एक फैसले ने जेट एयरवेज के मालिक नरेश गोयल को कर दिया बर्बाद

शेयर करे

नई दिल्ली: देश के सबसे बड़े एयरलाइंस में जेट एयरवेज का नाम सामने आता है। इसके संस्थापक नरेश गोयल की 538 करोड़ की संपत्ति को जब्त कर लिया है। जेट एयरवेज की बर्बादी के पीछे एक ऐसा फैसला है जिसे महत्वपूर्ण वजह मानी जा रही है। साल 2015 का यह मामला है। उस समय नरेश गोयल ने अपनी फ्लाइट का किराया एक रुपये प्रति किलोमीटर कम करने का निर्णय लिया था। मगर यह फैसला जेट को महंगा पड़ गया। इसके बाद अपने प्रतिद्विंदी को ​पछाड़ने के लिए उसने और पूजी डालनी शुरू कर दी। यहीं से जेट एयरवेज के बुरे दिन शुरू हो गए।

कंपिटिटर इंडिगो को पछाड़ने में थी जेट एयरवेज

दिल्ली के कनॉट प्लेस में नरेश गोयल एक ट्रैवल एजेंट के रूप में अपना करियर शुरू किया। इसके बाद नरेश गोयल ने जेट एयरवेज की नीव रखी। कई तरह के संघर्षों का सामना करने के बाद इसे खड़ा किया। जेट ने जो तेजी पकड़ी वह इतिहास बन गई। मगर एक निर्णय ने उसे अर्श से फर्श पर ला दिया। इंडिगो उसका मुख्य प्रतिद्वंद्वी था। उसे पीछे करने के लिए जेट एयरवेज के मालिक ने एक निर्णय लिया। इसकी भरपाई नरेश गोयल को अब तक करनी पड़ रही है।

क्या था वो फैसला

जेट एयरवेज के मालिक नरेश गोयल को एक रुपये ने तबाह कर दिया। आपको इसका यकीन नहीं हो रहा है। मगर ये बिल्कुल ठीक है। करीब 8 साल पहले 2015 में जेट एयरवेज अपने शीर्ष पर थी। उनकी नजर इंडिगो को पीछे करने की थी। इसके साथ जेट मार्केट शेयर बढ़ाने की बात थी। यही वह समय था जब नरेश गोयल को एक ऐसा फैसला लेना था। इससे जेट एयरवेज का भविष्य तय होना था। उस समय उन्होंने निर्णय लिया कि यात्रियों को लुभाने के लिए एयर फेयर कम किया जाए। इसे एक रुपये प्रति किलोमीटर के हिसाब से कम किया गया। इसका अर्थ है कि अगर दो जगहों का हवाई सफर 2000 किलोमीटर है, जो इंडिगो उसका किराया इकोनॉमी क्लास का 5 हजार रख रहा था। वहीं जेट एयरवेज का एयर फेयर 3000 रुपए का था। उसके बाद पूरी एविएशन इंडस्ट्री में बड़ा बदलाव आया। इसका असर भी कंपनी पर ही पड़ा।

फिर शुरू हुआ जेट का पतन

किराया कम करने का निर्णय भले उस समय फायदेमंद लग रहा था, मगर से फॉर्मूला एयरलाइन के खतरनाक साबित हुआ। इसके बाद कंपनी को चलाने के लिए नरेश गोयल को कर्ज लेना पड़ा। जिसके बाद नरेश गोयल कभी भी कर्ज के दलदल से बाहर नहीं निकल पाए। इसका इंडिगो ने फायदा उठाया। इंडिगो ने जेट को पीछे करने के लिए अपने ऑपरेशंस को मजबूत किया। इसे 2 से 3 गुना बढ़ा लिया। आम जनता को ऑफर दिए और बंपर छूट भी दी। इस तरह से जेट का पूरा सम्राज्य ढह गया। इसके बाद क्रूड ऑयल में तेजी शुरू हो गई। एयर फ्यूल की कीमतों में इजाफा शुरू हो गया. इस तरह से जेट एयरवेज की सभी उम्मीदें खत्म हो गईं।

 

Visited 101 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता: दक्षिण बंगाल भीषण गर्मी से झुलस रहा है। लोगों के लिए सुबह-सुबह तेज धूप में निकलना मुश्किल हो गया
मंगाफ: कुवैत के मंगाफ में बुधवार सुबह एक ब्लिडिंग में लगी भीषण आग में 41 लोगों की मौत हो गई
अयोध्या: राम मंदिर के चलते देश-दुनिया में अयोध्या का अपना अलग स्थान है। ऐसे में इसकी सुरक्षा के लिए तमाम
कोलकाता: पश्चिम बंगाल में अब रद्द की जा चुकी शिक्षकों की भर्ती के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उन
नदिया : नदिया जिले की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बांग्लादेशी मवेशी तस्करों ने बीती रात BSF जवानों पर हमला कर दिया। इस
कोलकाता: राज्य के अधिकांश जिले भीषण गर्मी से तप रहा है। दक्षिण बंगाल के लोग भीषण गर्मी से बेहाल हैं।
नई दिल्ली: हिंदू धर्म शास्त्रों में एकादशी तिथि का विशेष महत्व है। हर माह दोनों पक्षों की एकादशी को एकादशी
हावड़ा: बीते दिन रानीगंज के बाद अब कोलकाता से सटे हावड़ा में दिनदहाड़े डकैती की वारदात हुई है। दरअसल, हावड़ा
नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने NEET गड़बड़ी को लेकर सुनवाई के दौरान नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) को नोटिस जारी किया
हावड़ा : हाल ही में हुई गार्डनरीच की घटना ने हावड़ा निगम की आंखें खोल दीं। इसके बाद निगम की ओर
कोलकाता: पार्क स्ट्रीट के पार्क सेंटर में भीषण आग लग गई है। घटनास्थल पर दमकल की 9 गाड़ियां मौजूद है।
कोलकाता: मोदी कैबिनेट का गठन हो चुका है। अब केंद्र सरकार की ओर से राज्य के लिए बड़ी खुशखबरी है।
ऊपर