सिंगापुर में नए राष्ट्रपति का ऐलान, दुनियाभर के देशों में उच्च पदों पर भारतीय मूल का दबदबा

शेयर करे

नई दिल्ली: सिंगापुर में नए राष्ट्रपति का चुनाव हुआ है। भारतीय मूल के थरमन शनमुगरत्नम ने पद भार संभाला है। इसी के साथ सिंगापुर भी उन कई देशों की लिस्ट में शामिल हो गया है जहां के बड़े पद पर भारतीय मूल के लोगों का दबदबा है। शुक्रवार को 9वें राष्ट्रपति के रूप में शनमुगरत्नम चुने गए हैं। उनका कार्यकाल छह साल तक रहेगा। करीब 70 फीसदी वोट पाकर जीत हासिल की है।

शनिवार (02 सितंबर) को प्रधानमंत्री ली सीन लूंग ने थर्मन को बधाई दी। उन्होंने कहा कि सिंगापुर के लोगों ने थरमन शनमुगरत्नम को अगला राष्ट्रपति चुना है। थरमन भारतीय विरासत के कई नेताओं में से हैं, जो वैश्विक स्तर पर इतने ऊंचे पद पर चुने गए हैं। उन्होंने कहा कि शनमुगरत्नम की जीत दुनिया भर में भारतीयों के बढ़ते प्रभाव का प्रतीक है।

 

दुनिया भर में भारतीय मूल के नेताओं का प्रभाव

अमेरिका: अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति भारतवंशी महिला कमला हैरिस बनी हैं। इनकी सफलता के पीछे अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों का समर्थन है। इससे पहले वो कैलिफोर्निया की सीनेटर रहीं।

ब्रिटेन: पिछले साल ब्रिटने में भारतीय मूल के ऋषि सुनक प्रधानमंत्री बने थे। उनकी गृह सचिव भी भारतीय मूल की हैं। इनका नाम सुएला ब्रेवरमैन है। यह गोवा मूल की है। इनके अलावा एक और मंत्री क्लेयर कॉटिन्हो भी गोवा मूल के हैं।

आयरलैंड: लियो एरिक वराडकर आयरलैंड के प्रधानमंत्री (ताओसीच) हैं। यह भी भारतीय मूल के हैं। जानकारी के मुताबिक उनके पिता का जन्म मुंबई में हुआ था और 1960 के दशक में यूनाइटेड किंगडम चले गए थे।

पुर्तगाल: साल 2015 से पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा हैं। रिपोर्ट के अनुसार वह आधे भारतीय और आधे पुर्तगाली हैं।

कनाडा: कनाडा में संघीय मंत्री भारतीय मूल की अनीता आनंद हैं। उनके अलावा कनाडा के पीएम के मंत्रिमंडल में दो और भारतीय मूल के सदस्य हरजीत सज्जन और कमल खेरा हैं।

त्रिनिदाद और टोबैगो: यहां की निर्वाचित राष्ट्रपति क्रिस्टीन कार्ला कंगालू हैं। इनका जन्म एक इंडो-ट्रिनिडाडियन परिवार में हुआ था।

मॉरीशस: यहां पर भारतीय मूल के नेताओं का प्रभाव हैं। यहां साल 2017 से प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ है। इसके अलावा यहां के राष्ट्रपति साल 2019 से पृथ्वीराज सिंह रूपन है।

सूरीनाम: साल 2020 से यहां के राष्ट्रपति चंद्रिकाप्रसाद संतोखी हैं। इनका जन्म 959 में लेलीडॉर्प में एक इंडो-सूरीनाम हिंदू परिवार में हुआ था।

साल 2021 में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर के 15 देशों में सार्वजनिक सेवा के उच्च पदों पर भारतीय विरासत के 200 से अधिक नेता शामिल हैं। इनमें से 60 से अधिक कैबिनेट पदों पर हैं।

Visited 107 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में तीसरी बार बनी सरकार ने अपना पहला बजट पेश कर दिया
नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण लोकसभा में बजट पेश कर रही हैं। उन्होंने कहा, 'भारत की जनता ने
कोलकाता : विधायकों के शपथ ग्रहण को लेकर विधानसभा और राजभवन के बीच तकरार जारी है। स्पीकर विमान बनर्जी ने
बर्दवान : शक्तिगढ़ के प्रसिद्ध लेंग्चा दुकानों में बासी लेंग्चा, मिठाइयां बेचे जाने के विरुद्ध स्वास्थ्य विभाग, जिला पुलिस, क्रेता
कोलकाता: नीति आयोग की बैठक से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिल सकती हैं। राज्य की सभी
कोलकाता : सप्ताह में मंगलवार का दिन संकट मोचन बजरंगबली को समर्पित होता है। इस दिन उनकी पूजा अर्चना करने
कोलकाता : तृणमूल से चारों नवनिर्वाचित विधायक पहुंचे विधानसभा। शपथ समारोह के लिए प्रक्रिया शुरू। कल चारों विधानसभा में ही
कोलकाता : कहते हैं भगवान शिव काफी भोले होते हैं। वह भक्तों के जरा से प्रयासों से भी खुश हो
कोलकाता : 22 जुलाई से सावन का पावन महीना शुरू हो रहा है। इस साल सावन की शुरुआत सोमवार से
मुख्य बातें एयरपोर्ट यात्री ध्यान दें घर से निकलने से पहले बोर्डिंग पास निकाल लें एयरपोर्ट पर मौजूद एयरलाइंस के
सबिता राय कोलकाता: पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के द्वारा आज शहीद दिवस रैली का आयोजन किया गया है। इस
कोलकाता : लोकसभा चुनावों में दमदार प्रदर्शन करने के बाद तृणमूल कांग्रेस आज यानी रविवार को धर्मतल्ला में शहीद दिवस
ऊपर