विद्यार्थी अध्ययन में अपनी पहली भाषा का विकल्प चुनने के लिए स्वतंत्र हैं : ब्रात्य

दूसरी और तीसरी भाषा का विकल्प इलाके की आबादी पर निर्भर करेगा
सन्मार्ग संवादाता
कोलकाता : पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने मंगलवार को कहा कि विद्यार्थी अध्ययन में अपनी पहली भाषा का विकल्प चुनने के लिए स्वतंत्र हैं और राज्य सरकार उसमें हस्तक्षेप नहीं करेगी। बंगाल में सबको बंग्ला पढ़ना होगा, लेकिन यह जरूरी नहीं है कि इसे फर्स्ट लैंग्वेज के तौर पर ही लेना होगा। मंत्री ब्रात्य बसु ने मंगलवार को यह बात स्पष्ट की। उन्होंने कहा कि कोई चाहे तो कोलकाता में फर्स्ट लैंग्वेज के तौर पर बंग्ला ले सकता है और दार्जिलिंग में चाहे तो नेपाली ले सकता है। बसु ने संवाददाताओं से कहा कि दूसरी और तीसरी भाषा का विकल्प किसी खास इलाके की जनसंख्यिकी और जातीय सरंचना पर निर्भर करेगा। उन्होंने कहा, ‘छात्र पहली भाषा चुनने को स्वतंत्र हैं। कोलकाता में आप बांग्ला को पहली भाषा के तौर पर चुनने के लिए स्वतंत्र हैं। दार्जिलिंग की पहाड़ियों में आप नेपाली को अपनी इच्छानुसार पहली भाषा के तौर पर चुन सकते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘राज्य के कुछ इलाकों में छात्र अलचिकी या राजबंशी को पहली भाषा के तौर पर चुन सकते हैं। आप उर्दू को भी पहली भाषा के तौर पर चुन सकते हैं।’ बसु ने जोर देकर कहा कि सरकार की इच्छा बांग्ला भाषा को दूसरी भाषा के तौर पर थोपने की नहीं है। उन्होंने कहा, ‘दूसरी और तीसरी भाषा का विकल्प पूरी तरह से आबादी की परिपाटी और उसकी जातीय संरचना पर निर्भर है।’ उन्होंने कहा कि राज्य शिक्षा नीति की सिफारिशों को स्कूलों में बोर्ड और परिषद लागू करेगा जबकि कॉलेज में इसे विश्वविद्यालय लागू करेंगे। पश्चिम बंगाल माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 10वीं कक्षा की और पश्चिम बंगाल उच्च माध्यमिक शिक्षा परिषद 12वीं कक्षा की अंतिम परीक्षा कराते हैं। अधिकारी ने बताया कि पश्चिम बंगाल की नयी शिक्षा नीति के अनुसार, पांचवी से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए तीन भाषाओं को पढ़ना अनिवार्य होगा जिसमें बांग्ला को प्राथमिकता दी जाएगी। अधिकारी ने सोमवार को राज्य मंत्रिमंडल द्वारा मंजूरी प्राप्त नीति के बारे में बताया कि प्राथमिक कक्षाओं में दो भाषाएं पढ़ाई जाएंगी जिनमें एक मातृभाषा होगी।

Visited 118 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Weather Update: बंगाल में भीषण गर्मी के बीच आज 3 जिलों में बदलेगा मौसम, कहां-कहां होगी बारिश ?

कोलकाता: बंगाल में लोगों को लू और गर्म हवा का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो गर्मी की लहर अभी कम आगे पढ़ें »

SSC के बाद TET प्रश्नपत्र का मामला, कलकत्ता हाईकोर्ट ने दिया निर्देश

कोलकाता: SSC घोटाले के बाद अब बारी TET 2017 से जुड़े मामलों की है। आज कलकत्ता हाईकोर्ट ने इस पर बड़ा आदेश दिया। बता दें आगे पढ़ें »

ऊपर