चंद्रयान-1 के डेटा से मिली जानकारी, वैज्ञानिकों ने बताई चांद पर पानी बनने की वजह

शेयर करे

नई दिल्ली: चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने वाला भारत पहला देश है। चंद्रयान-3 की सफलता पर पूरी दुनिया में भारत की तारीफ हो रही है। वहीं, अब वैज्ञानिकों को चंद्रयान-1 के डेटा से बड़ी जानकारी मिली है। ‘चंद्रयान-1’ से मिले रिमोट सेंसिंग डेटा का विश्लेषण कर रहे वैज्ञानिकों को पता चला है कि पृथ्वी के उच्च ऊर्जा वाले इलेक्ट्रॉन संभवत: चंद्रमा पर जल बना रहे हैं। बता दें कि यह जानकारी अमेरिका के हवाई यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के नेतृत्व वाली एक टीम को मिली है।

चांद की सतह पर इलेक्ट्रान का हस्तक्षेप

इसके मुताबिक पृथ्वी के प्लाज्मा आवरण में मौजूद ये इलेक्ट्रॉन चंद्रमा की सतह पर मौसमी प्रक्रिया में भी हस्तक्षेप कर रहे हैं, जिनमें चट्टान और खनिजों का टूटना या विघटित होना शामिल है। शोधकर्ताओं ने कहा कि चंद्रमा पर जल की सांद्रता को जानना इसके बनने और विकास को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। साथ ही यह भविष्य में मानव अन्वेषण के लिए जल संसाधन उपलब्ध कराने के लिहाज से भी अहम है। चंद्रमा पर जल के कणों की खोज में चंद्रयान-1 ने की भूमिका अहम थी। भारत का पहला चंद्रमा मिशन ‘चंद्रयान-1’ साल 2008 में हुई थी।

वैज्ञानिकों ने दी अहम जानकारी

शोधकर्ताओं के अनुसार यह चंद्रमा सतह के पानी की निर्माण प्रक्रियाओं का अध्ययन करने के लिए एक प्राकृतिक प्रयोगशाला उपलब्ध करता है। जब चंद्रमा मैग्नेटोटेल के बाहर होता है, तो चंद्रमा की सतह पर सौर हवा का दबाव होता है। मैग्नेटोटेल के अंदर, लगभग कोई सौर पवन प्रोटॉन नहीं हैं और पानी का निर्माण लगभग नहीं होने की उम्मीद थी। मैग्नेटोटेल एक ऐसा क्षेत्र है जो चंद्रमा को सौर हवा से लगभग पूरी तरह से बचाता है, लेकिन सूर्य के प्रकाश फोटॉन से नहीं बचा पाता।

साल 2008 में प्रक्षेपित किया था ‘चंद्रयान-1’

बता दें कि इस डेटा का विश्लेषण चंद्रयान-1 पर एक इमेजिंग स्पेक्ट्रोमीटर, मून मिनरलॉजी डिवाइस द्वारा इक्टठा किया गया है। अक्टूबर 2008 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने ‘चंद्रयान 1’ को प्रक्षेपित किया था और अगस्त 2009 तक संचालित किया गया था। जानकारी के अनुसार मिशन में एक ऑर्बिटर और एक इम्पैक्टर शामिल था।

Visited 112 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : मेट्रो रेलवे द्वारा चलाये जा रहे स्पेशल नाइट मेट्रो के समय को 20 मिनट कम कर दिया गया
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी के पास 17 जून को हुए ट्रेन हादसे ने देशवासियों को झकझोर कर रख
कोलकाता : अगले दो से तीन घंटों में कोलकाता में हल्की बारिश होने वाली है। शहर के अधिक हिस्सों में
पटना: नीट पेपर लीक मामला पूरे देशभर में छाया हुआ है। बिहार के डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने बड़ा दावा
कोलकाता : मानसून दस्तक देने वाला है। इससे पहले इसे लेकर तैयारियों को पूरा करने का निर्देश शहरी विकास तथा
कोलकाता: मौसम विभाग के पूर्वानुमान पर लोगों का भरोसा खत्म हो गया है। पिछले कुछ दिनों से बारिश का पूर्वानुमान
पटना: नीतीश सरकार को पटना हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। बिहार में आरक्षण का दायरा बढ़ाए जाने के नीतीश
नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
ऊपर