26 हफ्ते का गर्भ लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंची महिला, गर्भपात पर CJI की सख्त टिप्पणी

शेयर करे

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार(12 अक्टूबर) 27 साल की एक गर्भवती महिला को 26 हफ्ते का गर्भ गिराने की मांग पर अहम टिप्पणी की। कोर्ट ने महिला की याचिका को खारिज कर दिया। सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली बेंच में इस मामले की सुनवाई हुई और एक दिन का समय दिया है। कोर्ट ने कहा कि 26 हफ्ते से गर्भ में पल रहे बच्चे को जन्म दिन जा सकता है। गर्भावस्था समाप्त करने की स्थिति में बच्चे के हार्ट को बंद (मारना) होगा। कोर्ट का कहना है कि भले ही बच्चा गर्भ में है, लेकिन उस बच्चा का भी अधिकार है। गर्भ में बच्चे को मौत की सजा कैसे दी जा सकती है।

सीजेआई ने कहा कि गर्भवती महिला का कहना है उसे बच्चा नहीं चाहिए। ऐसे में राज्य बच्चे को ले सकता है या किसी को गोद दे सकता है तो फिर वह बच्चे को कुछ और हफ्तों तक वह कोख में क्यों नहीं रख सकती और फिर सी सेक्शन (ऑपरेशन) के माध्यम से प्रसव करा सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए है, क्योंकि बच्चा एक वाइबल बच्चा है। एम्स के सामने एक गंभीर नैतिक दुविधा थी। अगर भ्रूण में बच्चे का हृदय बंद नहीं किया जाता तो वह जीवित पैदा होगा।

’26 हफ्ते तक इंतजार क्यों किया ?’

चीफ जस्टिस ने महिला से सवाल करते हुए कहा कि ये नाबालिग पर हिंसा या यौन हिंसा का मामला नहीं है। ये एक शादीशुदा महिला है, उसके पहले 2 बच्चे हैं। आपने 26 हफ्ते तक इंतजार कैसे किया? आप चाहते हैं कि हम दिल की धड़कन रोकने के लिए एम्स को निर्देशित करें? अगर अभी डिलीवरी होती है तो बच्चे में असामान्यताएं होंगी। आनुवंशिक समस्याओं के कारण नहीं, बल्कि समय से पहले डिलीवरी के कारण कुछ और हैं। सीजेआई ने कहा कि हमें अजन्मे बच्चे के अधिकारों को संतुलित करना होगा। उन्होने कहा कि मां की स्वायत्तता की जीत की बात है, लेकिन यहां बच्चे की ओर से कोई यहां पेश नहीं हो रहा है। हम बच्चे के अधिकारों को कैसे संतुलित कर सकते हैं? बात यह है कि गर्भ में बच्चा केवल एक भ्रूण नहीं है। गर्भ में पल रहा बच्चा एक जीवित वाइबल भ्रूण है और जब बच्चे को जन्म दिया जाएगा, तो वह बाहर की दुनिया में जीवित भी रहेगा।

‘बच्चे को मौत की सजा कैसे दें’

उन्होंने कहा कि यह सही है कि यदि अभी बच्चे का प्रसव कराया जाता है, तो इसमें गंभीर मेडिकल की समस्या होगी। ऐसे में दो और सप्ताह क्यों नहीं इंतजार किया जाए? ऐसे में उसे बच्चे को अभी रखने का क्या मतलब है। सीजेआई ने कहा कि आप जैसा कह रही हैं। उसके अनुसार गर्भ में पल हर बच्चे को मौत देना ही केवल विकल्प है, लेकिन जहां तक न्याय व्यवस्था की बात है, तो बच्चे की मौत की सजा कैसे दी जा सकती है? या दूसरा विकल्प है कि बच्चे को विकृति के साथ रखा जाए। इस बारे में फैसला लेंगे और मामला कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

Visited 29 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : मेट्रो रेलवे द्वारा चलाये जा रहे स्पेशल नाइट मेट्रो के समय को 20 मिनट कम कर दिया गया
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी के पास 17 जून को हुए ट्रेन हादसे ने देशवासियों को झकझोर कर रख
कोलकाता : अगले दो से तीन घंटों में कोलकाता में हल्की बारिश होने वाली है। शहर के अधिक हिस्सों में
पटना: नीट पेपर लीक मामला पूरे देशभर में छाया हुआ है। बिहार के डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने बड़ा दावा
कोलकाता : मानसून दस्तक देने वाला है। इससे पहले इसे लेकर तैयारियों को पूरा करने का निर्देश शहरी विकास तथा
कोलकाता: मौसम विभाग के पूर्वानुमान पर लोगों का भरोसा खत्म हो गया है। पिछले कुछ दिनों से बारिश का पूर्वानुमान
पटना: नीतीश सरकार को पटना हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। बिहार में आरक्षण का दायरा बढ़ाए जाने के नीतीश
नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
ऊपर