यात्रियों सावधान! चुनाव के दौरान कम चलेंगी बसें

कोलकाता : लोकसभा चुनाव की शुरुआत अब होने ही वाली है और आगामी 19 तारीख को पहले चरण का चुनाव है। ऐसे में कहा जा रहा है कि अगले सप्ताह यानी 20 तारीख के बाद से कोलकाता में बसों की संख्या काफी कम हो जायेगी क्योंकि बसें चुनाव आयोग द्वारा चुनावी ड्यूटी के लिये ली जा रही हैं। इस बारे में सिटी सबअर्बन बस सर्विसेज के महासचिव टीटो साहा ने कहा कि 3 तरीकों से चुनाव आयोग द्वारा बसें चुनावी ड्यूटी के लिये ली जा रही हैं। पहले चरण में उच्च पदस्थ पुलिस अधिकारियों द्वारा बसें ली जा रही हैं। इन्हें केंद्रीय बलों के जवानों और वोट कर्मियों की मतदान केंद्रों पर तैनाती के लिये इस्तेमाल किया जा रहा है। स्थानीय थानों द्वारा भी बसें ली जा रही हैं जिनका इस्तेमाल चुनाव आयोग कैम्प तक अपने सामानों और केंद्रीय बलों को भेजने के लिये किया जा रहा है। इसके अलावा मोटर ह्वीकल के इंस्पेक्टर भी बसें ले रहे हैं। इनका इस्तेमाल कोलकाता के 2 लोकसभा केंद्रों के तहत आने वाले विधानसभा केंद्रों के लिये किया जाता है। उत्तर के लिये रवींद्र भारती और दक्षिण कोलकाता के लिये नेता​जी इण्डोर स्टेडियम में बसों की रिपोर्टिंग की जाती है। टीटो साहा ने कहा, ‘जितनी संख्या में बसें  फेज आउट हो रही हैं, उतनी संख्या में फेज इन नहीं हो रही जिस कारण बसों की किल्लत अभी से देखी जा रही है। यह समस्या आगे और बढ़ेगी व अप्रैल के मध्य से बसें और कम हो जायेंगी।’

बसों के लिये चुनावी ड्यूटी लाभदायक

बस मालिकों का कहना है कि उनके वाहनों को शहर के रूटों में चलाने के बजाय चुनावी ड्यूटी में देना अधिक लाभदायक है। प्रत्येक बस के लिये ऑपरेटरों को 3,000 से 3,500 रुपये मिलते हैं और 75% एडवांस दे दिया जाता है। वहीं टीटो साहा ने कहा ​कि गैरेज टू गैरेज दाम दिया जाता है।स्कूलों की छुट्टी से ऑपरेटरों को राहतअर्बन परिवहन सिटी बस सर्विसेज के अनुराग अग्रवाल ने बताया, ‘इस बार गर्मियों की छुट्टी रहने के कारण हमें चिंता नहीं है। चुनाव में कुल 1,500 स्कूल बसें लेे ली गयी हैं। 10 मई के बाद स्कूलों में छुट्टी चालू हो जायेगी और 8 जून के बाद स्कूल खुलेंगे। ऐसे में बसें लेने को लेकर चिंता नहीं है, लेकिन बसें जब वापस आयेंगी तो उसके बाद उन्हें फिर सैनिटाइज कर रेडी करने में समय लगेगा। एक बस में 2 से 3 दिन का समय लग सकता है।’

2021 की तुलना में कम हुई बसें

वर्ष 2021 के विधानसभा चुनाव की तुलना में इस बार लोकसभा चुनाव से पहले बसों की संख्या कम हो गयी है। 2021 में कोलकाता में बसों की संख्या लगभग 4,000 थी जबकि अब यह 2,700 के करीब हो गयी है। ऐसे में इस बार कॉमर्शियल बसों के अलावा स्कूल बसों व पूल कार का इस्तेमाल भी चुनावी ड्यूटी के लिये ली जायेंगी। टीटो साहा ने कहा कि हमने प्रति रूट में 30 अथवा 40% बसें लेेने का अनुरोध किया था, लेकिन यह सामंजस्य बनाना संभव नहीं हो पा रहा है। इसे लेकर हम चिंतित हैं।

Visited 46 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Kolkata Metro Timing : आज से रात 11 बजे के बाद भी चलेगी मेट्रो !

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि मेट्रो रेलवे आज यानी 24 मई से प्रायोगिक तौर पर रात में ब्लू लाइन आगे पढ़ें »

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

KKR की जीत पर शाहरूख ने दी बधाई.. कहा ‘मेरे लड़के, मेरी टीम, मेरे चैम्पियंस, मेरे केकेआर के स्टार…

Singapore Open 2024: पीवी सिंधु ने डेनमार्क की खिलाड़ी को हराया

ममता ने रेमल से क्षतिग्रस्त दक्षिण 24 परगना का किया दौरा…

बिहार में भीषण गर्मी का प्रकोप, 8 जून तक बंद रहेंगे सभी स्कूल

इंडिगो ने दिया महिला यात्रियों को तोहफा…

मिसाइल RudraM-II का सफल परीक्षण, पलक झपकते ही दुश्मनों को करेगा तबाह

कोलकाता के बेटे ने न्यूयॉर्क में किया नाम रौशन…

महिला पत्रकार ने टीवी चैनल के निर्देशक के खिलाफ लगाया छेड़छाड़ का आरोप….

PM मोदी पर CM ममता बनर्जी का तंज, ‘जो भगवान है उसे राजनीति में नहीं आना चाहिए’

भाजपा को सर्वाधिक सफलता बंगाल में मिलेगी : PM मोदी

ऊपर