Gangasagar 2024: गंगासागर को मिला देश का पहला ‘लाइटहाउस ऑन एयर’, मिलेगी ये सुविधा

कोलकाता: बंगाल की खाड़ी में चलने वाले जहाजों की कनेक्टिविटी को बेहतर बनाया जा रहा है। बीते रविवार को गंगासागर को भारत का पहला ‘लाइटहाउस ऑन एयर’ मिला है। यह बंगाल की खाड़ी में चलने वाले प्रत्येक जहाज को रेडियो कनेक्शन प्रदान करेगी। लाइटहाउस की तरह जो लैंप और लेंस की प्रणाली से प्रकाश उत्सर्जित करता है, हवा पर लाइटहाउस रेडियो तरंगों के बीकन की तरह काम करता है। यह कई रेडियो फ्रीक्वेंसी के साथ संचालित होता है, जो अन्य देशों में जहाजों और ऑपरेटरों के साथ संचार कर सकता है।

दिशानिर्देशों के अनुसार होगा संचालित

पश्चिम बंगाल रेडियो क्लब के संस्थापक अंबरीश नाग विश्वास ने कहा कि यह भारत में पहला लाइटहाउस ऑन एयर है और इसे भारत सरकार द्वारा निर्धारित दिशानिर्देशों के अनुसार संचालित किया जा रहा है। यह रेडियो फ्रांस द्वारा निर्धारित लाइटहाउस ऑन एयर के लिए आवश्यक मापदंडों को भी बनाए रखता है। लाइटहाउस ऑन एयर की अवधारणा दुनिया भर में शौकिया रेडियो ऑपरेटरों द्वारा पेश की गई थी। खास तौर पर समुद्री संचार स्थापित करने, लाइटहाउस और लाइटशिप को जोड़ने के लिए। बता दें कि बंगाल में रेडियो ऑपरेटरों ने गंगासागर में 203 साल पुराने लाइटहाउस से संचालन की अनुमति के लिए लाइटहाउस और लाइटशिप महानिदेशालय से संपर्क किया। इसने ऑपरेटरों को लाइटहाउस के कामकाज में बाधा डाले बिना स्थापित करने और संचालित करने की अनुमति दी।

लाइटहाउस का इतिहास

लाइटहाउस ऑन एयर ने एचएएम रेडियो और लाइटहाउस के बारे में जागरूकता बढ़ाई जो उपग्रह नेविगेशन के युग में निष्क्रिय हो रहे हैं। 85 फीट की ऊंचाई पर, गंगासागर का लाइटहाउस मुख्य रूप से चीन, बांग्लादेश, सिंगापुर, म्यांमार और श्रीलंका जैसे देशों से आने वाले जहाजों की आपूर्ति करता है। 1821 में चांस ब्रदर्स, बर्मिंघम, इंग्लैंड द्वारा स्थापित, लाइटहाउस को 1911 में अपने वर्तमान क्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया गया था।

‘कई एजेंसियों को आपस में जोड़ता है’

नाग बिस्वास ने आगे कहा कि सरकारी एजेंसियां जो रेडियो फ्रीक्वेंसी का उपयोग करती हैं, उन्हें इस उद्देश्य के लिए विशिष्ट बैंडविड्थ आवंटित की जाती है। शौकिया रेडियो ऑपरेटर, जो एक विशिष्ट फ्रीक्वेंसी का भी उपयोग करते हैं, उनके पास उपयोग के लचीलेपन के संदर्भ में काम करने के लिए अधिक विकल्प होते हैं। विभिन्न आवृत्तियों का उपयोग करते हुए यह विभिन्न एजेंसियों के बीच एक पुल के रूप में भी काम कर सकता है। स्वयंसेवकों ने हवा में प्रकाशस्तंभ स्थापित करना शुरू किया और कम शक्ति का उपयोग करके रेडियो फ्रीक्वेंसी स्टेशन स्थापित किए। वे एक घंटे के भीतर विभिन्न देशों के कम से कम 30 ऑपरेटरों से जुड़े। संदीपन बसु मलिक ने कहा कि इस अवधि के दौरान हम गंगासागर को लाइटहाउस-ऑन-एयर के मानचित्र पर लाने के लिए 100 से अधिक शौकिया रेडियो ऑपरेटरों से जुड़ सकते हैं। सोसायटी के एक कार्यकारी सदस्य ने कहा कि अक्षांश, देशांतर और ग्रिड डेटा भविष्य में उपयोगी हो सकते हैं, खासकर आपदाओं के दौरान।

इसने भारत को दुनिया भर के प्रकाशस्तंभों के मानचित्र पर भी स्थापित कर दिया है जो समुद्र के हर द्वीप से जुड़ सकता है। ये रेडियो सिग्नलिंग सिस्टम प्राकृतिक आपदाओं के दौरान उपयोगी बनेंगे।

Visited 86 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

विज्ञापन मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट से BJP को नहीं मिली राहत…

कोलकाता : कलकत्ता उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने बुधवार को एकल पीठ के उस आदेश में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है। बता आगे पढ़ें »

कलकत्ता हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, साल 2010 के बाद बंगाल में बने सभी OBC सर्टिफिकेट रद्द

डेढ़ घंटे में उड़ाए 48 हजार रुपए, पुणे हिट एंड रन केस में खुलासा

पति से झगड़े के बाद महिला ने अपनी 3 साल की बेटी को मार डाला…इसके बाद शव को लेकर…

‘बंगाल में BJP की 30 सीटें आते ही टूट जाएगी TMC’, कांथि में बोले अमित शाह

कोलकाता में बांग्लादेश के सांसद की संदिग्ध मौत, 13 मई से थे लापता

kolkata: मेट्रो में यात्रा करना हुआ आसान, अब UPI से कर सकते हैं भुगतान

8 संदिग्ध आतंकी 1.5 साल में हुए थे रिहा, अब सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका

Kolkata Air Pollution: कोलकाता की हवा में हुआ सुधार, KMC का दावा

आपके नाम के पार्सल में मिला है 150 ग्राम ड्रग्स….कहकर व्यक्ति से ठग लिया 2 करोड़

ऊपर