आखिर कैसे होता है ब्रेन ट्यूमर? जानिए लक्षण, प्रकार और उपचार

शेयर करे

कोलकाता : दुनियाभर में ब्रेन ट्यूमर के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। यदि समय रहते ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों को न समझा जाए तो यह आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। यह बीमारी बच्चों से लेकर वयस्कों तक सभी को प्रभावित कर सकती है। बहुत लोग ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों को सामान्य समझने की गलती कर बैठते हैं और यह मामला बढ़ जाता है, इसलिए लोगों को जागरूक करने के लिए, हर साल 8 जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे मनाया जाता है। ब्रेन ट्यूमर की स्थिती और गंभीरता को जानने के लिए, इसके विभिन्न पहलुओं को समझना बहुत जरूरी है। आइए जानते हैं, ब्रेन ट्यूमर क्यों और कैसे होता है, ब्रेन ट्यूमर से बचने के उपाय, इसके प्रकार इत्यादि।

ब्रेन ट्यूमर क्या है?
मस्तिष्क में होने वाली असामान्य कोशिकाओं के समूह को मस्तिष्क का ट्यूमर कहते हैं। ऐसी अवस्था में असामान्य कोशिकाएं मस्तिष्क के किसी भी लोब में हो सकती है। ब्रेन ट्यूमर कैंसर युक्त या कैंसर रहित दोनों तरह के हो सकते हैं। कुछ ट्यूमर बहुत तेजी से बढ़ते हैं, तो कुछ ट्यूमर का विकास धीरे -धीरे होता है। जब ट्यूमर बढ़ता है तो स्कैल्प के भीतर दबाव बढ़ सकता है। ऐसी स्थिति आपके स्वास्थ्य और मस्तिष्क को नुकसान पहुंचाती है और घातक हो सकती है। ब्रेन ट्यूमर और ब्रेन कैंसर को ऐसे समझें, ब्रेन ट्यूमर जब आपके मस्तिष्क से शुरू होता है और फैलता है, उसे प्राइमरी ब्रेन ट्यूमर कहते हैं। यह जरूरी नहीं कि हर ब्रेन ट्यूमर ब्रेन कैंसर होता है। लेकिन जब कैंसर आपके शरीर के अन्य भाग से शुरू होता है और ब्रेन में फैलता है, उसे सेकेंडरी ब्रेन ट्यूमर या मेटास्टेटिक ब्रेन कैंसर कहते हैं।

ब्रेन ट्यूमर कितने प्रकार के होते हैं ?
ब्रेन ट्यूमर दो प्रकार के होते हैं:-
कैंसर वाले ब्रेन ट्यूमर-
क्या आप जानते हैं, ब्रेन कैंसर कैसे होता है ? कैंसर वाले ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क के प्राइमरी ट्यूमर के रूप में जाने जाते हैं। यह ट्यूमर मस्तिष्क से शुरू होता है और धीरे -धीरे शरीर के अन्य भागों में फैलता है। इलाज के बाद भी इसे वापस होने की संभावना होती है।

बिना कैंसर वाले ब्रेन ट्यूमर-

इस तरह के ट्यूमर का विकास धीरे -धीरे होता है। बिना कैंसर वाले ट्यूमर का इलाज होने के बाद इसके दोबारा होने की संभावना बहुत कम होती है।ब्रेन ट्यूमर के लक्षण : ब्रेन ट्यूमर के लक्षण और संकेत उसके स्थान, आकार और बढ़ने की दर पर निर्भर करता है। कई बार बिना लक्षण के भी यह हो सकता है।
ब्रेन ट्यूमर के सामान्य लक्षण और संकेत इस प्रकार हैं
-सिर में बार-बार दर्द होना -सिरदर्द का धीरे -धीरे बढ़ना -धुंधली दृष्टि, सीजर्स-दूर दृष्टि कमजोर होना -शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस -नींद में कमी -दैनिक गतिविधियों में बदलाव होना -सुस्ती व थकान -सोचने -समझने की क्षमता में कमी -मतली और उल्टी होना -व्यक्तित्व में परिवर्तन।

 

ब्रेन ट्यूमर के कारण: 
क्या आप जानते हैं, ब्रेन ट्यूमर क्यों होता है, इसके जोखिम कारक क्या हैं ? हालांकि, इसके मुख्यकारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है, लेकिन इसको बढ़ाने वाले जोखिम कारकों का पता लगाया गया है, जैसे – रेडिएशन का दुष्प्रभाव, कैंसर का परिवारिक इतिहास, एचआईवी-एड्स, इत्यादि।
रेडिएशन के दुष्प्रभाव – किसी व्यक्ति के लिए आयोनाइजिंग रेडिएशन के संपर्क में आना ब्रेन ट्यूमर के खतरे को बढ़ा सकता है। कैंसर थेरेपी के दौरान आप इस रेडिएशन के संपर्क में आ सकते हैं। यह ब्रेन ट्यूमर के खतरे को बढ़ा सकता है।
 
पारिवारिक इतिहास-
परिवार में यदि किसी अन्य व्यक्ति को पहले से ब्रेन ट्यूमर है, तो दूसरे व्यक्ति में इसके होने की संभावना बढ़ जाती है। एचआईवी/ एड्स – यदि आपको एचआईवी -एड्स है, तो सामान्य लोगों की तुलना में ब्रेन ट्यूमर की संभावना आपमें अधिक है।
 
पहले से कैंसर का होना-
कैंसर से ग्रस्त बच्चों में बाद के जीवनकाल में ब्रेन ट्यूमर होने की संभावना ज्यादा होती है। साथ ही ल्यूकेमिया वाले वयस्कों में भी इसके होने की संभावना ज्यादा होती है।


ब्रेन ट्यूमर का इलाज क्या है

क्या ब्रेन ट्यूमर का इलाज संभव है ? यदि समय से पता चल जाए तो इसका इलाज संभव है, लेकिन यह अलग-अलग कारकों पर निर्भर करता है। जैसे -ट्यूमर का प्रकार क्या है, यह मस्तिष्क में किस स्थान पर है, ट्यूमर का आकार, साइज और कोशिकाएं कितनी असामान्य है, इत्यादि। ब्रेन ट्यूमर के इलाज के लिए यह डॉक्टर तय करते हैं, कि कौन-सा उपचार आपके लिए सही है। ब्रेन ट्यूमर से बचने के उपाय या उपचार के विकल्प इस प्रकार हैं
 
रेडिएशन थेरेपी-
रेडिएशनथेरेपी में ट्यूमर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए हाई एनर्जी का प्रयोग किया जाता है। यह थेरेपी आपको शरीर के बाहर से दी जा सकती है। कुछ असामान्य मामलों में यह थेरेपी शरीर के अंदर आपके ट्यूमर के पास रखी जा सकती है।
 
सर्जरी – 
यदि ब्रेन में ट्यूमर कुछ ऐसे स्थान पर है, जहां से उसे हटाना आसाना हो तो ऑपरेशन के जरिए सर्जन उसे ज्यादा से ज्यादा हटाने की कोशिश करते हैं। इसके कुछ हिस्से को भी हटाने से लक्षण को कम किया जा सकता है।
 
कीमो थेरेपी- 
कीमोथेरेपी में ट्यूमर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए, दवाओं को गोली के रूप में या ब्लड वेसल्स में इंजेक्शन के माध्यम से दिया जा सकता है। इसमें कई तरह की दवाएं उपलब्ध होती है, जो कैंसर के साइज और प्रकार के आधार पर दी जाती है।
Visited 135 times, 1 visit(s) today
1
0

Leave a Reply

मुख्य समाचार

कोलकाता : मेट्रो रेलवे द्वारा चलाये जा रहे स्पेशल नाइट मेट्रो के समय को 20 मिनट कम कर दिया गया
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी के पास 17 जून को हुए ट्रेन हादसे ने देशवासियों को झकझोर कर रख
कोलकाता : अगले दो से तीन घंटों में कोलकाता में हल्की बारिश होने वाली है। शहर के अधिक हिस्सों में
पटना: नीट पेपर लीक मामला पूरे देशभर में छाया हुआ है। बिहार के डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने बड़ा दावा
कोलकाता : मानसून दस्तक देने वाला है। इससे पहले इसे लेकर तैयारियों को पूरा करने का निर्देश शहरी विकास तथा
कोलकाता: मौसम विभाग के पूर्वानुमान पर लोगों का भरोसा खत्म हो गया है। पिछले कुछ दिनों से बारिश का पूर्वानुमान
पटना: नीतीश सरकार को पटना हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। बिहार में आरक्षण का दायरा बढ़ाए जाने के नीतीश
नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
ऊपर