टीसीएस, एचसीएल टेक, एसबीआई, नेस्ले, टाटा मोटर्स, इन्फोसिस, बजाज फिनसर्व, जेएसडब्लू स्टील, टेक महिंद्रा और एचयूएल दबाव के साथ बंद हुए हैं।

वैश्विक बाजारों का हाल

एशिया के बाजारों में टोक्यो, ताइपे और बैंकॉक के बाजारों में तेजी देखी जा रही है। वहीं, सियोल, जकार्ता, शंघाई और हांगकांग के बाजारों में गिरावट देखी जा रही है। यूरोपीय बाजारों में तेजी का दौर बना हुआ है। हालांकि, अमेरिक बाजार मंगलवार के कारोबारी सत्र में लाल निशान में बंद हुए थे।

Visited 23 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

अगर त्वचा के लिए चाहते हैं प्राकृतिक निखार तो करें ये उपाय

कोलकाता : आज की बिजी लाइफ में महिलाएं अपनी त्वचा का ध्यान पूरी तरह से नहीं रख पाती। ऐसे में प्रकृति प्रदत्त साधनों का प्रयोग आगे पढ़ें »

ऊपर