राज्य चुनाव आयुक्त का ज्वाइनिंग लेटर वापस करने की खबर नहीं : ममता

शेयर करे

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल डॉ. सी.वी. आनंदा बोस द्वारा राज्य सरकार को राज्य निर्वाचन आयुक्त (एसईसी) राजीव सिन्हा के पदभार ग्रहण करने संबंधी रिपोर्ट लौटाने की खबरों के बीच गुरुवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन्हें हटाने की संभावना से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि राज्य ने कभी भी इतनी शांतिपूर्ण चुनाव प्रक्रिया नहीं देखी है। बनर्जी ने जोर देकर कहा कि एसईसी को हटाना एक ‘बोझिल प्रक्रिया’ है और इसे महाभियोग के माध्यम से किया जाना चाहिए। पटना जाने से पहले गुरुवार को कोलकाता एयरपोर्ट पर सीएम ने कहा, ‘एसईसी को ऐसे ही नहीं हटाया जा सकता। राज्यपाल की मंजूरी के बाद उनकी नियुक्ति की गयी। उन्हें एक झटके में नहीं हटाया जा सकता। महाभियोग के माध्यम से न्यायाधीशों को हटाने की तरह ही पद से हटाने की प्रक्रिया काफी बोझिल है।’ उनकी यह टिप्पणी राज्यपाल द्वारा गत बुधवार को सिन्हा की ‘ज्वाइनिंग रिपोर्ट’ राज्य सरकार को ‘लौटाने’ के एक दिन बाद आई है। उन्होंने कहा, ‘बंगाल में चुनाव प्रक्रिया इतनी शांतिपूर्ण कभी नहीं रही। यह हमारी पार्टी के कैडर हैं जो मारे गए हैं। तीन-चार बूथों पर कुछ घटनाएं हुई हैं।’ सीएम ने कहा कि राज्य चुनाव आयुक्त का ज्वाइनिंग लेटर राज्यपाल द्वारा वापस करने की कोई जानकारी राज्य सरकार के पास नहीं है।
बंगाल की पुलिस पूरी तरह दक्ष
इधर, राज्य पुलिस की प्रशंसा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ‘किसी भी राज्य की पुलिस की तुलना में बंगाल की पुलिस काफी दक्ष है।’ पटना जाने से पहले ममता बनर्जी ने कहा, ‘जितनी केंद्रीय वाहिनी चाहे, उतना दें। उनकी संख्या लोगों से अधिक नहीं होगी। जिन्हें वोट देना है, वो वोट देंगे। चाहे जो कर लें, अंतिम बात आम लोग ही कहेंगे, हम जीतेंगे।’
त्रिपुरा में 96% सीटें बगैर लड़े जीती गयीं
यहां उल्लेखनीय है कि पंचायत चुनाव से पहले ही अब तक राज्य में 10% सीटें तृणमूल बगैर प्रतिद्वंद्विता के जीत चुकी है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सीएम ने त्रिपुरा का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में 96% सीटें बगैर प्रतिद्वंद्विता के जीत ली गयीं। हम लोग चुनी हुई सरकार हैं। सीएम ने कहा कि 100 दिवसीय रोजगार, आवास योजना का रुपया बंगाल को नहीं भेजा जा रहा है।
मणिपुर में अब काफी देर हो गयी
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मणिपुर में हिंसा के मुद्दे पर कहा कि अब काफी देर हो गयी है। उन्होंने कहा, ‘मणिपुर में केंद्र सरकार हालातों पर काबू नहीं कर पायी।’ वहीं मणिपुर के हालातों पर गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक पर सीएम ने कहा, ‘अब काफी देर हो गयी है। मैंने पहले ही पत्र लिखा था कि शांति के लिये मैं मणिपुर जाना चाहती हूं, लेकिन सर्वदलीय बैठक बुलाये जाने के बाद कल पत्र का जवाब मिला। बैठक के लिये मैं डेरेक को भेजूंगी।’ उन्होंने कहा, ‘मणिपुर जल रहा है और हमारा हृदय भी जल रहा है। उत्तर-पूर्व हमारी 8 सिस्टर्स हैं और हम उन्हें काफी पसंद करते हैं।’

Visited 85 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी को चोर-चोर का नारा लगाने पर शुभेंदु गुस्से में आ गये। वह गाड़ी
बारुईपुर : नकली सोने की कलाकृति बनाने वाले रैकेट का सरगना व कुलतली गोलीकांड के मुख्य अभियुक्त व टनेल मैन
लैंड लीज फीस माफ करने को लेकर फंसा है मामला एनजीटी ने कहा, जल्द से जल्द चालू करें काम, दें
कोलकाता : राज्य के सैकड़ों प्राथमिक स्कूल काफी बुरी हालत में हैं। ऐसे में अब प्रत्येक ब्लॉक व पालिका से
कोलकाता : राज्य सरकार के परिवहन विभाग की ओर से ‘वन स्टेट वन कार्ड’ चालू किया जा रहा है। यह
नई दिल्ली : दुनियाभर में तमाम लोगों के विंडोज सिस्टम पर ब्लू स्क्रीन की दिक्कत आ रही है। Microsoft के
कोलकाता : देवों के देव शिव शंभू, शिव शंकर साल का सबसे प्रिय माह श्रावण मास माना जाता है। इस
तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा सितंबर और चौथे सेमेस्टर की परीक्षा मार्च में कोलकाता : 12 साल बाद उच्च माध्यमिक के
हावड़ा : तीन युवकों पर शनिवार को 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म कर उसे दफनाने का आरोप लगा
कल मुहर्रम पर महानगर में सुरक्षा चाक-चौबंद, ट्रैफिक होगी प्रभावित करीब 4 हजार पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात कल शहर में
कोलकाता : 6 दोस्त मंदारमणि की यात्रा पर गए थे। सभी लोग समुद्र में स्नान करने गये। तभी 2 लोगों
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया हुई शुरू कोलकाता : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 9 की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। इसे
ऊपर