Election 2024: वोटिंग से पहले ही यहां जीत गए BJP प्रत्याशी, क्या है मामला ?

शेयर करे

सूरत: लोकसभा चुनाव के बीच में ही BJP के लिए अच्छी खबर आई है। गुजरात के सूरत लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार का नामांकन रद्द होने के बाद बाकी बचे 8 उम्मीदवारों ने भी अपने नाम वापस ले लिया, जिसके बाद BJP प्रत्याशी की निर्विरोध जीत तय हो गई है। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव में बीजेपी का खाता भी खुल गया है। यहां से भाजपा उम्मीदवार मुकेश दलाल हैं। दरअसल, सूरत लोकसभा सीट से कांग्रेस के कैंडिडेट निलेश कुम्भानी चुनाव अधिकारी के समक्ष अपने तीन में से एक भी प्रस्तावक को मौजूद नहीं रख पाए थे जिसके बाद चुनाव अधिकारी ने निलेश कुम्भानी का नामांकन फॉर्म रद्द कर दिया था। BJP ने कांग्रेस के कैंडिडेट निलेश कुम्भानी के फॉर्म में उनके तीन प्रस्तावकों के हस्ताक्षर को लेकर सवाल उठाए थे।

कांग्रेस ने BJP पर लगाया आरोप

नामांकन खारिज होने का आरोप कांग्रेस ने बीजेपी पर लगा दिया है। कांग्रेस ने कहा कि सरकार की धमकी के सामने सब डरे हुए हैं। कांग्रेस के नेता और एडवोकेट बाबू मांगुकीया ने कहा हमारे तीनों प्रस्तावकों का अपहरण हुआ है, चुनाव अधिकारी को अभी फॉर्म पर हस्ताक्षर हुए हैं या नहीं, इसकी नहीं बल्कि अपहरण की जांच करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हस्ताक्षर टेली किए बगैर फॉर्म रद्द करना गलत है, प्रस्तावकों के हस्ताक्षर सही हैं या गलत उसकी जांच के बगैर फॉर्म रद्द करना गलत है।

ये भी पढ़ें: SSC Recruitment Scam: हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगा SSC

प्रस्तावकों ने दिया हलफनामा- हमारे हस्ताक्षर नहीं

वहीं निलेश कुम्भानी के प्रस्तावक में उनके बहनोई, भांजे और भागीदार के हस्ताक्षर होने का दावा किया गया था लेकिन तीनों प्रस्तावकों ने चुनाव अधिकारी के सामने कल एफिडेविट कर कहा था कि निलेश कुम्भानी के फॉर्म में उनके हस्ताक्षर नहीं है, जिसके बाद से तीनों प्रस्तावक गायब हो गए। चुनाव अधिकारी ने कांग्रेस के कैंडिडेट निलेश कुम्भानी के प्रस्तावक उनके बहनोई जगदीश सावलिया, उनके भांजे ध्रुविन धामेलिया और भागीदार रमेश पोलरा के निवेदन का वीडियो रिकॉर्डिंग भी किया था। प्रस्तावकों के दावे के बाद चुनाव अधिकारी ने जवाब देने के लिए कांग्रेस कैंडिडेट निलेश कुम्भानी को एक दिन का वक्त दिया था। कांग्रेस के कैंडिडेट निलेश कुम्भानी अपने एडवोकेट के साथ चुनाव अधिकारी को जवाब देने पहुंचे थे, लेकिन तीन में से एक भी प्रस्तावक मौजूद नहीं रहे। बता दें कि, देश के पूर्व पीएम मोरारजी देसाई 5 बार गुजरात की सूरत लोकसभा सीट से सांसद रहे थे, लेकिन साल 1989 से सूरत लोकसभा सीट पर BJP का कब्जा रहा है।

ये भी देखे..

Visited 5 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
गया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बुधवार(19 जून) को बिहार के राजगीर में ऐतिहासिक नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस का
कोलकाता : कोलकाता शहर में एक बार फिर बम से उड़ाने की नकली धमकी दी गयी। इस बार एसएसकेएम जैसे
कोलकाता : अब इंतजार की घड़िया खत्म हो गई है। बंगाल में कई दिनों तक बारिश का पूर्वानुमान जारी किया
कोलकाता : बस्ती में रहने वाले लोग भी सम्मान के साथ रहें, उन्हें बस्तीवाले कहकर न पुकारा जाये इसलिए मुख्यमंत्री
कंचनजंघा एक्सप्रेस दुर्घटना में रेल डाक सेवा कर्मचारी की मौत कोलकाता : सोमवार की सुबह 8.30 बजे का वक्त। न्यू
नई दिल्ली: मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा का विशेष महत्व है। कहा जाता है कि आर्थिक समस्याओं से
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने आज सोमवार(17 जून) सुबह राजभवन में तैनात कोलकाता पुलिस के कर्मियों
ऊपर