Odisha Train Accident : कोई आईकार्ड नहीं, घरवाले भी थे अनजान, पोर्टल से हुई 185 पीड़ितों की पहचान

शेयर करे

संचार साथी पोर्टल ने की ओडिशा ट्रेन हादसे के 185 पीड़ितों की पहचान में मदद
चेहरा पहचानने की तकनीक से पीड़ितों का मोबाइल नंबर लिया और पोर्टल से खोजा डिटेल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : ओडिशा के बालासोर ट्रेन हादसे के बाद वहां का मंजर बहुत डरावना था। जगह-जगह खून से पटरियां लाल थीं। लाशों का अंबार लगा था। घायलों की चीख-पुकार मची थी। रेस्क्यू ऑपरेशन जारी था। कई घायल गंभीर रूप से जख्मी थे जो कुछ भी बोल पाने की स्थिति में नहीं थे। तमाम घायलों के परिजन इस बात से अनजान थे कि उनका कोई अपना ट्रेन हादसे में जख्मी है। ऐसे में पीड़ितों के परिजनों तक हादसे के बारे में सूचना पहुंचाना अपने आप में बड़ी चुनौती थी। न कोई आधार कार्ड, न ही कोई दूसरा आईकार्ड। उनकी पहचान हो तो कैसे। इन सबके बीच भारत सरकार के एक संचार साथी पोर्टल ने बड़ा काम किया। वैसे तो यह पोर्टल खोए हुए मोबाइल फोन को ट्रैक करने के लिए बना है लेकिन इसने कम से कम 185 पीड़ितों की पहचान में मदद की। घटना में जान गंवाने वाले 64 लोगों की पहचान भी इसी पोर्टल से हुई। लोगों के खोए हुए मोबाइल फोन को ट्रैक करने और उसे ब्लॉक करने के लिए बने संचार साथी पोर्टल ने राहत और बचाव के काम के वक्त रेलवे और अन्य सरकारी एजेंसियों की बहुत बड़ी मदद की। पीड़ितों की पहचान करने और उनका मोबाइल नंबर जानने के लिए चेहरा पहचान करने की तकनीक का इस्तेमाल किया गया। टेलीकम्युनिकेशन डिपार्टमेंट कोलकाता के एक वरिष्ठ अधिकारी सुशांत गिरि ने सन्मार्ग को बताया कि एक बार जब सिस्टम में मोबाइल नंबर फीड किया गया तो हमें उन यात्रियों के नाम, पता और दूसरे कॉन्टैक्ट नंबरों के बारे में जानकारी मिल गयी। बताया जाता है कि जिन 100 शवों की पहचान नहीं हो पाई थी उनमें से 64 की पहचान करने में पोर्टल ने मदद की। इस वजह से इनमें से 48 यात्रियों के परिजनों को जानकारी दी जा सकी। संचार साथी पोर्टल को रेलवे और टेलिकॉम मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव ने पिछले महीने ही लॉन्च किया था। गौरतलब है कि 2 जून को ओडिशा के बालासोर में हुए भीषण ट्रेन हादसे में 288 लोगों की मौत हुई थी। हादसा तब हुआ जब बहानगा बाजार रेलवे स्टेशन के पास कोरोमंडल एक्सप्रेस मेन लाइन के बजाय लूप लाइन में चली गई और उसके 21 डिब्बे बेपटरी हो गए। ये डिब्बे बगल से गुजर रही बंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस से टकरा गये। पास में एक मालगाड़ी भी खड़ी थी। इस तरह इस हादसे में तीन ट्रेनें शामिल थीं। ये भारत में अब तक के सबसे भीषण हादसों में से एक था जिसमें 288 लोगों की मौत हुई और 1175 लोग जख्मी हुए।

Visited 159 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

बकरीद पर ब्लू लाइन में 214 और ग्रीन लाइन-1 में 90 मेट्रो सेवाएं होंगी उपलब्‍ध कोलकाता : बकरीद के अवसर
कोलकाता: दक्षिण बंगाल में अगले चार से पांच दिनों में मॉनसून प्रवेश करेगा। मौसम विभाग ने बंगाल में मानसून को लेकर
कोलकाता : बेलघरिया के रथतल्ला मोड़ के पास चलती कार पर गोलीबारी की गई है। व्यवसाई अजय मंडल को लक्ष्य
कोलकाता : यात्रियों की अतिरिक्त भीड़ को कम करने के लिए पूर्व रेलवे की ओर से शनिवार और रविवार को
बड़े भाई को बचाने के चक्कर में छोटा भाई समुद्र में डूबा दीघा : दीघा समुद्र में डूब रहे बड़े
कोलकाता : खास कोलकाता में बीच सड़क पर गोली चली है। कोलकाता के मिर्जा गालिब स्ट्रीट पर शुक्रवार आधी रात
कोलकाता: दक्षिण बंगाल में कई दिनों से भीषण गर्मी पड़ रही है। ऐसे में लोगों के मन में ये सवाल
नई दिल्ली: इटली में G7 शिखर सम्मेलन का आयोजन हो रहा है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए हैं।
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सी। वी। आनंद बोस ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर पूछा कि
गर्मी के कारण मॉल और रेस्टोरेंट बिजनेस 25% तक हुआ कम महानगर के मॉल में फूड कोर्ट है काफी खाली
कोलकाता : महानगर में पर्यटन को बढ़ावा देने और प्लास्टिक से ढके फूड स्टालों से छुटकारा पाने के लिए कोलकाता
नई दिल्ली: आधार कार्ड आज के समय में सबसे महत्वपूर्म दस्तावेज बन चुका है। यह आपकी नागरिकता का प्रमाण होने
ऊपर