लौकी से ना करें परहेज…हृदय के लिए विशेष लाभदायक है लौकी…जानिए इसके लाभ…

शेयर करे

कोलकाता : लौकी में विटामिन ए, बी, और सी मिलता है। यह गरिष्ठ, रेचक और बलप्रद होती है। अशक्त और रोगियों के लिए यह लाभदायक है। गर्म प्रकृति वालों के लिए लौकी का सेवन ठंडक और पोषण देने वाला एवं अधिक हितकारी है। नरम, चिकनी, सफेद लौकी का सेवन ही करना चाहिए।लौकी की अनेक किस्में होती हैं जैसे लम्बी, तुमड़ी, चिपटी, तूमरा इत्यादि। सामान्यत: लौकी मीठी होती है और तुमड़ी कड़वी। लौकी की एक किस्म को तुमड़ी के आकार के फल लगते हैं। उसे ‘मीठी तुमड़ी’ कहते हैं और इसका साग बनाया जाता है जबकि कड़वी तुमड़ी के फलों का उपयोग नदी में तैरने के लिए होता है। लौकी की दूसरी किस्म ‘मगिया लौकी’ के रूप में प्रसिद्ध है।लौकी की तीसरी किस्म लम्बी बोतल जैसी होती है। लौकी लगभग बारह महीने होती है। लौकी के लिए क्षार-रहित जमीन ज्यादा अनुकूल मानी जाती है। इसके बीज सीधे ही बोये जाते हैं। वर्षा ऋतु के आरम्भ में इसके 2-2 बीज 6-6 फुट के अंतर पर बोये जाते हैं। ग्रीष्मकालीन फसल में 4 फुट के अंतर पर 2-2 फुट चौड़ी, नालियां बनाकर, 3-3 फुट केे अंतर पर इसका बीज बोना चाहिए। इसके पौधे से बेल बनती है। यह बेल लम्बाई में फैलती है और उस पर सफेद फूल लगते हैं। हमारे देश में लौकी की पैदावार अधिक मात्रा में होती है।सूखी लौकी की तुमड़ी का उपयोग पानी भरने के कूजे के रूप में, संगीत के वाद्य बनाने के लिए तथा इसी प्रकार के विभिन्न कार्यों में इस्तेमाल किया जाता है। इसके बीज का उपयोग औषधि के रूप में होता है। कड़वी लौकी के फल विषैले होते हैं। उसका उपयोग सख्त जुलाब देने के लिए होता है।लौकी हृदय के लिए हितकारी, पित्त व कफ को नष्ट करती है। वीर्यवर्धक, रुचि उत्पन्न करने वाली और धातु पुष्टि को बढ़ाती है। लौकी गर्भ की पोषक है। सगर्भा स्त्री के लिए लौकी पुष्टिदायक है। इसके सेवन से गर्भावस्था की कब्जियत दूर हो जाती है।

 
अर्श-मस्से में :- लौकी के पत्तों का रस निकालकर अर्श-मस्से पर लगाने से दूर हो जाता है।
 
क्षय रोग में :- लौकी का रस निकालकर थोड़ा शहद या चीनी के साथ सेवन करने से शरीर का दाह, गले की जलन, रक्त विकार, फोड़ा, शीतपित्त, रक्त में गर्मी बढ़ने पर, गले या नाक से रक्त आने पर, क्षय रोग आदि के रोगों में बहुत ही उपयेागी है।
 
दिमाग की गर्मी में :- लौकी को काटकर, दो टुकड़े करके सिर पर बांधने से दिमाग में यदि गर्मी चढ़ गई हो तो वह उतर जाती है।
बुखार में :- लौकी को कद्दूकस कर घिसकर सिर और माथे पर बांधने से बुखार की गर्मी का शोषण करती है।
दूसरी विधि :- यदि बुखार की गर्मी दिमाग में चढ़ जाए, इसके लिए ज्यादा बुखार में लौकी को छील कर सिर और माथे पर बांधने से बुखार कम हो जाता है।
Visited 35 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
गया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बुधवार(19 जून) को बिहार के राजगीर में ऐतिहासिक नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस का
कोलकाता : कोलकाता शहर में एक बार फिर बम से उड़ाने की नकली धमकी दी गयी। इस बार एसएसकेएम जैसे
कोलकाता : अब इंतजार की घड़िया खत्म हो गई है। बंगाल में कई दिनों तक बारिश का पूर्वानुमान जारी किया
कोलकाता : बस्ती में रहने वाले लोग भी सम्मान के साथ रहें, उन्हें बस्तीवाले कहकर न पुकारा जाये इसलिए मुख्यमंत्री
कंचनजंघा एक्सप्रेस दुर्घटना में रेल डाक सेवा कर्मचारी की मौत कोलकाता : सोमवार की सुबह 8.30 बजे का वक्त। न्यू
नई दिल्ली: मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा का विशेष महत्व है। कहा जाता है कि आर्थिक समस्याओं से
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने आज सोमवार(17 जून) सुबह राजभवन में तैनात कोलकाता पुलिस के कर्मियों
ऊपर