West Bengal: बदल जाएगी बंगाल के इन 22 रेलवे स्टेशनों की सूरत, PM मोदी रखेंगे आधारशिला

कोलकाता: प्रधानमंत्री के नये भारत के सपने को साकार करने की दिशा में भारतीय रेलवे आधुनिकीकरण की दिशा में तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। इसके एक हिस्से के रूप में, अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत देश भर में 1300 से अधिक रेलवे स्टेशनों का अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ पुनर्विकास किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 फरवरी को अमृत स्टेशन योजना के तहत बंगाल (दक्षिण पूर्व रेलवे क्षेत्राधिकार के तहत) के 22 स्टेशनों की आधारशिला रखेंगे। इन 22 स्टेशनों के पुनर्विकास की कुल लागत 597.15 करोड़ रुपये अनुमानित है। इनमें आद्रा (15.34 करोड़), बांकुड़ा (11.82 करोड़), विष्णुपुर (7.92 करोड़), पुरुलिया (15.33 करोड़), जयचंडी पहाड़ (7.65 करोड़), बर्नपुर (7.63 करोड़), खड़गपुर (112.8 करोड़), मेचेदा (52.13 करोड़), तमलुक (16.69 करोड़), झाड़ग्राम (35.66 करोड़), बागनान (38.05 करोड़), मिदनापुर (57.28 करोड़), उलूबेड़िया (36.29 करोड़), आंदुल (लगभग 25.62 करोड़), पांशकुड़ा (51.27 करोड़), हिजली (21.41 करोड़), बेलदा (24.5 करोड़), दीघा (11.3 करोड़), हल्दिया (19.01 करोड़), सुइसा (11.28 करोड़), तुलिन (9.23 करोड़) और झालिदा (8.94 करोड़) हैं। शहर के दोनों किनारों के उचित एकीकरण के साथ इन स्टेशनों को ‘सिटी सेंटर’ के रूप में विकसित करने के लिए मास्टर प्लान तैयार किए जा रहे हैं।

‘वन स्टेशन वन प्रोडक्ट’ योजना से कारीगरों को मदद मिलेगी और स्थानीय उत्पादों की ब्रांडिंग में मदद मिलेगी।

स्टेशनों पर नियोजित सुविधाएं इस प्रकार हैं : पुराने भवन के स्थान पर सभी सुविधाओं (अर्थात प्रतीक्षालय, बुकिंग कार्यालय, अग्रभाग, कार्यकारी लाउंज, कैफेटेरिया, शौचालय आदि) के साथ नया स्टेशन भवन। प्लेटफाॅर्मों और प्लेटफाॅर्म आश्रयों की सतह में सुधार। चौड़ी सड़कों के साथ सुगम पहुंच। सौंदर्यपूर्ण, विस्तृत और अच्छी रोशनी वाला प्रवेश द्वार व बरामदा। नए प्लेटफार्म शेल्टरों और सभी प्लेटफार्मों का प्रावधान।

यात्री अनुभव और सुरक्षा को बढ़ाना : वाहन पार्किंग का पुनर्गठन और अनुकूलन। साइनेज और नेविगेशन, साइनेज के माध्यम से आसान नेविगेशन के माध्यम से यात्री अनुभव को बढ़ाते हैं। सहज गति, स्थानीय कला और संस्कृति का अनुभव, स्टेशन और परिसर के भीतर खुले स्थानों में एकीकृत कला। पूरे स्टेशन पर निगरानी सुनिश्चित करने के लिए सीसीटीवी कैमरे। सार्वजनिक उद्बोधन प्रणाली पूरे स्टेशन परिसर में यात्रियों को महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में संबोधित करने के लिए पीए प्रणाली की पहुंच को बढ़ाना।

दिव्यांगजनों की पहुंच के उपाय : साइनेज, घोषणा प्रणाली, वेबसाइट और मोबाइल ऐप द्वारा सूचना प्रणाली पहुंच प्रदान करना। प्रवेश रैंप, आरक्षित पार्किंग, कम ऊंचाई वाले काउंटर, विकलांगों के अनुकूल शौचालय और निकास के पास सहायता बूथ द्वारा स्टेशन तक पहुंच प्रदान करना। स्पर्श पथ, सुलभ शौचालय, कम ऊंचाई वाले वॉटर बूथ, एफओबी रैंप का मार्गदर्शन करके प्लेटफ़ॉर्म पहुंच प्रदान करना। दृष्टिबाधितों के लिए ब्रेल लिपि में साइनेज का प्रावधान आदि है। ये अमृत रेलवे स्टेशन अपनी विरासत पर गर्व करने का प्रतीक बनेंगे और हर नागरिक में गौरव जगाएंगे।

Visited 88 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

Kolkata के इस इलाके में बढ़ी चोरी की वारदातें, रोकने में पुलिस भी नाकाम

कोलकाता: शहर के एक इलाके में बीते कुछ दिनों से चोरी के मामले बढ़ गये है। जोड़ासांको थाना इलाके में बीते कुछ दिनों में चोरी आगे पढ़ें »

ऊपर