ओडिशा रेल हादसा: घायलों के लिए नायक बनकर मदद करने पहुंचे स्थानीय लोग

बालासोर/हावड़ा : ओडिशा के बालासोर जिले में शुक्रवार शाम हुए भयानक रेल हादसे की जानकारी मिलते ही स्थानीय लोग घायलों की मदद करने के लिए तत्काल दुर्घटनास्थल पर पहुंच गए। ओडिशा के बालासोर जिले में शुक्रवार शाम कोरोमंडल एक्सप्रेस और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन के पटरी से उतरने तथा एक मालगाड़ी से टकराने से जुड़े रेल हादसे में मृतक संख्या शनिवार को बढ़कर 261 हो गई। रणजीत गिरि, बिप्रदा बाग, आशा बेहरा और अशोक बेरा घायलों को बचाने के लिए सबसे पहले पहुंचने वाले लोगों में से हैं। ये सभी बालासोर जिले के बाहानगा बाजार स्टेशन इलाके के निवासी हैं, जहां हादसा हुआ। गिरि ने एक चैनल से कहा, ‘‘मैं शाम करीब सात बजे अपने मित्रों के साथ पास ही चाय की एक दुकान पर था। मैंने अचानक जोरदार आवाज और उसके बाद लोगों के चीखने की आवाज सुनी। हम घटनास्थल की ओर दौड़े और हमने जो देखा, उसे देखकर हमारे रौंगटे खड़े हो गए। समय बर्बाद किए बिना हम घायलों को बचाने में जुट गए। हमने पुलिस एवं रेलवे अधिकारियों को भी हादसे की जानकारी दी।’’ बाग ने एक अन्य चैनल से कहा, ‘‘हमने कम से कम 50 घायलों को बचाया और यात्रियों को अपने वाहनों से स्थानीय अस्पतालों में पहुंचाया। हादसे में जीवित बचे कुछ लोग अपने प्रियजनों को ढूंढ़ रहे थे, लेकिन बहुत अंधेरा होने के कारण हम उनकी मदद नहीं कर सके।’’ अशोक बेरा (60) रक्तदान करने के लिए अस्पताल गए। उन्होंने कहा, ‘‘मैं रक्तदान करने पहुंचा, लेकिन मेरी आयु के कारण मुझे इसकी अनुमति नहीं दी गई। इसके बाद मैंने अपने बेटों और संबंधियों से अस्पताल पहुंचकर रक्तदान करने को कहा।’’ बेरा को हादसे में जीवित बचे यात्रियों से बात करते और उनकी फोन पर उनके रिश्तेदारों से बात करने में मदद करते देखा गया।

 

 

 

Visited 197 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

3300 किलो ड्रग्स…2000 करोड़ कीमत..पाकिस्तान से कनेक्शन, गुजरात में पकड़ी गई सबसे बड़ी खेप

अहमदाबाद: बॉर्डर पार से होने वाली ड्रग्स तस्करी को रोकने के लिए गुजरात में नौसेना ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। भारतीय नौसेना ने आगे पढ़ें »

National Science Day 2024: आज के दिन क्यों मनाया जाता है नेशनल साइंस डे? जानें यहां

नई दिल्ली: आज नेशनल साइंस डे है। हर आज के दिन ही देश के महान वैज्ञानिक CV रमन ने प्रकाश की फोटोन थ्योरी से जुड़ी आगे पढ़ें »

ऊपर